बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए उन्हें खिलाएं ये 10 सुपरफूड (10 Immunity Boosting Foods For Kids)

बढ़ते बच्चों के सही विकास के लिए उन्हें हर तरह के पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है. यदि आप चाहते हैं कि आपका बच्चा शारीरिक…

बढ़ते बच्चों के सही विकास के लिए उन्हें हर तरह के पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है. यदि आप चाहते हैं कि आपका बच्चा शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ रहे, तो उसकी इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बच्चे की डायट में शामिल करें ये 10 सुपरफूड.

1) दूध
हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए दूध का सेवन सबसे ज़रूरी है. दूध में कैल्शियम, फॉस्फोरस, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट जैसे पोषक तत्व होते हैं जो शरीर के लिए काफी लाभदायक होते हैं. बच्चे अगर दूध पीने से मना करते हैं तो आप उन्हें अलग-अलग प्रकार के मिल्कशेक आदि बनाकर भी दूध दे सकती हैं.

2) दही
कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर दही बच्चों के दांत व हड्डियों को मज़बूत बनाने में मदद करता है. ये पाचन में भी मदद करता है. ताज़े फल के साथ बच्चे को दही खिलाना फ़ायदेमंद होता है.

3) अंडा
डॉक्टर्स के अनुसार, बच्चों के दैनिक आहार में 45-55 ग्राम प्रोटीन होना ज़रूरी है. रोज़ एक अंडे का सेवन उन्हें प्रोटीन की भरपूर मात्रा देता है जिससे उनके दिमाग़ का भी विकास होता है. इसके अलावा अंडे में दर्जन भर से ज़्यादा ज़रूरी विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं. इसके साथ ही अंडे में कोलीन नामक पोषक तत्व भी भरपूर मात्रा में होता है, जो मस्तिष्क के विकास के लिए बेहद ज़रूरी है. अंडे को बॉयल, फ्राई या किसी भी अन्य रूप में बच्चे को दें.

4) पालक
पालक आयरन, कैल्शियम, फॉलिक एसिड, विटामिन ए और सी का अच्छा स्रोत है. जो बच्चों के मानसिक विकास और मज़बूत हड्डियों के लिए ज़रूरी है. पालक बहुत जल्दी पक जाता है. आप पालक को गरम सूप, टोमैटो सॉस या फ्रैंकी में डालकर भी बच्चे को दे सकती हैं.

5) तुलसी
इसमें एंटीऑक्सीटेंड, विटामिन ए, सी, के, आयरन, पोटैशियम और कैल्शियम होता है, जो बच्चे के डाइजेशन सिस्टम को ठीक रखता है. कई रिसर्च से पता चला है कि तुलसी सिरदर्द से राहत दिलाने में भी कारगर है. अगली बार जब आप पास्ता बनाएं तो थोड़े तुलसी के पत्ते पीसकर सॉस में मिला लें.

6) बेरीज़
ब्लूबेरी, स्ट्रॉबेरी और रासबेरी में पोटैशियम, विटामिन सी, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और एंटीऑक्सीडेंट होता है. इसमें फैट और कोलेस्ट्रॉल नहीं होता. क्योंकि इनका स्वाद मीठा होता है इसलिए बच्चे इसे पसंद करते हैं. इन्हें आप ओटमील, दही या दलिया आदि में मिक्स करके बना सकती हैं.

7) ओटमील
कई रिसर्च से ये साबित हुई है कि ओटमील खाने वाले बच्चे पढ़ाई में अच्छी तरह कॉन्संट्रेट कर पाते हैं, जिससे स्कूल में उनका परफॉर्मेंस अच्छा रहता है. फाइबर से भरपूर ओटमील धीरे-धीरे पचता है और बच्चे को एनर्जी देता है.

8) स्वीट पोटैटोज़
फाइबर, कैल्शियम और विटामिन ए से भरपूर स्वीट पोटैटो बच्चों को खाने में दें. बच्चों को देने से पहले इन्हें ओवन में फ्राई करें इसका टेस्ट उन्हें और भी पसंद आएगा.

