साल 2016 रहा इनके नाम (2016 Women Achievers)

Women Achievers

बात चाहे खेल के मैदान की हो या बिज़नेस की हमारे देश की महिलाएं हर क्षेत्र में अपने हुनर का लोहा मनवा चुकी हैं. पिछले साल हुए रियो ओलंपिक में बेटियों ने ही देश का मान बढ़ाया, वहीं बिज़नेस के क्षेत्र में भी कई महिलाओं ने अपना परचम लहराया. ग्लैमर वर्ल्ड में भी महिलाओं का बोलबाला रहा.

स्पोर्ट्स अचीवर्स
खेल की दुनिया में छाई रहीं ये महिलाएं

sakshi mallik

साक्षी मलिक
रियो ओलंपिक में देश को पहला मेडल दिलाकर साक्षी ने महिलाओं के साथ ही देश का मान भी बढ़ाया. 58 किलोग्राम की फ्री-स्टाइल रेसलिंग में साक्षी ने ब्रॉन्ज़ मेडल पर कब्ज़ा किया. साक्षी का ये मेडल इसलिए और ख़ास था, क्योंकि रियो की शुरुआत से ही भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक था, ऐसे में साक्षी के मेडल से सबकी उम्मीदें और हौसला बढ़ा था. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का गौरव बढ़ानेवाली हरियाणा के एक छोटे-से गांव की पहलवान बेटी साक्षी मलिक जल्द ही शादी के बंधन में बंधने वाली हैं.

Women Achievers

पीवी सिंधु
ओलंपिक में देश को पहला सिल्वर मेडल दिलानेवाली बैडमिंटन प्लेयर पीवी सिंधु हाल ही में चाइना ओपन के साथ-साथ सैयद मोदी ग्रैंड प्रिक्स गोल्ड बैडमिंटन टूर्नामेंट का ख़िताब भी अपने नाम कर चुकी हैं. ओलंपिक सिल्वर मेडल जीतनेवाली वो पहली भारतीय महिला हैं. पीवी सिंधु का पूरा नाम पुसरला वेंकट सिंधु है. मात्र 8 साल की उम्र से बैडमिंटन खेलनेवाली सिंधु विश्‍व बैडमिंटन रैंकिंग में महिला सिंगल्स में दो पायदान के फ़ायदे के साथ सातवें स्थान पर पहुंच गई हैं. 2015 में सिंधु को पद्मश्री और 2016 में राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया.

Women Achievers
दीपा करमाकर
अगरतला की 23 साल की जिमनास्ट दीपा भले ही ओलंपिक मेडल से चूक गई हों, मगर अपने बेहतरीन प्रदर्शन से उन्होंने सबका दिल जीत लिया था. ओलंपिक के फाइनल में पहुंचनेवाली वो पहली महिला जिमनास्ट थीं. 6 साल की उम्र से ही जिम्नास्टिक की प्रैक्टिस करनेवाली दीपा ने 2014 कॉमनवेल्थ गेम्स में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतकर लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया. बेहतरीन खेल के लिए दीपा को अर्जुन अवॉर्ड भी मिल चुका है. सुनने में आया है कि दीपा पर एक किताब लिखी जाएगी, जिसमें उनके कोच बिश्‍वेश्‍वर नंदी सह लेखक की भूमिका निभाएंगे. इस किताब का नाम ङ्गदीपा करमाकर: द स्मॉल वंडरफ होगा, जिसमें उनके जीवन में आई बाधाओं और जीत की कहानी बयां की जाएगी, जबकि इसमें करमाकर के निजी एलबम के कुछ फोटोज़ और ओलंपिक व राष्ट्रमंडल खेलों के फोटो भी शामिल होंगे.

