कंगना ने अब किया सदगुरू की ...

कंगना ने अब किया सदगुरू की ‘तमिलनाडु के मंदिरों को मुक्त कराने की पहल’ को सपोर्ट, कहा- ‘हमें शर्म आनी चाहिए’(Kangana Ranaut backs Sadhguru’s call to ‘Free Tamil Nadu Temples’, Says Shame On Us)

हर मुद्दे पर खुलकर अपनी राय रखनेवाली और जो सही लगता है, उसके सपोर्ट में हमेशा खड़ी रहनेवाली बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत अब आध्यात्मिक गुरु सद्गुरु के सपोर्ट में आगे आई हैं और सद्गुरु ने तमिलनाडु की मंदिरों को सरकार से मुक्त कराने की जो मुहिम शुरू की है, उसमें उनका समर्थन किया है. कंगना ने मंदिरों की ‘खराब स्थिति’ पर दुख जताया और कहा कि ‘मंदिर पर हर भारतीय का अधिकार है.’

कंगना ने क्या लिखा ट्वीट में?

Kangana Ranaut

दरअसल एक यूज़र ने एक मंदिर जो बेहद खराब स्थिति में है, की फ़ोटो शेयर करते हुए लिखा था कि मंदिर हमारे देश की विरासत को संजोते हैं. कंगना ने इसी यूज़र को जवाब देते हुए ट्वीट किया और लिखा- “मंदिर केवल पूजा-प्रार्थना करने का स्थान नहीं है. ये मंदिर हमारे प्राचीन ज्ञान, परंपराओं, विरासत और कला का प्रतिनिधित्व करते हैं. इनमें से कई मंदिर हजारों साल पुराने हैं, जो किसी भी आधुनिक धर्म की खोज से पहले बनाए गए हैं. ये मंदिर हर भारतीय के हैं चाहे वो किसी भी धर्म या विचारधारा का हो. ”

हमें शर्म आनी चाहिए

Kangana Ranaut

कंगना ने साउथ की मंदिरों की खराब हालत पर दुख जताते हुए एक और ट्वीट किया और लिखा- ‘यह देखकर बहुत दुख होता है कि हमने अपनी सभ्यता के साथ क्या किया है. हम सबको इस बात के लिए शर्म आनी चाहिए कि हम अपने देश, संस्कृति और विरासत के लिए खड़े नहीं हो रहे हैं. #FreeTNTemples’

इससे पहले भी करती रही हैं सद्गुरु के इस मुहिम को सपोर्ट

Kangana Ranaut

बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब कंगना ने सद्गुरु के सपोर्ट में सोशल मीडिया पर आवाज़ उठाई हो. इससे पहले भी वो इस मुद्दे पर ट्वीट कर चुकी हैं. इससे पहले तमिलनाडु सरकार से मंदिरों की मुक्ति की अपील करते हुए कंगना ने सोशल मीडिया पर #FreeHinduTemples और #FreeTNTemples यूज़ को करते हुए लिखा था, “हिंदुओं का शोषण, दमन और प्रताड़ना खत्म करना ज़रूरी है. सबसे महान और पुरानी सभ्यता की धीमी हत्या को भी खत्म करना होगा.” कंगना ने इस ट्वीट के ज़रिए अपील भी की कि एक समय में एक राज्य, एक मिस्ड कॉल दें और तमिलनाडु के मंदिरों को बचाएं, अपना काम करें ..

मंदिरों को बचाने के लिए सद्गुरु चला रहे हैं मुहिम

Sadhguru

बता दें कि ईशा फाउंडेशन के संस्थापक, आध्यामिक गुरु और सदगुरु के नाम से फेमस जग्गी वासुदेव काफी समय से तमिलनाडु के मंदिरों को सरकार के नियंत्रण से मुक्त कराने के लिए मुहिम चला रखी है. सद्गुरु का कहना है कि हजारों मंदिर खत्म होने की कगार पर हैं. अगर अभी कुछ हीं किया गया, तो हमारी संस्कृति और विरासत खो जाएगी.
बिना पूजा के लगभग 11999 मंदिर बहुत ज़्यादा खराब हालत में हैं. 34000 मंदिरों की वार्षिक आय 10000 रुपए से भी कम है और उनकी स्थिति बहुत ज़्यादा खराब होती जा रही है. 37000 मंदिरों में पूजा, रख-रखाव और सुरक्षा आदि के लिए सिर्फ एक आदमी है, जिससे इन मंदिरों की स्थिति बिगड़ती जा रही है. सद्गुरु वहां की सरकार से मांग कर रहे हैं कि इन मंदिरों को भक्तों के लिए छोड़ दिया जाए. सद्गुरु का कहना है कि इन मंदिरों की पवित्रता बनाए रखने और इन्हें पतन की स्थिति से बाहर निकालने के लिए सरकार से इनकी मुक्ति जरूरी है.