हिंदी कहानी- इस झूठ का कोई ...

हिंदी कहानी- इस झूठ का कोई पाप नहीं (Hindi Short Story- Iss Jhuth Ka Koi Paap Nahi)

कहानी, इस झूठ का कोई पाप नहीं, Short Story, Iss Jhuth Ka Koi Paap Nahi

जैसे मां को पिताजी के सामने कभी अपनी ज़िंदगी जीते नहीं देखा था, वैसा मुझे अब नहीं देखना था, इसलिए मैं मां के जीवन, उनके स्वभाव, उनके व्यवहार, उनके त्याग, उनके स्नेह की एक-एक बात याद रख यही कोशिश करता हूं कि मेरी पत्नी दुखी होकर न जीए, वह कभी अपना मन न मारे. उसे अपनी मर्ज़ी से जीने के लिए, अपने शौक़ पूरे करने के लिए मेरी मृत्यु तक इंतज़ार न करना पड़े.

रात के साढ़े दस बज रहे थे. अंजलि ने मुझसे पूछा, “सोम, मैं इस नई ड्रेस में मोटी तो नहीं लग रही?” मैंने लैपटॉप से नज़रें हटाकर कहा, “नहीं, बिल्कुल नहीं, तुम मोटी हो ही कहां जो लगोगी, कितनी मेंटेन्ड तो हो.” अंजलि के चेहरे पर मुझे एक ख़ुशी की लहर दिखाई दी.
“सच कह रहे हो? कल किटी है न मेरी, अभी शाम को ही यह सिलकर आई है, इसे ही पहनूंगी, अच्छी है न? मुझे पता नहीं क्यों लग रहा है कि मैं इसमें कुछ मोटी लग रही हूं.” मैंने लैपटॉप एक तरफ़ रख ही दिया, उसके पास खड़े होकर उसे चारों तरफ़ से देखा और प्यार से कहा, “अंजू, बहुत अच्छी लग रही हो, परफेक्ट फिगर है तुम्हारा.”
अंजलि मुस्कुराकर, “थैंक्स.” कहते हुए कपड़े बदलने चली गई. मैं भी मन ही मन मुस्कुरा उठा, क्योंकि इस नई ड्रेस में वह सचमुच थोड़ी-सी मोटी तो लग रही थी, पर वह जो भी पहनती है, उस पर अच्छा लगता है यह भी सच है, पर हां, वह अपने फिगर को लेकर बहुत कॉन्शियस रहती है. मैं जानता हूं कि वह हमेशा पतली और स्मार्ट लगना चाहती है, पर आजकल वह थोड़ी-सी भर गई है. अगर मैंने सच बोल दिया, तो कल से ही खाना-पीना कम कर डायटिंग पर आ जाएगी, जबकि वह खाने की शौक़ीन है. वह अभी तक अपना पूरा ध्यान रखती आई है, पर समय के साथ कुछ बदलाव तो आता ही है ना! और वैसे भी मैं तो ऐसे बहुत सारे झूठ बोलता हूं, जिनसे उसे ख़ुशी मिलती है. इतना क्या सत्यवादी हो जाऊं कि अपनी पत्नी का ही दिल दुखाऊं? ना, यह मुझसे नहीं होता. मैं कोई झूठा इंसान नहीं हूं, पर जब बात अंजलि को ख़ुश करने की आती है, तो मैं ख़ूब झूठ बोलता हूं, सोचते हुए मैंने बच्चों के बेडरूम में झांका.
हमारी बीस वर्षीया बेटी सिद्धि और अठारह वर्षीय बेटा नमन सो चुके थे. ग्यारह बज चुके थे, हम दोनों भी सोने जा ही रहे थे कि अचानक अंजलि को याद आया, “सोम, तुम्हें बताना ही भूल गई कि अगले हफ़्ते भइया आएंगे, यहां उनकी कोई मीटिंग है, एक-दो दिन के लिए आएंगे.” “अरे वाह, बहुत अच्छा!”

