ऑफिस में रखें इन 5 बातों का ध्यान (5 Smart Tips To Maintain Office Discipline)


नौकरी करने वालों का सबसे ज़्यादा समय ऑफिस में ही बीतता है. ऐसे में बहुत ज़रूरी है किवहां आपका व्यवहार अच्छा हो. वैसे तो ऑफिस में कलीन से बात करने संबंधी कोई तय नियम नहीं है, फिर भी कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी है.


बहस न करें

ध्यान रखें कि ऑफिस आपका घर नहीं है और कलीग अपके कितने भी करीब क्यों न हो उनसे बात करते समय कुछ चीज़ों का ध्यान रखें. जैसे- अगर ऑफिस में अगर पॉलिटिक्स पर चर्चा हो रही हो, तो इस मामले में अबसका अपना मत और विचार हो सकते हैं और आप दूसरे के मत से सहमत नहीं हैं, तो अपनी असहमति जताने के लिए उनसे बहस न करें. उसे निजी रूप में लेना या फिर उसे अपने खिलाफ़ समझना ग़लत है. अपने कलीग की बात काटने के लिए बहस पर उतर जाने की ग़लती न करें. किसी भी बात पर अपनी असहमति जताकर आगे बढ़ जाएं.


सही शब्दों का इस्तेमाल करें

ऑफिस में बात करते समय इस बात का ध्यान रखें कि सामनेवाला आपकी बातों का सही मतलब समझ रहा है या नहीं. इसके लिए ज़रूरी है कि आप सही शब्दों का प्रयोग करें. अपने दोस्तों व परिवार से बात करते समय आप जिन शब्दों का यूज़ करते हैं, वही शब्द अपने कलीग्स के साथ यूज़ करें. किसी दोस्त से बात करते समय उसे बेवकूफ या पागल न कहें. ऐसा कहने पर वह बुरा मान सकता है.

और भी पढ़ें: कैसे हैंडल करें झगड़ालू कलीग्स को?


राज़ को राज़ रहने दें
करियर में आगे बढ़ने के लिएबॉस और कलीग्स का विश्‍वास जीतना बेहद ज़रूरी है. इसके लिए यदि कभी किसी कोई कलीग आप पर भरोसा करके आपसे अपना कोई सीक्रेट शेयर करता है, तो उसे ख़ुद तक सीमित रखें. दूसरों से शेयर करने की भूल न करें. वरना आप से कलीग का विश्‍वास उठ जाएगा.

न करें डबल मीनिंग वाले मज़ाक
ऑफिस में कभी बातों-बातों में लोग डबल मीनिंग वाले मज़ाक कर देते हैं, लेकिन ऐसा करते समय इस बात का ध्यान रखें कि सामने कौन है. यदि सामने कोई महिला सहकर्मी है, तो ऐसे मज़ाक न करें, जिससे वो असहज महसूस करे. यदि आप अपने मेल कलीग के साथ ऐसे मज़ाक करने में सहज है और उन्हें भी कोई परेशानी नहीं है, तो ऐसे मज़ाक करने में कोई हर्ज़ नहीं है. यदि काई आपसे ऐसे मज़ाक करें और आपको अच्छा न लगे , तो तुरंत विरोध करें.


बचें ऑफिस रोमांस से
जहां आप रोज़ाना दिन के 8-10 घंटे बिताते हैं, वहां किसी की तरफ़ आकर्षित हो जाना कोई बड़ी बात नहीं है. लेकिन जहां तक संभव हो इससे बचें. यदि आप किसी कलीग से रोमांस के मूड में है, तो उससे पहले कपंनी की एचआर पॉलिसी देख लें. क्योंकि कई कंपनियां इस बात की इजाज़त नहीं देती. ऑफिस रोमांस का आपके करियर पर नकारात्मक असर हो सकता है.

और भी पढ़ें: बॉस के फेवरेट बनने के 10 स्मार्ट टिप्स

 

Poonam Sharma :
© Merisaheli