किडनी को नुकसान पहुंचाती हैं ये 10 आदतें (10 Habits Which Are Harmful For Your Kidney)

मार्च को वर्ल्ड किडनी डे के रूप में मनाया जाता है. इस अवसर को हम आपको कुछ ऐसी आदतों (Habits Which Are Harmful For Your Kidney) के बारे में बता रहे हैं, जो किडनी को नुक़सान पहुंचाती हैं.


अहम् है किडनी की भूमिका
सेहतमंद रहने के लिए आपकी किडनी का स्वस्थ होना बेहद ज़रूरी है. किडनी व्यक्ति के शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने का काम करती है, ताकि व्यक्ति स्वस्थ रह सके. यह शरीर से हानिकारक टॉक्सिन्स को बाहर निकालकर ख़ून को फिल्टर करती है. यह हार्मोन्स बनाने के साथ ही ज़रूरी मिनरल्स को भी एब्जॉर्ब करती है. यूरिन बनाने के अलावा यह शरीर में एसिड के लेवल को कंट्रोल करती है. किडनी की अहमियत को जानते हुए भी कई बार हम जाने-अंजाने में कई ऐसी आदतों को अपना लेते हैं जो किडनी के लिए घातक बन जाती हैं. चलिए, जानते हैं ऐसी ही 10 आदतें, जो किडनी की सेहत के लिए अच्छी नहीं होतीं.
प्रोटीन का अत्यधिक सेवन
ज़रूरत से ज़्यादा प्रोटीन का सेवन करना किडनी के लिए नुक़सानदेह होता है. ख़ासकर ज़रूरत से ज़्यादा रेड मीट खाने से किडनी पर दबाव बढ़ जाता है, जिससे किडनी को अपना काम करने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है. इसका नतीज़ा यह होता है कि आपकी किडनी समय से पहले ख़राब हो सकती है. इसलिए संतुलित मात्रा में ही प्रोटीन का सेवन करें.
विटामिन्स की कमी
अच्छी सेहत और सेहतमंद किडनी के लिए ज़रूरी है कि आपके शरीर में विटामिन्स और मिनरल्स की कमी न होने पाए. डायट में विटामिन बी 6 और विटामिन डी की कमी से किडनी डैमेज़ होने और किडनी स्टोन होने का ख़तरा बढ़ जाता है, इसलिए अपनी डायट में ताज़ी हरी सब्ज़ियों और फलों को शामिल करें.
कम पानी पीना
भरपूर मात्रा में पानी का सेवन न स़िर्फ शरीर को डीहाइड्रेट होने से बचाता है, बल्कि शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में किडनी की मदद भी करता है. जब हम कम पानी पीते हैं तो शरीर में मौजूद विषैले तत्व बाहर नहीं निकल पाते हैं, जो किडनी को नुक़सान पहुंचाने के साथ ही शरीर को कई बीमारियां दे सकते हैं.
देर तक पेशाब रोकना
क्या आप जब भी घर से कहीं बाहर जाते हैं तो पब्लिक बाथरूम इस्तेमाल करने से बचने के लिए देर तक पेशाब को रोककर रखते हैं? अगर आप ऐसा करते हैं तो आपकी यह आदत किडनी को ख़राब करने की सबसे बड़ी वजह बन सकती है. देर तक पेशाब रोकने से किडनी पर दबाव पड़ता है इसलिए यूरिन को देर तक रोकने की ग़लती न करें.
अधिक मात्रा में नमक का सेवन
अगर आप अत्यधिक मात्रा में नमक या सोडियम का सेवन करते हैं तो यह आपकी किडनी के लिए ख़तरे की घंटी बन सकती है. नमक का अत्यधिक सेवन हाई ब्लडप्रेशर का कारण बन सकता है, जिसका दुष्प्रभाव सीधे तौर पर किडनी पर पड़ता है. ब्लडप्रेशर कंट्रोल करने के साथ ही किडनी को सेहतमंद बनाए रखने के लिए दिनभर में 5 ग्राम से अधिक नमक का सेवन करने से बचें.
ज़्यादा मीठा खाना
अधिकांश लोग मीठी चीज़ों को देखकर ख़ुद को कंट्रोल नहीं कर पाते हैं. मीठी चीज़ों से प्यार डायबिटीज़ का कारण बन सकता है और डायबिटीज़ की वजह से किडनी से जुड़ी बीमारियों का ख़तरा बढ़ जाता है.

ये भी पढ़ेंः दिल के लिए घातक हैं ये 6 आदतें

एक्सरसाइज़ न करना
नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करनेवाले लोगों से बीमारियां भी कोसों दूर भागती हैं. लेकिन जो लोग रोज़ाना एक्सरसाइज़ नहीं करते हैं उन्हें कई बीमारियां अपना शिकार बना सकती हैं. एक्सरसाइज़ करने से ब्लडप्रेशर कंट्रोल में रहता है, जो किडनी की सेहत के लिए बहुत ज़रूरी है. हेल्दी किडनी के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करें.
दवाओं का अत्यधिक सेवन
बहुत से लोग सिरदर्द, बदनदर्द जैसी छोटी-मोटी समस्याओं से निजात पाने के लिए अक्सर दर्द निवारक दवाओं का सेवन करते हैं. ये दवाएं दर्द से भले ही राहत दिला देती हैं, लेकिन इनका दुष्प्रभाव किडनी पर पड़ता है. बहुत ज़्यादा पेनकिलर्स खाने से किडनी को पूरी तरह से ख़राब होने का ख़तरा बढ़ जाता है. इससे बचने का सबसे बेहतरीन तरीक़ा यह है कि किसी भी दवा का सेवन करने से पहले डॉक्टरी सलाह अवश्य लें.
ब्लडप्रेशर की जांच न कराना
हाई ब्लडप्रेशर की शिक़ायत होने के बावजूद अधिकांश लोग अपना बीपी समय-समय पर चेक नहीं कराते हैं, जबकि हाई ब्लडप्रेशर किडनी को नुक़सान पहुंचा सकता है. इसलिए समय-समय पर अपने ब्लड प्रेशर को चेक कराते रहें. नहीं तो आपका बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर आपकी किडनी को क्षतिग्रस्त कर सकता है.
अल्कोहल का सेवन
अत्यधिक मात्रा में अल्कोहल का सेवन करने से किडनी पर दबाव बढ़ जाता है. ज़रूरत से ज़्यादा शराब पीने से बॉडी डीहाइड्रेट होती है. आपकी यह आदत शरीर के सभी ऑर्गन्स की कार्यप्रणाली को बाधित करती है. इससे किडनी और लिवर पर बुरा प्रभाव पड़ता है और यह दोनों को ख़राब कर सकता है.
ये भी पढ़ेंः अपनी किडनी को नैचुरली कैसे रखें स्वस्थ?

Shilpi Sharma :
© Merisaheli