क्या है आपकी ख़ुशी का पासवर्ड? (Art Of Living: How To Find Happiness?)

ख़ुशी की कोई परिभाषा नहीं, कोई फॉर्मूला नहीं… हर किसी के लिए ख़ुशी के मायने अलग-अलग होते हैं. हां, एक बात सभी पर लागू होती है कि ख़ुश रहना सबके लिए ज़रूरी है. आपकी ख़ुशी का पासवर्ड क्या है?

ताकि खिली रहे चेहरे पर मुस्कान
ज़िंदगी की भागदौड़, गलाकाट कॉम्पटीशन में अक्सर हम इतने उलझ जाते हैं कि अपनी छोटी-छोटी ख़ुशियों को भी नज़रअंदाज़ करने लगते हैं. कई बार तो ऐसा भी होता है कि हम ये तक भूल जाते हैं कि हमें ख़ुशी किस बात से मिलती है. ये वो संकेत हैं जब हम जाने-अनजाने कई बड़ी बीमारियों को न्योता दे रहे होते हैं. ऐसी स्थिति आने से पहले ही संभल जाना ज़रूरी है. हवा, पानी, भोजन की तरह ही ख़ुशी भी जीवन की खुराक है. इसके बिना आप हेल्दी लाइफ नहीं जी सकते. अतः अपनी अन्य ज़रूरतों की लिस्ट में ख़ुशी के लिए भी ख़ास जगह बनाएं और उसे अपने चेहरे से हटने न दें.

यूं बनाएं ख़ुशी का पासवर्ड
यदि आपको घूमने का शौक़ है और आप किसी ख़ास जगह घूमने जाना चाहते हैं, तो उसके लिए आज से ही थोड़ी-थोड़ी सेविंग करना शुरू कर दें. हर बार पैसे बचाते समय उस जगह के बारे में सोचकर ख़ुशी महसूस करें. फिर जब सेविंग हो जाए, तो टिकिट बुक करें और बुकिंग की तारीख़ या उस जगह के नाम को अपने मोबाइल या लैपटॉप का पासवर्ड बनाएं. फिर आप जब भी पासवर्ड टाइप करेंगे तो आपके चेहरे पर उस जगह पर जाने की ख़ुशी साफ़ झलकेगी. काम के बोझिल माहौल में भी आपकी ख़ुशी का पासवर्ड आपको रिफ्रेश कर देगा.

वजहें कई हैं 
यदि आप कोई महंगी ज्वेलरी ख़रीदना चाहती हैं, तो उसकी फोटो को अपने मोबाइल की डिसप्ले पिक्चर बनाएं. फिर जब भी आप अपना मोबाइल देखेंगी, तो अपनी पसंदीदा ज्वेलरी देखकर आपके चेहरे पर मुस्कान खिल जाएगी. ज्वेलरी की फोटो देखकर उसे ख़रीदने की उत्सुकता बढ़ेगी और आप बचत के लिए और तैयारी करने लगेंगी.

यह भी पढ़ें: हार से हारे नहीं… 


आज़माएं स्मार्ट ट्रिक्स
* वज़न घटाने के लिए स्लिम एंड सेक्सी पासवर्ड रख सकती हैं.
* घर ख़रीदने के लिए ड्रीम होम पासवर्ड रखें.
* पैरेंट्स बनना चाहते हैं तो माई बेबी शब्द का चुनाव कर सकते हैं.
* गाड़ी ख़रीदना चाहते हैं तो लॉन्ग ड्राइव शब्द को अपने लैपटॉप या मोबाइल का पासवर्ड बनाएं.

यह भी पढ़ें: शब्दों की शक्ति

छोटी-छोटी ख़ुशियां
ख़ुशी पाने के लिए महंगे होटल में खाना, इंटरनेशनल टूर आदि ज़रूरी नहीं हैं, छोटी-छोटी बातों से भी ख़ुशियां मिलती हैं. यकीन न हो तो आज़माकर देख लीजिए.
* दोस्तों से मिलने के लिए स्पेशल ओकेज़न का इंतज़ार न करें. हफ्ते या महीने में एक बार अपने दोस्तों से ज़रूर मिलें और हर वो काम करें जिससे आपको ख़ुशी मिलती है.
* बॉस ने आपको बिना वजह डांटा, लेकिन आप अपने बचाव में कुछ नहीं कह सके, तो काग़ज़-कलम उठाइए और अपने मन की भड़ास काग़ज़ पर उतार दीजिए. बॉस को जो भी कहना चाहते हैं, वो सब उस काग़ज़ पर लिख दीजिए और उस काग़ज़ को जला दीजिए. उसके बाद एक लंबी सांस लीजिए और खुलकर मुस्कुराइए. यकीन मानिए, आप बहुत हल्का महसूस करेंगे.
* लंबी छुट्टियों का इंतज़ार न करें, वीकेंड पर छोटी-सी ट्रिप प्लान करके भी आप ख़ुशी के पल जुटा सकते हैं.
* आपकी उम्र चाहे जो होे, अपने भीतर के बच्चे को कभी बड़ा न होने दें. उसे शरारतें करने दें, तभी आप ज़िंदगी की असली ख़ुशी महसूस कर सकेंगे.
* अपने शौक को कभी नज़रअंदाज़ न करें. डांस, स्पोर्ट्स, पेंटिंग… आपको जिस चीज़ का शौक हो, उसके लिए थोड़ा टाइम ज़रूर निकालें. इससे आपको कभी बोरियत नहीं महसूस होगी और आप ज़िंदगी से हमेशा प्यार करेंगे.
* ख़ुशी पाने से कहीं ज़्यादा ख़ुशी देने से संतुष्टि मिलती है इसलिए जीवन में ऐसे काम ज़रूर करें जिनसे आप दूसरों के चेहरे पर ख़ुशी बिखेर सकें. यक़ीन मानिए, उसकी ख़ुशी आपके चेहरे पर भी साफ़ नज़र आएगी.
– कमला बडोनी

अन्य मोटिवेशनल स्टोरीज़ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें: Jeene ki kala (Motivational Stories)
Kamla Badoni :
© Merisaheli