बच्चों के न खाने के बहाने: सेलिब्रिटी मॉम के ईज़ी सॉल्यूशन (4 Celebrity Mom Share Diet Tips To Kids)

बच्चे को खाना खिलाना और उनकी सेहत का ध्यान रखना मम्मियों के लिए बहुत बड़ा काम होता है. खाने की हर चीज़ को देखकर उनकी ना-ना से यदि आप भी परेशान हो चुकी हैं, तो समझिए आपकी समस्या हल हो गई. टेलीविज़न की सेलिब्रिटी मॉम बता रही हैं बच्चों के बहानों से निपटने के साथ ही उन्हें हेल्दी व टेस्टी खाना खिलाने के कारगर उपाय.

काम्या पंजाबी (Kamya Punjabi)  
मेरी बच्ची आरा खाना न खाने के हजारों बहाने बनाती है. कभी कहती है “मम्मी, मुझे अपनी फ्रेंड के घर जाकर खाना है.” तो कभी कहती है, “अरे मम्मा, स्कूल में तो टिफिन खाया था, कितना यमी टिफिन बनाया था आपने.” कई बार आरा को खाना खिलाने से पहले मुझे उसका माइंड डाइवर्ट करना पड़ता है, कभी टीवी पर उसका फेरवेट शो लगाकर, तो कभी उसके हाथ में लेपटॉप या मोबाइल थमाकर. गेम खेलते-खेलते वो खाना खा लेती है. आरा खाना खाए इसके लिए मैं कार्टून कैरेक्टर मिकी माउस, कैट, एंग्री बर्ड आदि के शेप की रोटियां भी बनाती हूं. ऐसी रोटियां वो ख़ुशी-ख़ुशी खा लेती है.

गौतमी कपूर (Gautami Kapoor) 
मेरा बेटा अक्स खाने से इस कदर जी चुराता है कि उसे अगर मैं लगातार दो दिन तक खाना न दूं, तब भी उसे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा. खाना न खाने का उसका सबसे ईज़ी बहाना है, “खाना बहुत तीखा है.” जबकि हमारे घर में तीखा खाना बनता ही नहीं. खाना खाने से बचने के लिए वो एक रोटी खाकर कहता है पेट भर गया, फिर दस मिनट बाद भूख लगी है कहकर स्नैक्स खाने लगता है. सब्जियां उसे ज़रा भी अच्छी नहीं लगतीं इसलिए मैं उसे स्मार्टली सब्ज़ियां खिलाने की कोशिश करती हूं, जैसे- कभी सब्ज़ियों को बारीक़-बारीक़ काटकर या कद्दूकस करके स्टफ परांठा बनाती हूं. इससे वो समझ नहीं पाता कि परांठे के अंदर कौन-सी सब्ज़ी है. उसे पनीर पसंद है, इसलिए मैं उसे पनीर-गाजर की सब्ज़ी बनाकर देती हूं. उसे फिश भी पसंद है, तो फिश के साथ मैं सलाद परोस देती हूं.

यह भी पढ़ें: पैरेंटिंग गाइड- बच्चों के लिए इम्युनिटी बूस्टर फूड

स्मिता बंसल (Smita Bansal)
मेरी बेटियां खाना न खाने के नए-नए बहाने बनाती रहती हैं, जैसे- “मम्मा, मेरे पेट में दर्द हो रहा है, मुझे उल्टी जैसा महसूस हो रहा है…” जब मैं समझ जाती हूं कि वो बहाना बना रही हैं, तो मैं ग़ुस्से से कह देती हूं कि अगर आपने खाना नहीं खाया तो मैं आपको खेलने नहीं जाने दूंगी, न ही टीवी देखने दूंगी. कभी प्यार से भी समझाती हूं कि बेटा, अगर आप खाना नहीं खाओगे तो आपको एनर्जी नहीं मिलेगी. आप बहुत जल्दी बूढ़े हो जाओगे. ऐसा कहने से वो ख़ुशी-ख़ुशी तो नहीं, पर खा ही लेती हैं. उन्हें जो सब्ज़ी पसंद नहीं आती, मैं उसकी प्यूरी बना देती हूं, ताकि उनकी समझ में न आए कि वो सब्ज़ी खा रही हैं.

 

गौरी प्रधान तेजवानी (Gauri Pradhan Tejwani) 
कात्या और नेवन दोनों जुड़वां हैं, इसलिए आदतों के साथ-साथ उनकी पसंद-नापसंद भी काफ़ी मिलती-जुलती है. (हंसते हुए) खाने के बहाने भी दोनों मिलकर बनाते हैं. शुरुआत से ही दोनों को मीठा खाना बिल्कुल पसंद नहीं, इसलिए मैं उन्हें बाकी मम्मियों की तरह खाना खाने के लिए चॉकलेट का लालच भी नहीं दे पाती. हां, उन्हें फिश बहुत पसंद है, इसलिए मैं उन्हें लालच देते हुए कहती हूं कि अगर तुम दोनों ने आज और कल दोनों टाइम अच्छी तरह खाना खाया, तो परसों मैं तुम दोनों के लिए तुम्हारी पसंद की फिश बनाऊंगी. ऐसा कहने पर बेमन से ही सही पर दोनों प्लेट का सारा खाना चट कर जाते हैं. उन्हें पोटैटो चिप्स खाना भी पसंद है इसलिए जब दोनों अच्छी तरह खाना खा लेते हैं, तो ईमान के तौर पर मैं दोनों को 2-2 चिप्स देती हूं.

यह भी पढ़ें: कैसे पता करें, बच्चा स्ट्रेस में है?

Kamla Badoni :
© Merisaheli