डैंड्रफ से छुटकारा पाने की ईज़ी रेसिपीज़

कभी तन्हा से ये मोड़ कुछ सिमट जाते हैं, कभी सूने ये रास्ते गुलज़ार हो जाते हैं… जब तेरी ज़ुल़्फें बिखरती हैं, तो हर लम्हा महक उठता है… हर तरफ़ फूल बिखर जाते हैं… रेशमी रातें कैद होकर इनमें ख़ुद पर इतराती हैं… नर्म उजाले इन्हें छूकर ख़ुद पर गुमान करते हैं… ख़ुशबू के डेरे हैं इनमें, मखमली अंधेरे हैं… गुलों की नर्मी भी है… ये बादल घनेरे हैं…

दही और कालीमिर्च

रिसर्च: बॉडी में यीस्ट की मात्रा जब बढ़ जाती है, तो उससे इंफ्लेमेशन बढ़ जाता है. ऐसे में फ्रेंडली बैक्टीरिया इंफ्लेमेशन से लड़ने में सहायक होते हैं. दही इन्हीं हेल्दी बैक्टीरिया को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे स्काल्प पर यीस्ट की परत नहीं जमती और डैंड्रफ से छुटकारा मिलता है. जबकि कालीमिर्च एंटीफंगल होती है.

रेमेडी: 2 टेबलस्पून कालीमिर्च को पीसकर एक कप दही में मिला लें. इस मिश्रण को स्काल्प पर लगाएं. ध्यान रहे कि यह स्काल्प पर ही लगे, बालों पर नहीं. एक घंटे बाद रिंस करके माइल्ड शैंपू से वॉश करें.

फ़ायदा: दही और कालीमिर्च का मिश्रण डैंड्रफ के लिए बहुत ही प्रभावी उपाय है, लेकिन ध्यान रखें कि दही और कालीमिर्च ताज़ा हो.

ऑलिव ऑयल

रिसर्च: ऑलिव ऑयल दो तरी़के से डैंड्रफ को ट्रीट करता है. पहला, यह स्काल्प के ड्राय हिस्से को मॉइश्‍चराइज़ करके पपड़ी नहीं जमने देता. दूसरा, ऑलिव ऑयल पपड़ी की मोटी परत में भी एब्ज़ॉर्ब हो जाता है, जिससे डैंड्रफ की समस्या धीरे-धीरे ख़त्म होने लगती है.

रेमेडी: सोने से पहले रोज़ाना ऑलिव ऑयल को हल्का गर्म करके उससे स्काल्प मसाज करें. बालों को कवर करके सोएं, ताकि धूल-मिट्टी के कण चिपके नहीं. सुबह शैंपू कर लें.

फ़ायदा: ऑलिव ऑयल को गर्म करने पर उसकी कंसिस्टेंसी बेहतर हो जाती है, जिससे वो ड्राय हिस्से को आसानी से ट्रीट कर सकता है.

विनेगर

रिसर्च: विनेगर में स्काल्प के फंगस और बैक्टीरिया को ख़त्म करने की क्षमता होती है. इसके अलावा यह ड्राय स्किन को भी ठीक करता है, इसलिए जो डैंड्रफ फंगस के कारण नहीं होते, उन्हें भी ट्रीट करता है. इसमें मौजूद एसिड खुजली को कम करता है और स्काल्प फ्लेकी स्किन को ठीक करता है.

रेमेडी: विनेगर से स्काल्प मसाज करें. मसाज अच्छी तरह से होनी चाहिए, ताकि स्काल्प में विनेगर एब्ज़ॉर्ब हो सके. आप चाहें, तो एक टेबलस्पून विनेगर को पानी के मग में मिलाकर फाइनल रिंस के लिए इस्तेमाल कर सकती हैं. सबसे बेहतर तरीक़ा है कि पहले दो कप विनेगर को बॉइल कर लें. ठंडा होने पर उसका आठवां भाग 1 कप पानी में मिलाकर शैंपू से पहले बालों में डालें.

फ़ायदा: विनेगर का एसिड उन प्रोडक्ट्स के मुक़ाबले डैंड्रफ को बेहतर तरी़के से ठीक कर सकता है, जो डैंड्रफ ट्रीटमेंट का दावा करते हैं.

बेकिंग सोडा

रिसर्च: बेकिंग सोडा डैंड्रफ पैदा करनेवाले फंगस की क्रियाशीलता को कम करता है. यह माइल्ड स्क्रब भी है, जो स्काल्प की डेड स्किन और अतिरिक्त ऑयल को निकाल देता है.

रेमेडी: अपने शैंपू में 1 टीस्पून बेकिंग सोडा मिलाकर हेयर वॉश करें. सिंगल वॉश से ही डेड स्किन और फ्लेक्स निकल जाएंगे.

फ़ायदा: चूंकि यह डेड स्किन को निकाल देता है, तो स्काल्प नेचुरल ऑयल्स का निर्माण सामान्य रूप से करने लगता है, जिससे बाल व स्काल्प हेल्दी रहते हैं.

नींबू और कोकोनट ऑयल

रिसर्च: डैंड्रफ होने का एक बड़ा कारण होता है स्काल्प के पीएच बैलेंस का असंतुलित होना. नींबू स्काल्प का पीएच बैलेंस बनाए रखने में मदद करता है और नारियल तेल में कंडीशनिंग और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ होती हैं.

