कंगना रनौत के ऑफिस को बनाने के ल...

कंगना रनौत के ऑफिस को बनाने के लिए नहीं तैयार कोई आर्किटेक्ट ! जानें क्या है कारण (No Architect ready to build Kangana Ranaut’s office! Know what is the reason)

Kangana Ranaut's office

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत हर दिन अपने नए ट्वीट से ख़बरों की सुर्खियां बटोरती रहती हैं लेकिन कुछ दिन पहले अपने टूटे हुए ऑफिस की तस्वीरें शेयर कर कंगना ने सबको चौंका दिया था. वहीं अब उन्होंने यह दावा किया है कि कोई भी आर्किटेक्ट उनके बीएमसी द्वारा गिराए गए बांद्रा स्थित ऑफिस को फिर से बनाने के लिए तैयार नहीं है, क्योंकि उन्हें बृहन्मुंबई नगर निगम से डर लगता है. कंगना के कार्यालय को कथित तौर पर अवैध निर्माण का कारण लेकर बीएमसी ने कुछ हिस्सों को बुरी तरह से तोड़सदिया था लेकिन अब तक कंगना इसकी मरम्मत नहीं करवा पाईं हैं.

कंगना रनौत ने ट्वीट के जरिए आरोप लगाया है कि इस घटना के छह महीने बाद भी वह अपने ऑफिस को ठीक कराने का काम नहीं करा पा रही हैं. कंगना ने एक ट्वीट में कहा, ‘मैंने बीएमसी के खिलाफ केस जीत लिया है. अब मुझे एक आर्किटेक्ट के माध्यम से मुआवजे के लिए एक फाइल पेश करने की जरूरत है, लेकिन कोई भी आर्किटेक्ट मेरे मामले को लेने के लिए तैयार नहीं है, वे कहते हैं कि उन्हें बीएमसी से धमकी मिल रही है कि उनका लाइसेंस रद्द हो जाएगा. अवैध तोड़क कार्यवाई को छह महीने बीत चुके हैं.’ इसका अलावा कंगना ने ये आरोप बीएमसी पर भी लगाया कि कोर्ट के आदेश के बावजूद बार बार फ़ोन करने के बाद भी कोई बीएमसी मूल्यांकनकर्ता उनके दफ्तर के इंस्पेक्शन के लिए अब तक नहीं आया. कई महीनों के बाद भी हमारी कॉल रिसीव नहीं करते हैं. उन्होंने पिछले सप्ताह दौरा किया, लेकिन उसके बाद कोई प्रतिक्रिया नहीं है लोग उनसे पूछते हैं कि आप ऑफिस क्यों नहीं बनवा रही हैं लेकिन वे जवाब नहीं दे पातीं. कंगना ने बताया कि हर कोने में सीलन है लेकिन वे अपना घर नहीं बनवा पा रही है. इसको लेकर कंगना काफी चिंतित हैं.

Kangana Ranaut's office

कंगना रनौत ने यह भी धमकी दी कि वह उन लोगों के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज कराने की योजना बना रही हैं, जिन्होंने पिछले साल बांद्रा में उनके नए बने कार्यालय पर बीएमसी के तोड़क कार्यवाई में भाग लिया था.

आपको बता दें कि सितंबर 2020 में बीएमसी ने अवैध निर्माण का हवाला देते हुए बांद्रा स्थित कंगना रनौत के दफ्तर के कुछ हिस्सों को ध्वस्त कर दिया था. 9 सितंबर को बॉम्बे हाई कोर्ट के स्थगन आदेश के बाद तोड़क कार्यवाई का काम बीच में रोक दिया गया था,लेकिन जब तक कंगना इस कार्यवाई के खिलाफ कोर्ट करती उनके दफ्तर का एक बड़ा हिस्सा बीएमसी गिरा चुकी थी। अब कंगना इस दफ्तर को फिर से नहीं बनवा पा रही हैं.

×