यह भी पढ़ें: अपने बढ़ते बच्चों को ऐसे सिखाएं बॉडी हाइजीन का ख्याल रखना (Personal Hygiene Tips For Pre-Teens And Teenagers)

9) होलग्रेन ब्रेड
बच्चों के टिफिन में ब्रेड, खेलकूद कर आए तो नाश्ते में ब्रेड, जल्दी और आराम से बनने वाले डिशेज़ में ब्रेड ज़्यादातर पैरेंट्स और बच्चों की पहली पसंद बनती जा रही है. ऐसे में बच्चे को पौष्टिक आहार देने के साथ-साथ उसका एनर्जी का स्तर भी बढ़ाने के लिए व्हाइट ब्रेड की बजाय होलग्रेन या होल व्हीट ब्रेड जिसमें आयरन, ज़िंक, फॉलिक एसिड, कैल्शियम और विटामिन ए व डी की भरपूर मात्रा होती है खाने को दें. डॉक्टर्स के अनुसार, आजकल बच्चों का वज़न तो आसानी से बढ़ जाता है लेकिन जब बात एनर्जी के स्तर की होती है तो वो उसमें फेल हो जाते है. ऐसे में होलवीट ब्रेड काफी लाभदायक होती है.

10) पीनट बटर
साधारण बटर की तुलना में पीनट बटर काफी न्यूट्रीशियस होता है. इसमें आयरन, प्रोटीन, फाइबर और विटामिन बी की भरपूर मात्रा होती है. 2 टेबलस्पून पीनट बटर 28 प्रतिशत प्रोटीन की मात्रा के बराबर होता है.

यह भी पढ़ें: बच्चों के रोग: बच्चों को होने वाली आम बीमारियों के 72 घरेलू उपाय (72 Home Remedies For Common Kids’ Ailments)

बच्चों को सही-गलत फूड की पहचान कैसे कराएं?

बच्चे ज़्यादातर आदतें अपने माता-पिता से सीखते हैं. ऐसे में क्या करना, खाना-पीना, बोलना सही है ये पैरेंट्स को भी ध्यान में रखना चाहिए ख़ासतौर पर जब बच्चे सामने हों.

  • अगर बच्चे खाना खाने में नख़रे करें तो उन्हें खाना जल्दी खत्म करने के लिए पुरस्कार दें. लेकिन पुरस्कार में जंक फूड खिलाने के लिए कभी हामी ना भरें.
  • टेस्टी डिप या सॉसेस भी बच्चे काफी पसंद करते हैं जिसे आप सब्ज़ी के साथ सर्व कर सकती हैं.
  • बच्चों पर कोई नयी चीज़ टेस्ट करने के लिए दबाव ना डालें. इससे वे ज़िद्दी हो सकते हैं. उन्हें सिर्फ एक बाइट खाने के लिए बोलें ताकि वे ख़ुद अपनी पसंद-नापसंद समझ सकें.
  • हेल्दी डायट लेने के लिए आप उनके सामने ऐसे लोगों का उदाहरण रखें जो शारीरिक रूप से काफी स्ट्रॉन्ग हों. ताकि बच्चे भी ऐसे लोगों से प्रेरणा ले सकें.
  • बच्चों को हर समय कुछ न कुछ खाने के लिए चाहिए होता है इसलिए घर पर हमेशा हेल्दी स्नैक्स ही रखें.
  • बच्चों के साथ-साथ पैंरेट्स को भी हेल्दी खाने की आदत डालनी चाहिए.
  • लंच या डिनर की प्लैनिंग करते समय बच्चों की सलाह भी लें. साथ ही कभी-कभी सब्ज़ियों का चुनाव उनसे भी करवाएं.
  • अगर बच्चे फल ना खाएं तो उन्हें फलों से बने हेल्दी शेक और स्मूदीज़ भी दे सकती हैं.
  • पैक्ड फूड की बजाय बच्चों को घर का बना खाना ही दें.
  • बच्चों को पूरे परिवार के साथ बैठकर खाना खाना सिखाएं.
  • बच्चों की पसंद के अनसार कभी-कभी जंक फूड भी दे सकती हैं. इससे उनमें किसी चीज़के लिए लालसा की भावना उत्पन्न नहीं होगी.
  • फ्राइड फूड की बजाय बेक्ड फूड आइट्म्स बच्चों को खाने के लिए दें.
  • हरी साग-सब्ज़ियों को आप सूप के ज़रिए भी दे सकती हैं.

Recent Posts

अजवाइन का पानी वज़न घटाने के साथ शरीर को रखता है फिट और हेल्दी (Ajwain Water For Weight Loss And Other Health Benefits)

महिलाएं अजवाइन का उपयोग रसोई के मसाले के रूप में करती हैं. अजवाइन भोजन को…

पहला अफेयर: अलविदा! (Pahla Affair… Love Story: Alvida)