Women Achievers
दीपा मलिक
36 साल की दीपा मलिक ने रियो पैरालिंपिक में महिलाओं की शॉटपुट स्पर्धा में सिल्वर मेडल जीतकर सबको हैरान कर दिया. पैरालाइज़्ड दीपा के कमर के नीचे का हिस्सा काम नहीं करता, मगर इससे उनके हौसले में कोई कमी नहीं आई है. शॉटपुट के अलावा उन्हें जैवलिन थ्रो, तैराकी और मोटर रेस में भी दिलचस्पी है. इतना ही नहीं, वो अपना रेस्टोरेंट भी चलाती हैं. निश्‍चय ही दीपा की कामयाबी हज़ारों-करो़ड़ों लोगों के लिए किसी प्रेरणा से कम नहीं है.\

इंडियन ई कॉमर्स में है इन महिलाओं का दबदबा

पिछले कुछ सालों से भारत में स्टार्टअप बिज़नेस काफ़ी फल-फूल रहा है. इन स्टार्टअप की शुरुआत करनेवाली यंग जनरेशन में कई ऐसी महिलाएं भी शामिल हैं, जिन्होंने तमाम विरोधों और मुश्किलों को दरकिनार करते हुए ई-कॉमर्स बिज़नेस में अपनी अलग पहचान बनाई.

Women Achievers
स्वाति भार्गव

भारत में कैशबैक का कॉन्सेप्ट लॉन्च करने का श्रेय जाता है यंग एंड टैलेंटेड स्वाति भार्गव को. अंबाला की स्वाति भार्गव ने 2013 में CashKaro.com की शुरुआत अपने पति के साथ मिलकर की और 3 सालों में वेबसाइट बेहद पॉप्युलर हो गई है. ऑनलाइन शॉपिंग करनेवालों के लिए ये डिस्काउंट पाने का बेहतरीन ज़रिया है. लंदन में पढ़ाई और नौकरी के दौरान ही स्वाति को कैशबैक कॉन्सेप्ट का आइडिया मिला. दरअसल, स्वाति ने पहले 2011 में यूके में पोरिंग पाउंड्स नामक कैशबैक वेबसाइट शुरू की और उसकी सफलता के बाद उन्हें महसूस हुआ कि भारत में कैशबैक कॉन्सेप्ट के लिए बहुत स्कोप है. बस, फिर क्या था, उरीहघरीे.लेा के रूप में उन्होंने कामयाबी की नई इबारत लिख दी.

Women Achievers

फाल्गुनी नायर
18 साल तक इन्वेस्टमेंट बैंकर के रूप में काम करने के बाद फाल्गुनी नायर ने 2012 में ब्यूटी और ई-कॉमर्स पोर्टल Nykaa.com की स्थापना की. आज महिलाओं के बीच ये वेबसाइट काफ़ी पॉप्युलर है. इस वेबसाइट की ख़ासियत ये है कि इसमें महिलाओं की त्वचा की ज़रूरत के हिसाब से उन्हें प्रोडक्ट बेचे जाते हैं. यही वजह है कि कम समय में ये महिलाओं ख़ासकर यंग जनरेशन के बीच काफ़ी पॉप्युलर हो गई.
Women Achievers
रिचा कर

पॉप्युलर लॉन्जरी बेवसाइट ज़िवामे ((Zivame)  की को-फाउंडर और सीईओ रिचा भले ही आज बेहद सफल बिज़नेसवुमन बन गई हैं, मगर उनके लिए अपनी अलग सोच को अमली जामा पहनना बेहद मुश्किल रहा. शुरुआत में उन्हें अपनी मां के ही विरोध का सामना करना पड़ा. 2011 में जब उन्होंने इस बिज़नेस की शुरुआत की तो उनकी मां ने कहा था कि वे अपनी सहेलियों को कैसे बताएंगी कि उनकी बेटी कंप्यूटर पर ब्रा और पैंटी बेचती है. लोग उनके बिज़नेस पर हंसते थे, मगर तमाम मुश्किलों के बावजूद उनके हौसले कम नहीं हुए और आज उनकी 270 करोड़ की कंपनी ज़िवामे देश का सबसे बड़ा प्रीमियर ऑनलाइन अंडरगार्मेंट स्टोर बन गया है. इतना ही नहीं, ये महिलाओं को सही साइज़ की ब्रा ख़रीदने के लिए भी प्रेरित करता है.
Women Achievers
सुची मुखर्जी

