World Health Day: जानें आख़िर क्यों नहीं मिटती आपकी थकान ( Do You Feel tired all the time?)

7 April यानी आज के दिन पूरे विश्व में वर्ल्ड हेल्थ डे (World Health Day) मनाया जाता है. आज जिस तेज़ी से बीमारियां फैल रही हैं, उसे देखते हुए लगता है कि लोग अपनी सेहत के प्रति जागरूक नहीं हैं. काम के चक्कर में कई बार हम अपनी सेहत को अनदेखा कर देते हैं. सेहतमंद रहने के लिए सतर्कता बरतना बहुत ज़रूरी है.  कई बार होता है कि रात में समय पर सोने के बावजूद भी सुबह हम ऊर्जाहीन महसूस करते हैं और थकान दिनभर हमारा पीछा नहीं छोड़ती, जिसके कारण चिड़चिड़ापन और आलस्य महसूस होता है. अगर आपके साथ यह अक्सर होता है तो आपके लिए इसकी वजह जानना बहुत ज़रूरी है. वर्ल्ड हेल्थ डे(World Health Day) के अवसर पर हम आपको थकान न मिटने की वजहें बता रहे हैं.

आपके शरीर में पानी की कमी है
आठ घंटे की नींद लेने के बावजूद थकान व भारीपन महसूस करने की प्रमुख वजह शरीर में पानी की कमी हो सकती है. पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीने से ब्लड प्रेशर कम हो जाता है, जिससे मस्तिष्क को ऑक्सिजन धीमी गति से मिलता है. नतीज़तन सुबह उठने पर आप थका हुआ महसूस करते हैं. इसलिए दिनभर भरपूर मात्रा में पानी पीएं, सिर्फ़ रात में सोने से पहले नहीं, क्योंकि रात में सोने से पहले ज़्यादा पानी पीने से आपको रातभर वॉशरूम भागना पड़ सकता है.

 आप उचित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट ग्रहण नहीं कर रहे
कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा का प्रमुख स्रोत है. इसे डायट से पूरी तरह हटाने या एकदम कम मात्रा में ग्रहण करने से भी आप थका हुआ और ऊर्जाहीन महसूस करेंगे. जो लोग लो-कार्ब डायट के साथ कठिन एक्सरसाइज़ करते हैं, उनकी स्थिति और ख़राब हो जाती है. अतः समुचित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट का सेवन करें. पर ध्यान रखें, ज़्यादा कार्ब्स खाने से भी समस्या होती है, क्योंकि हमारे शरीर को इसे पचाने के लिए ज़्यादा मेहनत करनी पड़ती है.

आप ज़्यादा ड्रिंक करते हैं
आपकी ड्रिंकिंग हैबिट भी एक वजह हो सकती है. ज़्यादा अल्कोहल पीने से नींद तो आ जाएगी, लेकिन अल्कोहल में मौजूद केमिकल्स आपके स्लीप साइकल को डिस्टर्ब कर देते हैं, जिससे आप गहरी नींद में नहीं जाते. हम यह नहीं कह रहे कि आप अल्कोहल का सेवन बिल्कुल बंद कर दीजिए. लेकिन इसकी मात्रा कम कर दीजिए, ख़ासतौर पर रात के समय.

आपके शरीर में मिनरल्स की कमी है
मिनरल्स शरीर को संतुलित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. ये मसल्स को स्वस्थ रखने और रक्त में ग्लूकोज़ लेवल को बनाए रखने में मदद करते हैं. इनकी कमी होने पर आप थका हुआ महसूस करते हैं. इसलिए भरपूर मात्रा में हरी पत्तेदार सब्ज़ियां और मेवों का सेवन करें. इससे आपको अच्छी नींद आएगी और आप सुबह तरोताज़ा महसूस करेंगे.

आपका पाचनतंत्र सुचारु नहीं है
मेलैटोनिन अच्छी नींद के लिए बहुत ज़रूरी है. मेलैटोनिन के निर्माण के लिए सेरोटोनिन आवश्यक है, जो हमारे पेट में होता है और इसका उत्पादन आंतें करती हैं. पर्याप्त मात्रा में सेरोटोनिन के निर्माण के लिए पाचन तंत्र का सुचारु रूप से काम करना बहुत ज़रूरी है. अगर आप अच्छी नींद चाहते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि आपका डायजेस्टिव सिस्टम सही तरी़के से काम करें. इसके लिए अपने खाने में भरपूर मात्रा में फाइबर शामिल करें.

आप शारीरिक रूप से स्वस्थ नहीं हैं
शारीरिक रूप से स्वस्थ न होना भी इसका एक कारण हो सकता है. इसका अर्थ यह हुआ कि आपको थायरॉइड, आयरन की कमी या डायबिटीज़ जैसी समस्याएं हो सकती हैं. अगर आपको इनमें से कोई भी समस्या हो तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें.

आप मोटा तकिया लगाते हैं
मोटा-गद्देदार तकिया लगाकर सोना भले ही अच्छा लगता है, पर इससे तकलीफ बढ़ सकती है. ऊंचा तकिया लगाकर सोने पर रीढ़ के हड्डी का अलाइंमेंट बिगड़ जाता है. यह ठीक उसी तरह हुआ, जैसे आप को आठ घंटे सिर झुकाकर चलना पड़े.

अच्छी नींद के लिए ये आदतें अपनाएं
अगर आपको रात में अच्छी नींद नहीं आती तो इन आदतों का पालन करें.
इलेक्ट्रॉनिक्स त्याग देंः सेलफोन, टैबलेट, लैपटॉप, टीवी इत्यादि इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स से निकलने वाला आर्टिफिशियल लाइट मस्तिष्क को भ्रमित कर देता है, क्योंकि दिमाग़ लाइट को दिन से जोड़कर देखता है. उसे लगता है कि रोशनी होने पर जगा रहना चाहिए. इस भम्र के कारण बॉडी क्लॉक बाधित हो जाती है. नतीज़तन रात में अच्छी नींद नहीं आती और दिन में थकान व उबासी आती है.

रूम में अंधेरा करेंः सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स छोड़ने से काम नहीं चलेगा. अच्छी नींद के लिए कमरे की बत्तियां बुझा दें. अगर ऐसा मुमकिन न हो तो एक डिम लाइट या नाइट लाइट ही जलाकर रखें.

व्हाइट नॉइज़ सुनेंः सोने से पहले म्यूज़िक सुनने से आपको नींद तो आ जाएगी, लेकिन इससे आपकी नींद बाधित भी हो सकती है. अगर आपको सोने से पहले गाना सुनने की आदत है तो टाइमर लगा दें, ताकि सोते ही म्यूज़िक बंद हो जाए. आप व्हाइट नॉइज़ सुनें. पंखे या साउंड मशीन से निकलने वाला व्हाइट नॉइज़ एक रिदमिक साउंड क्रिएट करता है, जिससे रिलैक्स महसूस होता है.

सोने से पहले चाय-कॉफी न पीएंः इसमें मौजूद कैफीन सोने से पहले दिमाग़ को शांत करने के बजाय उसे सक्रिय कर देता है, जिससे नींद बाधित होती है.
ये भी पढ़ेंः इन 10+ बीमारियों से आराम दिलाती है अजवाइन

Shilpi Sharma :
© Merisaheli