Categories: Finance Others

फाइनेंशियल प्लानिंग के दौरान इन 4 ग़लतफहमियों से बचें (Avoid These 4 Misunderstandings During Financial Planning)

आज की युवा पीढ़ी अपने महंगे शौक और हाई लाइफस्टाइल को कैरी करने के चक्कर सुरक्षित भविष्य को नज़रअंदाज़ कर…

आज की युवा पीढ़ी अपने महंगे शौक और हाई लाइफस्टाइल को कैरी करने के चक्कर सुरक्षित भविष्य को नज़रअंदाज़ कर रही है. उन्हें इस बात का अहसास तक नहीं होता है कि रिटायरमेंट के बाद भी वित की ज़रूरत पड़ेगी, जिसके लिए आज से निवेश करना बेहद ज़रूरी है. हम यहां पर युवाओं की कुछ ऐसी ग़लतफहमियों के बारे में बता रहे हैं, जो उनके सुरक्षित भविष्य में बाधक बन सकती है.

गलतफ़हमी नं. 1: रिटायरमेंट के लिए अभी से बचत करने की क्या ज़रूरत है.
कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो रिटायरमेंट प्लानिंग को गंभीरता से नहीं लेते हैं. उनका मानना है कि वृद्धावस्था में बच्चे उनका ख़्याल रखेंगे. लेकिन समय के साथ इस ग़लतफ़हमी को दूर करना ज़रूरी है. ऐसे लोगों को इस बात को समझना होगा कि यदि वह समय रहते ही सेविंग नहीं करेंगे, तो कंपाउंड या डबल जैसी वित्तीय योजनाओं का भरपूर लाभ नहीं उठा पाएंगे. जो लोग समय रहते रिटायरमेंट के लिए बचत करने में जितनी देरी लगाते हैं, उनके लिए रिटायरमेंट के समय फंडिंग इकट्ठा करना उतना ही मुश्किल होता है. उदाहरण के लिए- यदि आप 40 साल की उम्र में बचत करना आरंभ करते हैं, तो पारिवारिक ज़िम्मेदारियों के चलते उतनी बचत नहीं कर पाएंगे, जितना पहले कर सकते थे. दूसरा कारण यह है कि ज़्यादा बचत करने पर भी रिटायरमेंट के समय उतना नहीं बचा पाएंगे, जितना 30-35 की उम्र में कर सकते थे. अगर आप आरंभ से ही समझदारी के साथ बचत करेंगे, तो रिटायरमेंट के समय तक काफ़ी फंड जमा कर सकते हैं.

ग़लतफ़हमी नं. 2: रिटायरमेंट के बाद भी मेरी लाइफस्टाइल पहले जैसी ही रहेगी.
अधिकतर लोग इस ग़लतफ़हमी में रहते हैं कि रिटायरमेंट के बाद उनकी पारिवारिक ज़िम्मेदारियां (बच्चों की पढ़ाई व शादी, घर का लोन आदि) कम हो जाएंगी, जबकि ऐसा होता नहीं है. रिटायरमेंट के बाद अन्य ख़र्चे (जैसे- बीमारी का ख़र्च) सामने आते हैं. रिटायरमेंट की उम्र तक आते-आते मेडिकल ख़र्च 50% तक बढ़ जाता है. उदाहरण के लिए- 30 साल की उम्र में 3 लाख के हेल्थ इंश्योरेंस के लिए मात्र 2,500 रुपए का प्रीमियम देना होता है, जबकि 65 साल की उम्र तक आते-आते यह राशि 18,000 (अनुमानित राशि) तक हो जाती है, इसलिए रिटायरमेंट के लिए बचत करते समय अपनी हेल्थ को भी ध्यान में रखकर वित्तीय प्लािंनंग
करनी चाहिए.