पॉप्युलर फैशन वेबसाइट लाइमरोड (Limeroad.com) की शुरुआत सुची मुखर्जी ने की. वो इसकी संस्थापक और सीईओ हैं. कैंब्रिज यूनिवर्सिटी और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पढ़ाई करनेवाली सुची मुखर्जी ने जब अपनी ई-कॉमर्स कंपनी लॉन्च करने की सोची, तो उन्हें लोगों की कुछ ऐसी राय मिली कि तुम लड़की हो, ये काम तुम्हारे बस का नहीं, मगर सुची ने ऐसी सलाह देनेवालों की एक न सुनी और मंज़िल की तरफ़ बढ़ती रहीं. आज उनकी कंपनी 2 लाख महिलाओं को रोज़गार दे रही है.
Women Achievers
उपासना टाकु
भारत में तेज़ी से मशहूर होते मोबाइल वॉलेट Mobikwik की को-फाउंडर व डायरेक्टर हैं. उन्होंने अपने पति बिपिन प्रीत सिंह के साथ मिलकर 2009 में मोबाइल वॉलेट और ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम की शुरुआत की. अब तो इसका मोबाइल ऐप भी आ चुका है. हाल ही में Mobikwik ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ मिलकर मोबाइल ऐप से ऑन डिलीवरी भुगतान की सुविधा शुरू कर चुका है. Mobikwik पॉप्युलर ई वॉलेट में से एक है.
393857-pc-hi-reso Women Achievers
ग्लैमर वर्ल्ड में इनकी रही चर्चा

* बॉलीवुड की मस्तानी दीपिका पदुकोण को एशिया की सबसे सेक्सी महिला का ख़िताब मिल चुका है. ब्रिटिश वीकली न्यूज़पेपर ईस्टर्न आई द्वारा  कराए गए यूके पोल में दीपिका को सबसे ज़्यादा वोट मिले. इससे पहले प्रियंका चोपड़ा चार बार एशिया की सबसे सेक्सी महिला होने का ख़िताब जीत  चुकी हैं

* प्रियंका चोपड़ा भले ही एशिया की सबसे सेक्सी महिला का ख़िताब जीतने में कामयाब न रही हों, मगर अपनी हॉलीवुड फिल्म व अमेरिकन टीवी शो  को लेकर चर्चा में बनी रहीं. मल्टी टैलेंडेट पिग्गी चॉप्स देश ही नहीं, विदेश में भी कामयाबी का परचम लहरा रही हैं.

* 2016 में कई महिला प्रधान फिल्मों ने न स़िर्फ दर्शकों का दिल जीता, बल्कि बॉक्स ऑफिस पर भी राज किया, इसमें ङ्गनीरजाफ और ङ्गपिंकफ  सबसे ज़्यादा पॉप्युलर रहीं.

 

* फोर्ब्स की 2016 की लिस्ट में दुनिया की 100 सबसे पावरफुल महिलाओं की सूची में 4 भारतीय महिलाएं भी शामिल हैं.
* स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की चेयरपर्सन अरुंधति भट्टाचार्य फोर्ब्स की 100 पावरफुल महिलाओं की सूची में 25वें पायदान पर हैं.
* आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ और एमडी चंदा कोचर इस लिस्ट में 40वें नंबर पर हैं.
* बायोकॉन कंपनी की चेयरमैन व एमडी किरण मजूमदार शॉ 2016 की फोर्ब्स की सूची में 77वें स्थान पर हैं.
* हिंदुस्तान टाइम्स की चेयरपर्सन व एडिटोरियल डायरेक्टर शोभना भरतिया को फोर्ब्स की लिस्ट में 93 रैंकिंग मिली है.

 

– कंचन सिंह