डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए डायट प्लान ( Diet Plan For Diabetic Person)

डायबिटीज़ के मरीज़ों को खान-पान पर बहुत ध्यान  देना चाहिए. इसी बात को ध्यान में रखते हुए हम बता रहे हैं कि डायबिटीज़ के मरीज़ों को क्या खाना ( Diet Plan For Diabetic Person) चाहिए और किन चीज़ों से परहेज़ करना चाहिए?


डायबिटीज़ के मरीज़ों को बैलेंस्ड डायट( Diet Plan For Diabetic Person) लेनी चाहिए, जिसमें 50-60 फ़ीसदी कार्बोहाइड्रेट, 15-20 फ़ीसदी प्रोटीन और 20-25 फ़ीसदी फैट और दूसरी चीज़ें शामिल हों. एक बार के खाने में 2-4 सर्विंग कार्ब ले सकते हैं.  मरीज़ खाने में ज़्यादा गैप न रखें. ज़्यादा गैप रखने से शुगर लेवल में उतार-चढ़ाव होता है. हर दो घंटे में कुछ खाएं. खाना थोड़ा-थोड़ा और बार-बार खाएं. न तो ज़्यादा देर भूखे रहें और न ही एक बार में ढ़ेेर सारा खाना खाएं. खाने की मात्रा भी क़रीब-क़रीब बराबर ही रखें.
क्या और कितना खाएं?
खा सकते हैं
कार्बोहाइड्रेट: चोकर वाला आटा, जौ, जई, रागी, दलिया, मल्टीग्रेन ब्रेड, काला चना, सोया, राजमा.
फल: सेब, चेरी, जामुन, मोसंबी, संतरा, स्ट्रॉबेरी, शहतूत, आलूबुखारा, नाशपाती, अंजीर.
सब्ज़ियां: ककड़ी, तोरी, टिंडा, सेम, शलजम, खीरा, चने का साग, सोया का साग, लहसुन, पालक, मेथी, आंवला, घीया.
अन्य: डबल टोंड दूध और उससे बनी चीज़ें, छिलके वाली दालें, मछली (बिना ज़्यादा तेल और मसाले वाली), फ्लैक्स सीड्स, छाछ आदि.
कम खाएं 
कार्बोहाइड्रेट: बिना चोकर का आटा, सूजी, सूजी के रस, ब्राउन ब्रेड, सफेद चना.
फल: अमरूद, पपीता, तरबूज़, खरबूजा.
सब्ज़ियां: अरवी, आलू, जिमीकंद, गोभी. मीठा: आर्टिफिशल स्वीटनर, खांड (बिना रिफाइन वाली शुगर).
अन्य: टोंड दूध और उससे बनी चीजें, बिना छिलके वाली दालें, अंडा, चिकन, बादाम, अखरोट, देसी घी, अच्छे तेल (सरसो, ऑलिव, कनोला, राइसब्रैन आदि)
न खाएं
कार्बोहाइड्रेट: सफेद चावल, मैदा, पूरी, समोसा, वाइट ब्रेड.
फल: आम, चीकू, अंगूर, केला.
सब्ज़ियां: शकरकंद, आलू, मीठा: मिठाई, चीनी, गुड़, शहद, गन्ना, आइसक्रीम, जैम, केक, पेस्ट्री, कुकीज़.
अन्य: फुल क्रीम दूध और उससे बनी चीजें, रेड मीट, कोल ड्रिंक्स, रिफाइंड ऑयल.
नोट: अगर शुगर के साथ-साथ कोई दूसरी बीमारी भी हो जैसे किडनी तो यह डायट लागू नहीं होगी. बेहतर यही होगा कि डॉक्टर की राय से ही अपना डायट चार्ट बनाएं.
ये भी है फ़ायदेमंद
1. डायबिटीज़ के मरीज़ करेला का पाउडर या जूस और घिया का जूस भी पी सकते हैं.
2. रोज़ाना आधा छोटा चम्मच दालचीनी का पाउडर लें. दालचीनी ख़ून में ग्लूकोज़ लेवल,  ब्लडप्रेशर और वज़न को भी कम करती है. इसे पानी के साथ या किसी सलाद आदि पर डालकर भी ले सकते हैं. गर्म चीज़ों में मिलाकर न लें. 18 साल से कम उम्र वाले और प्रेग्नेंट व दूध पिलानेवाली महिलाएं न लें.
नोट: डायट की डायरी रखें और जो भी खाएं, उसमें नोट करें.

ये भी पढ़ेंः 50 के बाद कैसा हो खान-पान?

Shilpi Sharma :
© Merisaheli