क्या आप भी करते हैं दूसरों की बुराई? (How To Avoid Gossiping)

"बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो और बुरा मत कहो" गांधीजी के ये वाक्य भले ही हमने रट लिए हों,…

“बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो और बुरा मत कहो” गांधीजी के ये वाक्य भले ही हमने रट लिए हों, लेकिन उन्हें जीवन में उतारने की कोशिश हमने आज तक नहीं की. तो क्यों न अब इस ओर एक प्रयास किया जाए?

क्योंकि निंदा करना बुरी बात है
कुछ बातें ऐसी होती हैं, जो हमें बचपन से सिखाई जाती हैं, जैसे- झूठ बोलना पाप है, चोरी करना गलत बात है आदि. इसी तरह निंदा करना बुरी बात है यह वाक्य भी कई बार हम अपने बड़े-बूढ़ों के मुंह से सुन चुके हैं, लेकिन आश्‍चर्य इस बात का है कि आज भी हमारी सुबह और शाम पड़ोसी, रिश्तेदार व सखी-सहेली से जुड़ी निंदक बातों से शुरू और खत्म होती है. जब कि हम सब इस बात से भलीभांति अवगत हैं कि निंदा करना बुरी बात है.

निंदा करना और सुनना दोनों ही पाप है
कहते हैं, अन्याय करनेवाले और सहनेवाले दोनों ही बराबर के दोषी होते हैं. ठीक उसी तरह हिंदू वेद-पुराण के अनुसार परनिंदा करनेवाले और सुननेवाले दोनों ही पाप के समान भागीदार होते हैं. अतः अगर धार्मिक किताबों में आपकी निष्ठा है, तो अब से न ही दूसरों की निंदा करें और न ही किसी की निंदक बातों में दिलचस्पी लें.

परनिंदा से बेहतर है संतगुणों की प्रसंशा
काहू कि नहिं निन्दिये, चाहै जैसा होय।
फिर फिर ताको बन्दिये, साधु लच्छ है सोय॥
संत कबीर दासजी कहते हैं कि भले ही कोई व्यक्ति कितना भी बुरा हो, परंतु उसकी निंदा न करें, क्योंकि इससे स़िर्फ समय की बर्बादी होती है और कुछ नहीं, इसलिए अच्छा यह होगा कि आप अपना समय उन लोगों की प्रशंसा में व्यतीत करें, जो स्वभाव से सरल हों, जिनके भीतर साधू के लक्षण विद्यमान हों अथवा जो सतगुणों की खान हों.

यह भी पढ़ें: भावनाएं भी चुराती हैं ख़ूबसूरती

 

परनिंदा से केवल समय की बर्बादी होती है
यह बात सौ आने सच है कि परनिंदा से केवल समय की बर्बादी होती है और कुछ नहीं, क्योंकि आप जिस व्यक्ति की निंदा करते हैं, उसे इस बात की ख़बर तक नहीं होती कि आप उसके बारे में यूं भला-बुरा कह रहे हैं, नतीजतन वह व्यक्ति तो अपने काम में मस्त रहता है, परंतु उस वक्त उसकी निंदा करने के चक्कर में आपके काम पर अल्पविराम लग जाता है, इसलिए अब से अपना बेशक़ीमती समय दूसरों की निंदा में बर्बाद करने की बजाय अपने काम में मन लगाएं.

परनिंदा से पहले करें स्वयं का परीक्षण
जब हम दूसरों की तरफ एक उंगुली दिखाते हैं, तब हम ये भूल जाते हैं कि बाकी बची चार उंगुलियां हमारी ओर इशारा करती हैं. अर्थात जब हम फलाना व्यक्ति को एक उंगली से परिभाषित करते हैं, तो उस वक्त हमारी चार उंगलियां हमें परिभाषित कर रही होती हैं. इसका मतलब आप उस व्यक्ति से ज़्यादा अवगुणी हैं. अतः किसी और पर दोषारोपण करने से पहले अपने गुण-दोष का परिक्षण करें और ख़ुद से पूछें कि क्या आप दूसरों की निंदा करने के लायक हैं? और उत्तर मिलने के बाद ही किसी की निंदा करें या सुनें.

यह भी पढ़ें: दिशा वाकाणी, सरगुन मेहता, अनूप सोनी, रवि दुबे की तरह आप भी साकार करें अपने सपने 
Kamla Badoni

Recent Posts

बिग बी ने अपनी सेहत के बारे में चुप्पी तोड़ी, कही ये बात (Amitabh Bachchan finally OPENS UP on rumours about his health)

पिछले कुछ दिनों से अमिताभ (Amitabh) की सेहत (Health) को लेकर उनके फैन्स बहुत चिंतित हैं. जब से अमिताभ बच्चन…

बिग बॉस 13ः जानिए सिद्धार्थ शुक्ला और रश्मि देसाई की हेट स्टोरी, कब और कैसे हुई झगड़े की शुरुआत? (Bigg Boss 13: Rashami Desai And Sidharth Shukla’s HATE STORY )

 सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) और रश्मि देसाई (Rashami Desai) बिग बॉस 13 (Bigg Boss 13) के सबसे चर्चित कंटेस्टेंट्स में…

दिवाली स्पेशल रंगोली: सीखें फेस्टिवल स्पेशल 5 रंगोली डिज़ाइन्स (Diwali Special Rangoli: Learn 5 Easy And Innovative Festival Rangoli Designs)

हमारे देश में त्योहारों में घर सजाने के साथ-साथ रंगोली लगाने की भी परंपरा है. दीपावली के शुभ अवसर पर…

फिल्म समीक्षा: लाल कप्तान, घोस्ट- कई फिल्में, अलग-अलग अंदाज़… (Movie Review: Lal Kaptaan, Ghost…)

आज प्रतिशोध, डर, प्यार-रोमांस, उलझते रिश्ते, खेल इन तमाम विषयों से जुड़ी कई फिल्में रिलीज़ हुईं. जहां दर्शक इंसानी फ़ितरत,…

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ की रीता रिपोर्टर उर्फ प्रिया आहूजा का बेबी शावर, गोली और सोनू हुए शामिल, देखें पिक्स ( Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah’s Rita Reporter AKA Priya Ahuja Rajda Hosts Baby Shower; Goli And Ex-Sonu Attend)

टीवी एक्ट्रेस प्रिया आहूजा राजदा,  जो टीवी सीरियल तारक मेहता का उल्टा चश्मा में रीता रिपोर्टर का किरदार निभाती हैं,…

फेस्टिवल हेयर: फेस्टिवल में बालों को ऐसे बनाएं सॉफ्ट और शाइनी (Festival Hair: How To Take Care Of Your Hair During Festival Season)

फेस्टिवल सीज़न में आप घर बैठे बालों को सॉफ्ट और शाइनी बना सकती हैं. यदि आपके पास पार्लर जाने का…

© Merisaheli