सेक्स से जुड़े 7 मिथक जिन्हें सच मान लेते हैं पुरुष (7 Sex Myths Men Think Are True)

जब कोई पुरुष पहली बार किसी के साथ शारीरिक संबंध बनाने जाता है तो उसके मन में सेक्स से जुड़े कई सवाल आते हैं. हालांकि अपने मन में उठ रही इन शंकाओं को दूर करने के लिए वो इंटरनेट के अलावा कई माध्यमों से जानकारी भी इकट्ठा करता है. बावजूद इसके जिन लोगों ने पहले कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया है वो सेक्स से जुड़े मिथकों पर ज़्यादा ध्यान देते हैं. इसलिए जो लोग पहली बार किसी के साथ सेक्स संबंध बनाने जा रहे हैं, उन्हें इससे जुड़े 7 मिथकों की सच्चाई ज़रूर जान लेनी चाहिए.

 

 

क्यों ज़रूरी है सेक्स?

अपनी सुख-सुविधा वाली चीज़ों को पाकर व्यक्ति जितना ख़ुश होता है, उतनी ही ख़ुशी उसे सेक्स के ज़रिए मिलने वाले चरम सुख से मिलती है. इसलिए सेक्स को इंसान के लिए सबसे आनंददायक चीज़ों में से एक माना जाता है. सेक्स स़िर्फ जिस्मानी नहीं, बल्कि यह एक रूहानी संबंध होता है. यही वजह है कि कई विशेषज्ञ भी इस बात पर ज़ोर देते हैं कि एक बेहतर और सुखद जीवन के लिए अच्छी सेक्स लाइफ का होना बेहद ज़रूरी है.

1. मिथक- ज़्यादा देर तक इरेक्शन बनाए रखना ज़रूरी है.

सच्चाई- अधिकांश पुरुष या लड़के पहली बार सेक्स करने से पहले कई पोर्न वीडियोज़ देखते हैं, ताकि वो सेक्स के अलग-अलग पोज़ीशन ट्राई कर सकें. इसके साथ ही वीडियो में यह भी देखते हैं कि पुरुष 30-40 मिनट तक नॉनस्टॉप परफॉर्म कर रहा है, लेकिन रियल लाइफ में भी आप ज़्यादा देर तक परफॉर्म कर पाएं, ऐसा होना मुश्किल है. कई अध्ययनों में यह ख़ुलासा हुआ है कि अधिकांश पुरुषों में इरेक्शन 3-5 मिनट से ज़्यादा देर तक बरकरार नहीं रहता है.

2. मिथक- सेक्सुअल इंटरकोर्स के लिए फोरप्ले की ज़रूरत नहीं होती.

सच्चाई- कुछ अध्ययनों के मुताबिक़ महिला पार्टनर को ऑर्गेज़्म का अहसास दिलाने के लिए स़िर्फ वेजाइनल इंटरकोर्स ही काफ़ी नहीं है. सेक्सुअल इंटरकोर्स में फोरप्ले बहुत अहम् किरदार निभाता है. फोरप्ले से दोनों की कामोत्तेजना बढ़ती है और सेक्स का आनंद दोगुना हो जाता है. इसलिए अगर आप एक अच्छा पार्टनर बनना चाहते हैं तो इंटरकोर्स से पहले फोरप्ले करना न भूलें, क्योंकि यह सुखद सेक्स का सबसे बेसिक फंडा है.

3. मिथक- पहली बार में ही बेड पर बेहतर परफॉर्म करना ज़रूरी होता है.

सच्चाई- पहली बार सेक्स करने से पहले अधिकांश पुरुष यही सोचते हैं कि अगर उन्होंने बेड पर बेहतर तरी़के से परफॉर्म नहीं किया तो पार्टनर के सामने उनकी इमेज ख़राब हो जाएगी, लेकिन यह बिल्कुल भी ज़रूरी नहीं है कि पहली बार के सेक्स से ही आपको बेहतर अनुभव मिल जाए. इसलिए निराश होने के बजाय आपको धैर्य से काम लेना चाहिए, क्योंकि समय के साथ-साथ आपके परफॉर्मेंस में सुधार आएगा और आपको सेक्स का आनंददायक अनुभव भी प्राप्त होगा.

