पहला अफेयर: अधूरे ख़्वाब (Pahla Affair: Adhoore Khwab)

पहला अफेयर: अधूरे ख़्वाब (Pahla Affair: Adhoore Khwab)

व़क्त गुज़र जाता है, लेकिन उसकी कुछ यादें दिल के किसी कोने में हमेशा मौजूद होती हैं, जिनमें डूबकर कभी लगता है बहुत हसीन है यह ज़िंदगी, मगर कुछ बेरहम भी है, क्योंकि इनमें तुम्हारी जुदाई के वो कराहते लम्हे ही अधिक हैं… जिनके पार उतरना बहुत असंभव है.
जीवन के संघर्षमय सागर में मुझे अकेला छोड़कर जब तुम चले गए, तो ऐसा कोई नहीं था, जो मेरे जलते हुए निर्विश्राम जीवन पर सांत्वना की दो बूंद छिड़क दे, फिर भी मैं व्यथित नहीं हुई… सर्वथा आमोद-प्रमोद की लहरों में पड़ी रही… मेरा ही दुखी मन और मैं ही समझानेवाली थी. वेदना के शोलों पर मुस्कुराहट की राख बिखेरते हुए हर तरह से मन के भावों को कुचलने की चेष्टा में तुम्हारा इंतज़ार करती रही.

जब तक तुम थे, तभी तक ज़िंदगी थी मेरे आस-पास… लेकिन जब तुम जॉब करने अचानक जर्मनी चले गए, तब मैंने देखा था कैसे किसी शख़्स का चले जाना वीरान कर जाता है सारा शहर!

तुम्हारी योग्यताओं को देखते हुए वहां तुम्हें बहुत बेहतरीन जॉब का ऑफर मिला था, इसलिए वहां तुम्हें जाना पड़ा और तुम चले गए. तुम्हारे इस तरह चले जाने के बाद तुम्हारे ग़म में डूबी मैं ढूंढ़ती रही हूं अपने को! क्योंकि मेरा वजूद तो तुम थे. तुम्हारे बिना मैं आज भी अधूरी हूं.

यह प्यार भी एक अलौकिक सज़ा है… ग़म देनेवाला एक मज़ा है और इसका सिरा मैं कहीं न कहीं से ढूंढ़ ही लेती हूं.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: रूठ गया वसंत… 

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: वो मेरी तक़दीर बन गया…

मेरा ये पहला प्यार ही मेरे लिए सारा जीवन है. मेरी जिन आंखों में आज आंसू ही आंसू हैं, कभी इनमें वो सपने हुआ करते थे, जिन्हें प्यार की राहों में तुम्हारे साथ चलते हुए मेरी पलकों ने सजाया था. हमारे वो सपने कभी आकाश के तारों से रौशन हुआ करते थे और ये सर्द हवाएं हमारे लिए प्यार के तराने गाया करती थीं. महकते फूलों का संगीत उन रास्तों को जगाया करता था, जिन राहों पर एक-दूसरे की बांहों का सहारा लेकर हम रखते थे अपने क़दम!

बचपन के साथी थे हम, लेकिन हमारे बचपन की कहानी ज़माने से कोई अलग नहीं थी. वही साथ-साथ खेलना… नदी के उस पार की बगिया से आम व अमरूद तोड़कर एक साथ पहाड़ों पर चढ़ते-उतरते हमारा बचपन कैसे बीत गया, हमें पता भी नहीं चला.

तीन वर्ष हो गए तुमको यहां से गए हुए और अब ग़मों से घिर गई हूं मैं. कहां हो तुम? बड़ी वीरान हैं उम्मीदों की राहें… चले आओ मेरी आंखें तुम्हें देखने की चाह में कुछ और देखना ही भूल गई हैं… अपने जल्द आने की बात कहकर भी तुम नहीं आए… न जाने इतना धैर्य तुममें कहां से आ जाता है? लेकिन मेरे साथ ऐसा नहीं है. मेरे साथ पूरा परिवार है और मेरे साथ-साथ मेरे पूरे परिवार ने भी तुम्हारा इंतज़ार किया था. फिर एक दिन रीति-रिवाज़ों के बंधन में बंधकर मैं किसी और की हो गई!

जो प्यार मैंने तुमसे किया और तुम्हारे प्यार ने मुझे जो एहसास, जो यादें दीं शायद इसे ही पहला प्यार कहते हैं… तुम्हारा यही प्यार आज भी ज़िंदा है मेरे मन में. तुम्हारे इस एहसास के साथ-साथ मुझे ‘अधूरे ख़्वाब’ दिखाने के लिए तुम्हारा बहुत-बहुत शुक्रिया!

– दिशा राजवानी

Geeta Sharma :
© Merisaheli