और भी पढ़ें: कैसे बचें 9 बेसिक फाइनेंशियल ग़लतियों से? (Avoid 9 Basic Financial Mistakes)

ग़लतफ़हमी नं. 3: वसीयत बनाने में अभी देर है.
वित्तीय सलाहकारों का मानना है कि समय रहते ही वसीयत बना लेना सही रहता है. इसे रिटायरमेंट प्लानिंग की तरह भविष्य के लिए नहीं टालना चाहिए. अक्सर लोग रिटायरमेंट के बाद वसीयत बनाने की सोचते हैं, जो कि सही नहीं है. वसीयत न बनाने का नुक़सान यह होता है कि अगर किसी की आकस्मिक मृत्यु हो जाती है, तो उसकी मौत के बाद संपत्ति का सही हक़दार साबित करने में परेशानी होती है. आपका यह सोचना ग़लत है कि मृत्यु के बाद आपकी सारी संपत्ति ख़ुद-ब-ख़ुद आपके परिवार को मिल जाएगी. कई बार ऐसा होता है कि रिश्तेदार (जिसकी मृत्यु हुई है, उसके भाई-बहन आदि) भी आपकी संपत्ति पर अपना हक़ मांग सकते हैं. इसी तरह से बैंक आदि में निवेश करने के दौरान नॉमिनी का नाम देना ही काफ़ी नहीं होता, बल्कि नॉमिनी से जुड़ी सारी जानकारी देना भी ज़रूरी होता है, इसलिए संपत्ति के बंटवारे का ब्योरा वसीयत में ज़रूर करें. अच्छा तो यही होगा कि जैसे-जैसे आप संपत्ति (ज़मीन, घर, गाड़ी और पैसा) जोेड़ना शुरू करें, वसीयत बनानी शुरू कर दें. भविष्य में आप इसमें कभी-भी बदलाव कर सकते हैं.

ग़लतफ़हमी नं. 4: मुझे फाइनेंशियल प्लानर की ज़रूरत नहीं है.
अगर आपको कुछ वित्तीय पहलुओं की जानकारी है, तो इसका अर्थ यह नहीं है कि आप परफेक्ट फाइनेंशियल प्लानर हैं. उदाहरण के लिए- अगर बीमारी के शुरुआती चरण में डॉक्टर के पास इलाज के लिए जाते हैं, तो आरंभ में सही इलाज करके आपकी बीमारी की रोकथाम कर सकता है, फाइनेंशियल प्लानर भी ऐसा होता है, जो आपकी वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए आपके भविष्य को सुरक्षित बनाने के लिए वित्तीय मार्गदर्शन करता है. इसलिए समय-समय पर फाइनेंशियल प्लानर की सलाह लेते रहना चाहिए.

और भी पढ़ें: मनी सेविंग के 7 अमेज़िंग टिप्स (7 Amazing Tips For Money Saving)

– पूनम नागेंद्र शर्मा

Poonam Sharma

Recent Posts

पहली बार वरुण धवन बनेंगे ऑर्मी ऑफिसर (Varun Dhawan Will Play His Dream Role)

वरुण धवन की हमेशा से ही यह इच्छा रही है कि वे सैनिक की या फिर आर्मी की कोई भूमिका…

‘शक्ति अस्तित्व के एहसास की’ की प्रीतो उर्फ काम्या पंजाबी ने शेयर की हॉट बिकनी पिक्स (Kamya Panjabi flaunts her toned figure in a bikini; pens down a strong message on social media)

टीवी एक्ट्रेस काम्या पंजाबी, जो इन दिनों लोकप्रिय टीवी सीरियल शक्ति अस्तित्व के एहसास की में प्रीतो का किरदार निभा…

बिग बॉस 13ः क्या सलमान ख़ान की वजह से हुईं कोएना मित्रा बाहर (BB 13: Fans Are shocked With Koena Mitra Elimination)

इस वीकएंड पर बिग बॉस 13 में दर्शकों को डबल झटका देते हुए, एक नहीं बल्कि दो कंटेस्टेंट्स को घर…

बच्चों की शिकायतें… पैरेंट्स के बहाने… (5 Mistakes Which Parents Make With Their Children)  

अक्सर देखा गया है कि अभिभावकों को अपने बच्चों से ढेर सारी शिकायतें रहती हैं. उन्हें अक्सर कहते हुए देखा…

Karwa Chauth 2019: 5 टीवी एक्ट्रेस इस साल मनाएंगी अपना पहला करवा चौथ (First Karwa Chauth In 2019 Of 5 TV Actresses)

करवाचौथ को पॉप्युलर बनाने में बॉलीवुड और हिंदी सीरियल्स का बहुत बड़ा रोल है. हिंदी फिल्में और सीरियल्स देखकर महिलाओं…

शरद पूर्णिमा की शुभकामनाएं! (Happy Sharad Purnima!)

* शरद पूर्णिमा अश्‍विन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है. * इसे कोजागरी पूर्णिमा या रास पूर्णिमा भी कहते…

© Merisaheli