वज़न कम करने से लेकर थायरॉइड में राहत तक, ॐ के उच्चारण से होनेवाले इन हेल्थ बेनीफिट्स के बारे में नहीं जानते होंगे आप! (Surprising Health Benefits Of Chanting Om)

ॐ तीन अक्षरों से बना है, पहला अ, जिसका मतलब हैउत्पन्न होना, दूसरा उ, जिसका मतलब है विकास और तीसरा हैम, जिसका अर्थ है मौन यानी ब्रह्म में विलीन हो जाना. ॐ अस्तित्व की आवाज़ कही जाती है और इसके कई हेल्थ बेनीफिट्स भी हैं, आइए आपको ॐ के उच्चारण से होनवाले हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में बताते हैं… - शरीर के टॉक्सिन्स निकल जाते हैं. - वोकल कॉर्ड और गले की मांसपेशियों को मज़बूती मिलती है.ख़ासतौर से बढ़ती उम्र में यह और भी फ़ायदेमंद है. - ॐ के नियमित उच्चारण से जो कंपन पैदा होता है, उसकाअसर वोकल कॉर्ड और साइनस पर भी पड़ता है. - यह रक्तचाप को नियंत्रित करता है. पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है. …

ॐ तीन अक्षरों से बना है, पहला अ, जिसका मतलब हैउत्पन्न होना, दूसरा उ, जिसका मतलब है विकास और तीसरा हैम, जिसका अर्थ है मौन यानी ब्रह्म में विलीन हो जाना. ॐ अस्तित्व की आवाज़ कही जाती है और इसके कई हेल्थ बेनीफिट्स भी हैं, आइए आपको ॐ के उच्चारण से होनवाले हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में बताते हैं…

– शरीर के टॉक्सिन्स निकल जाते हैं.

– वोकल कॉर्ड और गले की मांसपेशियों को मज़बूती मिलती है.ख़ासतौर से बढ़ती उम्र में यह और भी फ़ायदेमंद है.

– ॐ के नियमित उच्चारण से जो कंपन पैदा होता है, उसकाअसर वोकल कॉर्ड और साइनस पर भी पड़ता है.

– यह रक्तचाप को नियंत्रित करता है. पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है. 

– थकान को मिटाने का बेहतरीन उपाय है कि कुछ देर ॐ का उच्चारण किया जाए.

– कुछ लोगों के निजी अनुभव तो यह भी कहते हैं कि ॐ के जपसे उनका वज़न भी नियंत्रित रहता है, क्योंकि इसके वाइब्रेशन्स पूरे शरीर को प्रभावित करते हैं और बढ़ते वज़न को कम करते हैं.

– थायरॉइड नियंत्रित रहता है.

– यह पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है, 

– थकान दूर करके एनर्जी देता है, विशेष प्रकारके प्राणायाम के साथ इसका जाप करने से यह फेफड़ों को मज़बूत बनाता है, इससे नींद अच्छी आती है, 

– हड्डियां मज़बूत होती हैं, क्योंकि इसकी फ्रीक्वेंसी शरीर में विशेष प्रकार का कंपन्न पैदा करती है. इसके अलावा यह मानसिक शांति प्रदान करता है, 

यही वजह है मंत्रों में ॐ का इतना महत्व है. कई तरह के क्लिनिकल रिसर्च से भी यह पता चलता है कि ॐ के जाप से मस्तिष्क वशरीर में जो वाइब्रेशन होता है, उसका प्रभाव काफ़ी सकारात्मक होता है.

यह भी पढ़ें: ब्रह्म मुहूर्त का क्या महत्व है और संस्कृत को क्यों माना जाता है वैज्ञानिक भाषा… जानें इन मान्यताओं के पीछे का साइंस! (Science Behind Practising Hindu Rituals & Rites)

Share
Published by
Geeta Sharma

Recent Posts

लघुकथा- लोभ का कुआं (Short Story- Lobh Ka Kuan)

पंडित का अहंकार सामने आ गया- 'मैं राज पंडित एक गडरिए का शिष्य बनूं?' पर…

इस कदर ज्योतिष में विश्वास रखती हैं एकता कपूर कि जानकर दंग रह जाएंगे आप (Ekta Kapoor Believes In Astrology So Much That You Will Be Stunned To Know)

टीवी और बॉलीवुड इंडस्ट्री की जानी मानी हस्ती एकता कपूर के बारे में ऐसे तो…

तेनाली रामा की कहानी: बेशकीमती फूलदान (Tenali Rama Story: Can A Flower Vase Take Life)

राजा कृष्णदेव राय के विजयनगर में हर साल वार्षिक उत्सव बहुत ही धूमधाम से बनाया…

© Merisaheli