रेमेडी: एक भाग नींबू के रस को पांच भाग नारियल के तेल में मिला लें. इससे स्काल्प में मसाज करें और आधे घंटे बाद हेयर वॉश करें.

फ़ायदा: नींबू के रस में जो एसिड होता है, वो डैंड्रफ को दूर रखता है और नारियल तेल के साथ मिलाने पर लाभ कई गुना बढ़ जाता है.
एलोवीरा

रिसर्च: एलोवीरा में एंटीफंगल और एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ होती हैं. यह डेड स्किन सेल्स को भी निकालने में काफ़ी कारगर है.
रेमेडी: एलोवीरा जेल को सकाल्प में अप्लाई करें. 15 मिनट बाद शैंपू कर लें. यह नियमित रूप से करें, काफ़ी फ़ायदा होगा.

फ़ायदा: एलोवीरा में हीलिंग प्रॉपर्टीज़ भी होती हैं, तो यह न स़िर्फ स्काल्प को क्लीन करता है, बल्कि उसको हील और सूद भी करता है, जो डैंड्रफ को दूर रखने के लिए परफेक्ट है.

नीम

रिसर्च: नीम में एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं.

रेमेडी: नीम के पत्तों को आधा घंटा उबालें. इसका पेस्ट बना लें और स्काल्प पर लगाएं. आधे घंटे बाद बाल धो लें.

फ़ायदा: नीम के गुणों को सभी जानते हैं, वो स्काल्प को हेल्दी रखकर डैंड्रफ की समस्या दूर करने में काफ़ी फ़ायदेमंद है.

सेब

रिसर्च: सेब का बालों से क्या लेना-देना यह सोचकर बहुत लोग हैरान होंगे, लेकिन कच्चे सेब में एक प्राकृतिक तत्व होता है, जो हेयर ग्रोथ में बहुत कारगर है.

रेमेडी: 2 टेबलस्पून सेब के रस में समान मात्रा में पानी मिलाकर स्काल्प में मसाज करें. 15 मिनट बाद बाल धो लें.

फ़ायदा: डैंड्रफ से हेयर फॉल की समस्या भी होती है, ऐसे में इस प्रयोग का नियमित इस्तेमाल बालों को हेल्दी रखने में बहुत कारगर है. यह ध्यान रहे, कि जूस में पानी बहुत ज़्यादा न मिलाया जाए.

जिंजर

रिसर्च: अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और वो हेयर ग्रोथ में भी कारगर है. अदरक में मौजूद एक्टिव कंपोनेंट- वोलेटॉइल ऑयल डैंड्रफ को दूर करता है.

रेमेडी: अदरक को छीलकर कद्दूकस कर लें. 8 टेबलस्पून तिल का तेल लें. चीज़ क्लोथ में अदरक को रखकर निचोड़ लें और उसके तेल को तिल के तेल में मिला लें. इससे स्काल्म मसाज करें और कुछ देर बाद हेयर वॉश कर लें.

फ़ायदा: अदरक के तेल को जब तिल के तेल जैसे नेचुरल ऑयल में मिलाकर लगाया जाता है, तो डैंड्रफ को दूर करने में वो बहुत कारगर होता है.

टी ट्री ऑयल

रिसर्च: इसमें एंटी-फंगल गुण होते हैं. एक शोध में यह पाया गया कि जिन लोगों ने 4 हफ़्तों तक 5% टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल किया उनकी डैंड्रफ की समस्या 41% तक कम हो गई.

रेमेडी: शैंपू करने से पहले स्काल्प में ऑयल से मसाज करें. यह हर दूसरे दिन करें.

फ़ायदा: यह डैंड्रफ की नेचुरल रेमेडी है. इसे आप तेल की तरह इस्तेमाल करने की बजाय शैंपू के तौर पर भी यूज़ कर सकते हैं. उससे डैंड्रफ काफ़ी हद तक दूर हो जाएगा.

हिना

रिसर्च: मेहंदी में केराटीन को बाइंड करने की क्षमता होती है, जिससे वो बालों पर एक सुरक्षा कवच चढ़ा देती है. यह स्काल्प के चिपचिपेपन को ख़त्म करने कंडीशनर का काम करती है और डैंड्रफ को दूर करती है.

रेमेडी: 1 टीस्पून मेहंदी में समान मात्रा में आंवला पाउडर, टी पाउडर, नींबू का रस और हेयर ऑयल मिलाएं. स्काल्प में इसे अप्लाई करें और कुछ देर बाद शैंपू कर लें.

फ़ायदा: यह मिश्रण न स़िर्फ डैंड्रफ को दूर करता है, बल्कि बालों को कंडीशन करके उनमें शाइन और बाउंस भी लाता है.

बेसिल लीव्स

रिसर्च: यह स्काल्प को हेल्दी बनाकर उसके स्ट्रेंथ बढ़ाते हैं और अपने एंटी-फंगल व एंटी-बैक्टीरियल गुणों के लिए जाने जाते हैं.

रेमेडी: बेसिल लीव्स को पीसकर आंवला पाउडर में मिला लें. इस पेस्ट को बालों में लगाएं. आधे घंटे बाद शैंपू कर लें.

फ़ायदा: आंवला पाउडर और बेसिल लीव्स डैंड्रफ को दूर करने के साथ-साथ स्काल्प को भी हेल्दी रखते हैं.

Meri Saheli Team :
© Merisaheli