क्या अब भी कोई उम्मीद बाक़ी है तुम्हारे आने की? क्या अब भी कोई हल्की सी गुंजाइश बची है हमारी मोहब्बत की? क्योंआज भी हर आहट पर धड़क उठता है मेरा दिल, क्यों आज भी रह-रहकर ये महसूस होता है कि तुम हो, कहीं आसपास हीहो… लेकिन बस निगाहों से न जाने क्यों ओझल हो!  सात बरस गुज़र गए जय तुमको मेरी ज़िंदगी से गए हुए लेकिन मैं आज भी, अब भी उसी मोड़ पर रुकी तुम्हारा इंतज़ार कररही हूं… एक छोटी-सी बात पर यूं तनहा छोड़ गए तुम मुझे! मैं तो अपने घर भी वापस नहीं जा सकती क्योंकि सबसेबग़ावत करके तुम्हारे संग भागकर शादी जो कर ली थी मैंने. शुरुआती दिन बेहद हसीन थे, हां, घरवालों की कमी ज़रूरखलती थी पर तुम्हारे प्यार के सब कुछ भुला बैठी थी मैं. लेकिन फिर धीरे-धीरे एहसास हुआ कि तुम्हारी और मेरी सोच तोकाफ़ी अलग है. तुमको मेरा करियर बनाना, काम करना पसंद नहीं था, जबकि मैं कुछ करना चाहती थी ज़िंदगी में.  बस इसी बात को लेकर अक्सर बहस होने लगी थी हम दोनों में और धीरे-धीरे हमारी राहें भी जुदा होने लगीं. एक दिनसुबह उठी तो तुम्हारा एक छोटा-सा नोट सिरहाने रखा मिला, जिसमें लिखा था- जा रहा हूं, अलविदा!… और तुम वाक़ई जा चुके थे…  मन अतीत के गलियारों में भटक ही रहा था कि डोरबेल की आवाज़ से मैं वर्तमान में लौटी!  “निशा, ऑफ़िस नहीं चलना क्या? आज डिपार्टमेंट के नए हेड आनेवाले हैं…” “हां रेखा, बस मैं तैयार होकर अभी आई…” ऑफिस पहुंचे तो नए हेड के साथ मीटिंग शुरू हो चुकी थी… मैं देखकर स्तब्ध थी- जय माथुर! ये तुम थे. अब समझ मेंआया कि जब हमें बताया गया था कि मिस्टर जे माथुर नए हेड के तौर पर जॉइन होंगे, तो वो तुम ही थे. ज़रा भी नहीं बदले थे तुम, व्यक्तित्व और चेहरे पर वही ग़ुरूर!  दो-तीन दिन यूं ही नज़रें चुराते रहे हम दोनों एक-दूसरे से, फिर एक दिन तुम्हारे कैबिन में जब मैं अकेली थी तब एक हल्कीसे आवाज़ सुनाई पड़ी- “आई एम सॉरी निशा!” मैंने अनसुना करना चाहा पर तुमने आगे बढ़कर मेरा हाथ पकड़ लिया- “मैं जानता हूं, ज़िंदगी में तुम्हारा साथ छोड़कर मैंनेबहुत बड़ा अपराध किया. मैं अपनी सोच नहीं बदल सका, लेकिन जब तुमसे दूर जाकर दुनिया को देखा-परखा तो समझआया कि मैं कितना ग़लत था, लड़कियों को भी आगे बढ़ने का पूरा हक़ है, घर-गृहस्थी से अलग अपनी पहचान औरअस्तित्व बनाने की छूट है. प्लीज़, मुझे माफ़ कर दो और लौट आओ मेरी ज़िंदगी में!” “क्या कहा जय? लौट आओ? सात साल पहले एक दिन यूं ही अचानक छोटी-सी बात पर मुझे यूं अकेला छोड़ तुम चलेगए थे और अब मुझे कह रहे हो लौटने के लिए? जय मैं आज भी तुम्हारी चाहत की गिरफ़्त से खुद को पूरी तरह मुक्त तोनहीं कर पाई हूं, लेकिन एक बात ज़रूर कहना चाहूंगी कि तुमने मुझसे अलग रहकर जो भी परखा दुनिया को उसमें तुमने येभी तो जाना ही होगा कि बात जब स्वाभिमान की आती है तो एक औरत उसके लिए सब कुछ क़ुर्बान कर सकती है. तुमनेमेरे स्वाभिमान को ठेस पहुंचाई और अपनी सुविधा के हिसाब से मेरी ज़िंदगी से चले गए वो भी बिना कुछ कहे-सुने… औरआज भी तुम अपनी सुविधा के हिसाब से मुझे अपनी ज़िंदगी में चाहते हो!  मैं ज़्यादा कुछ तो नहीं कहूंगी, क्योंकि तुमने भी जाते वक़्त सिर्फ़ अलविदा कहा था… तो मैं भी इतना ही कहूंगी- सॉरीबॉस!”…

© Merisaheli