क्या आप भी करते हैं दूसरों की बुराई? (How To Avoid Gossiping)

"बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो और बुरा मत कहो" गांधीजी के ये वाक्य भले ही हमने रट लिए हों,…

“बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो और बुरा मत कहो” गांधीजी के ये वाक्य भले ही हमने रट लिए हों, लेकिन उन्हें जीवन में उतारने की कोशिश हमने आज तक नहीं की. तो क्यों न अब इस ओर एक प्रयास किया जाए?

क्योंकि निंदा करना बुरी बात है
कुछ बातें ऐसी होती हैं, जो हमें बचपन से सिखाई जाती हैं, जैसे- झूठ बोलना पाप है, चोरी करना गलत बात है आदि. इसी तरह निंदा करना बुरी बात है यह वाक्य भी कई बार हम अपने बड़े-बूढ़ों के मुंह से सुन चुके हैं, लेकिन आश्‍चर्य इस बात का है कि आज भी हमारी सुबह और शाम पड़ोसी, रिश्तेदार व सखी-सहेली से जुड़ी निंदक बातों से शुरू और खत्म होती है. जब कि हम सब इस बात से भलीभांति अवगत हैं कि निंदा करना बुरी बात है.

निंदा करना और सुनना दोनों ही पाप है
कहते हैं, अन्याय करनेवाले और सहनेवाले दोनों ही बराबर के दोषी होते हैं. ठीक उसी तरह हिंदू वेद-पुराण के अनुसार परनिंदा करनेवाले और सुननेवाले दोनों ही पाप के समान भागीदार होते हैं. अतः अगर धार्मिक किताबों में आपकी निष्ठा है, तो अब से न ही दूसरों की निंदा करें और न ही किसी की निंदक बातों में दिलचस्पी लें.

परनिंदा से बेहतर है संतगुणों की प्रसंशा
काहू कि नहिं निन्दिये, चाहै जैसा होय।
फिर फिर ताको बन्दिये, साधु लच्छ है सोय॥
संत कबीर दासजी कहते हैं कि भले ही कोई व्यक्ति कितना भी बुरा हो, परंतु उसकी निंदा न करें, क्योंकि इससे स़िर्फ समय की बर्बादी होती है और कुछ नहीं, इसलिए अच्छा यह होगा कि आप अपना समय उन लोगों की प्रशंसा में व्यतीत करें, जो स्वभाव से सरल हों, जिनके भीतर साधू के लक्षण विद्यमान हों अथवा जो सतगुणों की खान हों.

यह भी पढ़ें: भावनाएं भी चुराती हैं ख़ूबसूरती

 

परनिंदा से केवल समय की बर्बादी होती है
यह बात सौ आने सच है कि परनिंदा से केवल समय की बर्बादी होती है और कुछ नहीं, क्योंकि आप जिस व्यक्ति की निंदा करते हैं, उसे इस बात की ख़बर तक नहीं होती कि आप उसके बारे में यूं भला-बुरा कह रहे हैं, नतीजतन वह व्यक्ति तो अपने काम में मस्त रहता है, परंतु उस वक्त उसकी निंदा करने के चक्कर में आपके काम पर अल्पविराम लग जाता है, इसलिए अब से अपना बेशक़ीमती समय दूसरों की निंदा में बर्बाद करने की बजाय अपने काम में मन लगाएं.

परनिंदा से पहले करें स्वयं का परीक्षण
जब हम दूसरों की तरफ एक उंगुली दिखाते हैं, तब हम ये भूल जाते हैं कि बाकी बची चार उंगुलियां हमारी ओर इशारा करती हैं. अर्थात जब हम फलाना व्यक्ति को एक उंगली से परिभाषित करते हैं, तो उस वक्त हमारी चार उंगलियां हमें परिभाषित कर रही होती हैं. इसका मतलब आप उस व्यक्ति से ज़्यादा अवगुणी हैं. अतः किसी और पर दोषारोपण करने से पहले अपने गुण-दोष का परिक्षण करें और ख़ुद से पूछें कि क्या आप दूसरों की निंदा करने के लायक हैं? और उत्तर मिलने के बाद ही किसी की निंदा करें या सुनें.

यह भी पढ़ें: दिशा वाकाणी, सरगुन मेहता, अनूप सोनी, रवि दुबे की तरह आप भी साकार करें अपने सपने 
Kamla Badoni

Recent Posts

सेक्स प्रॉब्लम्स- क्या वर्जिनिटी को दोबारा पाया जा सकता है? (Sex Problems: Can Your Regain Your Virginity After Having Sex?)

मैं 27 साल की वर्किंग वुमन हूं. अभी तक मेरी शादी नहीं हुई है, पर मैं वर्जिन (Virgin) नहीं हूं.…

बॉलीवुड स्टाइल में शादी करना चाहते हैं वरुण और नताशा दलाल? (Varun Dhawan And Natasha Dalal Will Have A Complete Bollywood Style Wedding? Destinations Revealed)

चाहे वे इस बात को स्वीकार करने से भले ही इंकार करते रहें, लेकिन बॉलीवुड के लव बर्ड्स वरुण धवन…

कार्तिक ने अपनी ‘प्रिंसेज़’ सारा के लिए कैटरीना को कहा ना, जानिए पूरा मामला (Kartik Aaryan AVOIDS appearance with Katrina Kaif for rumoured girlfriend Sara Ali Khan?)

कोई इंसान प्यार में होता है तो अपने पार्टनर को खुश करने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता, चाहे उसकी…

वायरल हो रही हैं अभिषेक और ऐश्वर्या राय की संगीत सेरेमनी की पिक्स (Unseen pics from Aishwarya Rai Bachchan and Abhishek Bachchan’s wedding in Mumbai)

बॉलीवुड के हॉट व सबसे ज़्यादा पसंद की जानेवाली जोड़ियों में से एक अभिषेक (Abhishek) और ऐश्वर्या (Aishwarya) की शादी…

वेट लॉस टिप ऑफ द डे: 5 होममेड प्रोटीन बार फॉर वेट लॉस (Weight Loss Tip Of The Day: 5 Homemade Protein Bar For Weight Loss)

वेट लॉस डायट (Weight Loss Diet) फॉलो करना आसान नहीं हैं, लेकिन इससे भी बड़ी चुनौती है कि वज़न कम…

© Merisaheli