4. मिथक- सेक्स के लिए पेनिस का साइज़ बहुत अहमियत रखता है.

सच्चाई- अगर आपको लगता है कि आनंददायक सेक्स के लिए पेनिस का साइज़ बहुत मायने रखता है तो आप ग़लत हैं. कुछ अध्ययनों में इस बात का ख़ुलासा हुआ है कि सेक्स का भरपूर आनंद उठाने के लिए पेनिस का छोटा या बड़ा होना कोई मायने नहीं रखता. एक अध्ययन के मुताबिक़, माइक्रोपेनिस (यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति के पेनिस का साइज़ 3 इंच से भी कम हो जाता है) होने पर भी आप सेक्स का आनंद ले सकते हैं.

यह भी पढ़ें: सेक्स से जुड़े टॉप 12 मिथ्सः जानें हक़ीकत क्या है

यह भी पढ़ें: 7 टाइप के किस: जानें कहां किसिंग का क्या होता है मतलब?

5. मिथक- दो कंडोम साथ लगाने से डबल सेफ्टी मिलती है.

सच्चाई- कुछ लड़के या पुरुष ये सोचते हैं कि वो पहली बार सेक्स दो कंडोम लगाकर करेंगे, ताकि उन्हें डबल सेफ्टी भी मिले और अनचाही प्रेग्नेंसी का ख़तरा भी टल जाए, लेकिन हकीकत में ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता है. डबल कंडोम के इस्तेमाल से भले ही प्रेग्नेंसी का ख़तरा टल जाए, लेकिन इसके फटने की संभावना भी डबल हो जाती है.

6. मिथक- हस्तमैथुन करना सेहत के लिए हानिकारक है.

सच्चाई- हस्तमैथुन करना ग़लत नहीं है और यह सेहत के लिए किसी भी तरह से हानिकारक नहीं है. एक अध्ययन के अनुसार, मास्टरबेशन यानी हस्तमैथुन स्ट्रेस दूर करने का एक हेल्दी तरीक़ा है. इससे स्पर्म क्वालिटी बेहतर होती है, तनाव दूर होता है और प्रोस्टेट कैंसर का ख़तरा भी कम होता है.

7. मिथक- पीरियड्स में असुरक्षित सेक्स से कोई ख़तरा नहीं होता.

सच्चाई- इंटरनेट और दूसरे माध्यमों से सेक्स के बारे में जानकारी इकट्ठा करनेवाले कुछ लोग यह सोचते हैं कि पीरियड्स के दौरान असुरक्षित सेक्स में कोई हर्ज़ नहीं है. हालांकि वो इस बात को भूल जाते हैं कि इससे भले ही प्रेग्नेंसी की संभावना थोड़ी कम हो जाती है, लेकिन सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिज़ीज़ का ख़तरा कई गुना बढ़ जाता है.

डर को दूर भगाएं, आत्मविश्वास जगाएं

पहली बार सेक्स करते व़क्त कई पुरुषों को यह डर भी सताता है कि कहीं उनका शरीर उनके पार्टनर को पसंद नहीं आया तो? लेकिन यकीन मानिए अगर आप यही सोचते रहेंगे तो पार्टनर के साथ सेक्स एन्जॉय नहीं कर पाएंगे. हर व्यक्ति में कोई न कोई ख़ामी होती है इसलिए अपनी बॉडी को लेकर मन में उठ रहे डर को दूर भगाएं और आत्मविश्वास बनाए रखें.

ये भी पढें: सेक्स का राशि कनेक्शनः जानें किस राशिवाले कितने रोमांटिक?

Aneeta Singh :
© Merisaheli