यह भी पढ़े: इसलिए सिखाएं बच्चों को हेल्दी कॉम्पटीशन
अपने से पांच साल बड़े कपिल भइया के बारे में वह और बातें करने लगी. मेरा मूड कपिल के आने की बात सुनकर ख़राब हो चुका था, पर प्रत्यक्षत: मैं अंजलि की बातें रुचि लेकर सुनता रहा. थोड़ी देर में अंजलि तो सो गई, पर आज मैं फिर अपने ही झूठ बोलने के बारे में सोचने लगा था. अंजलि से बहुत झूठ बोलता हूं मैं. मेरी प्यारी पत्नी है वो, मैं उससे बहुत प्यार करता हूं, मैं उसे कभी दुखी नहीं देख सकता. उसका मायका दिल्ली में है, यहां मुंबई में ऑफिस के काम से कपिल का आना-जाना लगा रहता है.
अंजलि अपने भाई से बहुत प्यार करती है, वो है ही ऐसी, सबको स्नेह-सम्मान देनेवाली. कपिल की उपस्थिति मुझे बर्दाश्त नहीं होती, पर मैंने अंजलि को कभी यह महसूस होने नहीं दिया है. मुझसे कई बार पूछती है, “भइया अच्छे हैं ना?” मैं ‘हां’ में सिर हिलाकर कहता हूं, “तुम्हारे मम्मी-पापा, भाई सब अच्छे हैं.” बस, वह ख़ुश हो जाती है. वह मुझ पर, बच्चों पर अपना भरपूर प्यार लुटाती है, तो उसे भी तो हक़ है ना ख़ुश रहने का! मैंने उसे कभी यह सच नहीं बताया कि घमंडी, स्वार्थी कपिल जैसे लोग मुझे कभी पसंद नहीं आ सकते. अपने पद-धन के मद में चूर कपिल अजीब-सी अकड़ में रहता है. अपने से नीचे के लोगों के साथ उसका व्यवहार देखा है मैंने, किसी को कुछ नहीं समझता है, पर अंजलि अपने भाई को देखकर ख़ुश होती है, तो ठीक है. मैं भी अपने झूठ से कि कपिल अच्छा है, अंजलि को ख़ुश कर देता हूं.
मैं और भी कई झूठ बोलता हूं, जैसे कि मैं ऑफिस से आकर अक्सर कहता हूं, ‘तुम कितना काम करती हो अंजलि’ जबकि मैं जानता हूं कि उसने दिन में अपना समय बुक्स पढ़ने या फोन पर बिताया होगा. काम तो ज़्यादातर मेड ही कर जाती है, पर जब मैं उसे यह कहता हूं, तो मुझे उसकी आंखों में ख़ुशी दिखती है. वह मेरे झूठ से ख़ुश होती है कि मुझे उसके कामों की वैल्यू है. काम तो वह करती भी है, पर इतना भी नहीं कि बहुत थक जाए. बस, मुझे उसे ख़ुश ही तो देखना है!
कई बार मैं उसका हाथ अपने हाथों में लेकर कहता हूं, “अंजू, अपना ख़्याल रखा करो, हम लोगों की चिंता में अपनी सेहत से लापरवाह मत होना, हर तरह से अपना ख़्याल रखा करो, तुम हो तो सब है.” मेरी इस बात पर वह ख़ुश होकर अपना सिर मेरे कंधे पर टिका देती है और मुझे मन ही मन अपनी बात पर हंसी आ जाती है, क्योंकि मैं अच्छी तरह जानता हूं कि वह अपना बहुत ध्यान रखती है. सुबह-शाम सैर पर जाती है, हर महीने पार्लर जाती है, सहेलियों के साथ किटी पार्टी एंजॉय करती है, वीकेंड पर हम लोग मूवी जाते हैं, बाहर खाते-पीते हैं. अंजलि हर तरह से जीवन में ख़ुश है. हमारे बच्चे भी बहुत अच्छे हैं, उसे परेशान नहीं करते, फिर भी मैं अक्सर उसका सिर सहलाते हुए कह देता हूं कि “अंजू, थक जाती होगी, अपना ख़्याल रखा करो.” वह बहुत ख़ुश होती है.

