ऑफिस ब्लूज़ मिटाने के 8 टिप्स (Office Blues Erase 8 Tips)


संडे के बाद मंडे ऑफिस जाने का मूड भला किसका होता है, लेकिन ये मंडे ब्लूज़ क्या पूरे हफ़्ते आपको सताता है और आप बोझिल होकर ऑफिस का काम करते हैं? अगर हां, तो अब टेंशन छोड़िए और अपनाइए ये ट्रिक्स.

फ्लैक्सिबल रहें
करियर में ही नहीं, बल्कि जीवन के हर मोड़ पर फ्लैक्सिबल होना ज़रूरी है. ख़ुद को लार्जर दैन लाइफ बनाने की कोशिश ही अक्सर हमारे दुख का कारण होती है. इससे हमारा ध्यान हमेशा इस बात पर रहता है कि हम से कोई ग़लती न हो जाए. हर काम में परफेक्शन और ऑफिस में सबकी नज़रों में अपनी अच्छी छवि बनाए रखने के चक्कर में अक्सर लोग प्रेशर में आ जाते हैं और तनावग्रस्त हो जाते हैं. अतः अपने काम को लेकर हमेशा फ्लैक्सिबल रहें.

सीखने की इच्छा
‘क्या नया करना है… वही ऑफिस, वही लोग और वही पुराना काम’  इस तरह की सोच रखने वाले लोग कभी भी, कहीं भी ख़ुद को ख़ुश नहीं रख पाते. ऑफिस में हर दिन एक नए उत्साह के साथ जाएं और काम को और भी दिलचस्प तरी़के से करने की कोशिश करें. इंटरनेट आदि के माध्यम से अपनी सोच का दायरा बढ़ाएं ताकि आपको अपने काम के बारे में और जानकारी मिले तथा काम में नयापन आए. इससे आप हर रोज़ ऑफिस जाने और अपने काम को उत्साह के साथ करने के लिए आतुर रहेंगे.

काम से करें प्यार
‘वर्क इज़ वर्शिप’ ये कहावत तो आपने सुनी ही होगी, लेकिन आप इसे क्या सच में अपनाते हैं? नहीं ना, तो अब करके देखिए, आपको अच्छा लगेगा. काम के प्रति लगाव ही काम को मज़ेदार बनाता है.

तन्मयता (कॉन्सन्ट्रेशन)
लगन के बिना किसी भी काम को करना आसान नहीं है. जब आप ऑफिस में रहते हैं, तो ये बात और भी ज़रूरी हो जाती है. बॉस द्वारा दिए गए कार्य को जब तक आप पूरी लगन के साथ नहीं करेंगे आपको काम के प्रति लगाव नहीं होगा और मन में बार-बार ऑफिस से जाने की बात आएगी.

हेल्दी कॉम्पटीशन
कार्यस्थल पर सकारात्मक प्रतिस्पर्धा रखना जहां आपके कार्य को निखारता है और आपको सफलता की ओर ले जाता है, वहीं अपने सहकर्मियों से ईर्ष्या भाव रखना आपको पीछे ढकेलता है. ऑफिस में किसी की सफलता और पॉप्युलैरिटी से जलने की बजाय उससे सीखें और ख़ुद भी तरक्क़ी करने की सोचें. जलन रखकर आप अपनी मानसिकता ख़राब करते हैं और धीरे-धीरे ऑफिस में आपकी बुराई शुरू हो जाती है. ऐसे में कई बार लोग या तो ऑफिस छोड़ देते हैं या अपने काम से बोर होने लगते हैं

भावनाएं साझा करें
ऑफिस में आठ घंटे के दौरान स़िर्फ काम ही करते रहने और अपने तक सीमित रहने से आप परेशान हो जाते हैं. अंदर ही अंदर किसी बात को लेकर चल रही माथापच्ची काम से आपका ध्यान भटकाती है और ऑफिस में आपका मन नहीं लगता. इससे काम पर बुरा प्रभाव तो पड़ता ही है, आपकी प्रवृत्ति भी नकारात्मक होने लगती है. ऑफिस में किसी एक को अपना दोस्त बनाएं और उससे अपनी परेशानियां और ख़ुशी साझा करें. ऐसा करने से आप अच्छा महसूस करेंगे और ऑफिस में आपका मन भी लगा रहेगा.

लंच टाइम और टी टाइम
लंच टाइम का मतलब स़िर्फ खाना खाने से नहीं होता. इस समय खाने के साथ आप अपने सहकर्मियों के साथ मज़ाक-मस्ती भी करें. कुछ समय के लिए ऑफिस से बाहर घूमने जाएं. ऐसे ही शाम को स्नैक्स और चाय के साथ भी दूसरे लोगों के साथ बातचीत करें.

ऑफिस पार्टी या पिकनिक
ऑफिस में स़िर्फ काम करके आप अपनी दिनचर्या को और बोझिल बना देते हैं. ऑफिस ब्लूज़ को कम करने के लिए ऑफिस पार्टी या पिकनिक एक बेहतर ज़रिया है. महीने में एक बार सहकर्मियों के साथ एक छोटी-सी पार्टी ऑर्गनाइज़ करें या उन्हीं दोस्तों के साथ बाहर पिकनिक मनाने जाएं. इससे उत्साहित रहेंगे और काम के प्रति आपकी रुचि बढ़ेगी.

स्मार्ट टिप्स
अपने काम से संबंधित कोई पार्ट टाइम कोर्स करें, जिससे आपके काम में सुधार आए.

  • ऑफिस के दायरे में बंधकर ही न रहें. बाहरी दुनिया की जानकारी भी रखें.
  • अपने क्षेत्र से जुड़ी नई जानकारियां इकट्ठा करते रहें. इससे आप ख़ुद में बदलाव पाएंगे और काम के प्रति आपका लगाव भी बढ़ेगा.
  • दिन के काम की लिस्ट तैयार करें और उसके अनुसार ही चलें. इससे आपका काम भी पूरा होगा और बोरियत भी नहीं होगी.
  •  संडे को ही अपने हफ़्तेभर के काम की लिस्ट तैयार कर लें.
  • रात में ही ऑफिस बैग और आउटफिट की तैयारी कर लें ताकि सुबह जल्दबाज़ी में कुछ भूले नहीं.
  • काम में मन लगे इसके लिए बहुत ज़रूरी है कि सुबह हेल्दी नाश्ता करके निकलें. इससे आपका मूड फ्रेश रहेगा.
  • योगा व एक्सरसाइज़ से तनाव कम होता है, इसलिए प्रतिदिन 10 मिनट ही सही, लेकिन वर्कआउट ज़रूर करें.
  • ऑफिस की किसी बात से अगर मूड ख़राब हो जाए, तो उसी दिन उसका हल निकालें. दूसरे दिन भी उस बात को याद रखने से आपका काम में मन नहीं लगेगा.
  • पहले से ही वीकेन्ड के बारे में न सोचें. इससे पूरे हफ़्ते आपका ध्यान काम पर कम और आने वाली छुट्टी पर ज़्यादा रहेगा.
Meri Saheli Team :
© Merisaheli