Categories: Top Stories

कोरोना से जंग में मदद के लिए आगे आए मंदिर और मस्जिद, मुंबई के श्री स्वामी नारायण मंदिर ने परिसर को कोविड अस्पताल में बदल दिया गया (Religious Bodies Are Coming Forward To Help In The War Against The Corona, Sri Swami Narayan Temple Of Mumbai Has Converted Itself Into A Covid Hospital)

कोरोना वायरस से पूरा देश जंग लड़ रहा है, ऐसे में धार्मिक स्थल भी इस जंग में मदद के लिए आगे आ रहे हैं. बता…

कोरोना वायरस से पूरा देश जंग लड़ रहा है, ऐसे में धार्मिक स्थल भी इस जंग में मदद के लिए आगे आ रहे हैं. बता दें कि मुंबई के श्री स्वामी नारायण मंदिर ने परिसर को कोविड अस्पताल में बदल दिया है. इन मंदिरों की इमारतों में देश के सभी धर्मों के लोगों के अलावा दूसरे देशों के नागरिकों का भी इलाज किया जा रहा है.

कोरोना के प्रकोप देशभर में रोगियों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है, मरीजों की बढ़ती संख्या के चलते बीएमसी के प्रमुख अस्पतालों में बेड मिलना एक बड़ी चुनौती बनती जा रही है, ऐसे में धार्मिक स्थल अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी को समझते हुए मानव कल्याण के लिए आगे आ रहे हैं. महामारी के इस कठिन दौर में ये सभी धार्मिक स्थल ये संदेश दे रहे हैं कि मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं होता.

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में मदद के लिए देशभर से कई धार्मिक स्थल आगे आ रहे हैं. इसी कड़ी में हाल ही में नोएडा के सेक्टर 18 में स्थित गुरुद्वारा साहिब ने तय किया है कि उन लोगों तक मुफ्त में खाना पहुंचाया जाएगा, जो कोरोना से पीड़ित और घर पर खाना नहीं पका सकते. इसी तरह वडोदरा में स्वामीनारायण मंदिर में 500 बेड की सुविधा की गई.

मंदिरों की तरह ही देशभर में मस्जिदों की तरफ से भी मदद के लिए हाथ आगे बढ़ रहे हैं. ख़बरों के अनुसार, वडोदरा की जहांगीरपुरा मस्जिद को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने कोविड सेंटर में तब्दील कर दिया गया है. इस मस्जिद में करीब 50 बेड ऑक्सीजन के साथ उपलब्ध हैं. स्वामीनारायण मंदिर और जहांगीरपुरा मस्जिद के अलावा दारुल उलूम में भी कोरोना संक्रमितों की मदद के लिए 120 बेड का इंतजाम किया गया है.

महामारी से इस मुश्किल समय में जब पूरा देश कोरोना से जंग लड़ रहा है, ऐसे में देशभर में धार्मिक स्थलों का इस भारी तादाद में मदद के लिए आगे आना इस बात की तसल्ली देना है कि हमारे सभी धार्मिक स्थल मानवता को ही सबसे बड़ा धर्म समझते हुए बिना कोई भेदभाव किए आम जन मानस की मदद के लिए भारी तादाद में आगे आ रहे हैं.

Recent Posts

अकबर-बीरबल की कहानी: जादुई गधा! (Akbar-Birbal Story: The Magical Donkey)

बादशाह अकबर ने अपनी बेगम साहिबा के जन्मदिन पर उन्हें एक बेशकीमती हार दिया. ये…

मदर्स डे पर विशेष.. कहानी- सर्वे (Short Story- Survey)

"तुम्हें पता है कार्तिक, जनतंत्र का चौथा महत्वपूर्ण स्तंभ होता है- प्रेस यानी समाचारपत्र. आधे…

© Merisaheli