यह भी पढ़े: हेमा मालिनी… मेरी ख़ूबसूरती का राज़… देखें वीडियो
मैंने अपने आपसे वादा किया है कि मैं अंजलि को हमेशा ख़ुश रखूंगा. उसकी आंखों में मेरे कारण कभी एक भी आंसू नहीं आएगा. मैं यह किस बात की भरपाई कर रहा हूं, यह स़िर्फ मेरा दिल ही जानता है या मेरी स्वर्गवासी मां! मेरे इन सब झूठों के पीछे मेरी मां के वो अनगिनत आंसू ही तो हैं, जो स़िर्फ मैंने देखे हैं. हम तीन भाई-बहनों में मैं सबसे बड़ा था. मुझसे दो साल छोटी मीनू, फिर उससे छोटा सोनू. पिताजी सामंतवादी सोच के, बनारस के घमंडी, सरकारी अधिकारी थे. वे हमेशा पत्नी को पैर की जूती समझनेवाले पुरुष थे. हम बच्चों के सिर पर उन्होंने कभी स्नेहभरा हाथ नहीं रखा. शायद बड़ी संतान होने के कारण मैं मां के बहुत क़रीब था. मां के बिना कुछ कहे ही उनके सुख-दुख महसूस करने लगा था. मां को पिताजी ने कभी सम्मान नहीं दिया. हमारे कम हैसियतवाले ननिहाल से कोई आता, तो बिना अपमानित हुए न जाता. ननिहाल से किसी के आने की ख़बर सुनकर ही मां तनाव में आ जाती थीं. पिताजी के ताने-उलाहने मां के दिल को चीर जाते थे. मां की आंखों में हमेशा नमी रहती थी. एक नौकर की तरह मां पिताजी के आगे-पीछे घूमती थीं. पिताजी की मुझे कोई अच्छी याद नहीं है और मां! यह शब्द मन में दोहराते ही मेरी आंखें भीगती चली जाती हैं.
पिताजी का अचानक हृदयगति रुकने से देहांत हुआ, तो मां रो-रोकर बेहाल हो गई थीं. उन्हें हम तीन भाई-बहनों ने मुश्किल से ही संभाला था. मुझे मुंबई में अच्छी नौकरी मिल गई थी. मां सोनू-मीनू के साथ बनारस में ही रहना चाहती थीं, मैं मुंबई चला आया था. धीरे-धीरे पिताजी के जाने के बाद मां को उनके खोल से निकलते देखा मैंने. मां शांत रहने लगी थीं और हंसने-बोलने लगी थीं. सबसे बड़ी बात, जो मुझे पता चली कि मां को पढ़ने का बहुत शौक़ था, अब मां कभी कोई पत्रिका, कभी उपन्यास पढ़ती थीं. मैंने एक दिन हैरानी से पूछा था, “मां, आप तो पहले कभी कुछ नहीं पढ़ती थीं?” मां ने बस इतना ही कहा था, “तुम्हारे पिताजी को पसंद नहीं था.”
“क्या पसंद नहीं था? आपका कुछ पढ़ना उनके क्लब, दोस्तों की महफ़िलों, उनके स्वभाव-व्यवहार, उनकी आदतों से तो अच्छी आदत ही थी यह.”

यह भी पढ़े: हेल्दी रिलेशनशिप के लिए छोड़ें भावनाओं की ‘कंजूसी’
“अब कुछ मत कहो सोम.” उसके बाद मैं कहीं भी जाता, मां के लिए क़िताबें ज़रूर लाता. कितना मन मारकर जी रही थीं मां. मां की सहेली की बेटी ही है अंजलि. अंजलि मां को बहुत पसंद थी. मां हमेशा कहती थीं, “अंजलि को हमेशा ख़ुश रखना.” मीनू-सोनू की पढ़ाई-लिखाई, विवाह, अपने सब कर्त्तव्य मैंने मां की इच्छा से ही पूरे किए. एक दिन वे भी चली गईं. भरी दुनिया में तन्हा महसूस किया मैंने ख़ुद को उस दिन.
बस, जैसे मां को पिताजी के सामने कभी अपनी ज़िंदगी जीते नहीं देखा था, वैसा मुझे अब नहीं देखना था, इसलिए मैं मां के जीवन, उनके स्वभाव, उनके व्यवहार, उनके त्याग, उनके स्नेह की एक-एक बात याद रख यही कोशिश करता हूं कि मेरी पत्नी दुखी होकर न जीए, वह कभी अपना मन न मारे. उसे अपनी मर्ज़ी से जीने के लिए, अपने शौक़ पूरे करने के लिए मेरी मृत्यु तक इंतज़ार न करना पड़े. वो भी इंसान है, उसका भी जीवन है, उसकी भी खुशियां हैं, इसलिए अगर अंजलि को ख़ुश रखने के लिए मैं कोई झूठ बोलता हूं, तो इसमें बुरा क्या है. किसी का कोई नुक़सान तो है नहीं. ये छोटे-छोटे झूठ मेरी पत्नी को ख़ुशी देते हैं, इस झूठ का कोई पाप नहीं.

       पूनम अहमद

अधिक कहानी/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां पर क्लिक करें – SHORT STORIES