Director

मधुर भंडारकर ने करण जौहर पर ना सिर्फ़ फिल्म का टाइटल चुराने का इल्ज़ाम लगाया बल्कि सोशल मीडिया पर भी अपनी बात रखी.

करण के वेब शो फैबुलस लाइव्स ऑफ बॉलीवुड वाइव्स’ (Fabulous Lives Of Bollywood Wives) को लेकर यह इल्ज़ाम है. हाल ही में इसके ट्रेलर रिलीज़ के बाद मधुर ने ट्वीट किया कि प्रिय करण जौहर आप और अपूर्व मेहता ने मुझसे वेब के लिए इस टाइटल की मांग की थी, जिसे मैंने अस्वीकार कर दिया था, क्योंकि मेरा काम प्रोजेक्‍ट पर चल रहा था. यह नैतिक और सैद्धांतिक रूप से गलत है कि आपने फिर भी इस टाइटल ‘द फैबुलस लाइव्स ऑफ बॉलीवुड वाइव्स’ का इस्तेमाल कर लिया. कृपया मेरे प्रोजेक्ट को बर्बाद ना करें. मैं विनम्रतापूर्वक आपसे आग्रह करता हूं कि इसका शीर्षक बदल दें.

ट्वीट पर लोगों की प्रतिक्रिया भी आ रही है, कोई करण को मूवी माफ़िया कह रहा है तो कोई कंगना के समर्थन में बात कर रहा है कि जब कंगना ने आवाज़ उठाई तब कोई नहीं बोला.

Karan Johar

मधुर ने इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (IMPPA) में भी धर्मा प्रोडक्शन के खिलाफ शिकायत दर्ज की है. IMPPA का कहना है कि उन्होंने करण जौहर को यह टाइटल जारी नहीं किया है. रिपोर्ट्स के अनुसार एसोसिएशन ने धर्मा प्रोडक्शन और नेटफ्लिक्स को पत्र लिखकर टाइटल बदलने के लिए कहा है.

Madhur Bhandarkar

बात इस वेब शो की करें तो यह बॉलीवुड स्टार्स की पत्नियों की लाइफ़स्टाइल को लेकर है कि वो कैसे अपनी ज़िंदगी जीती हैं और पर्सनल लाइफ़ में क्या क्या करती हैं. करण और अपूर्व मेहता की तरफ़ से इस बारे में फ़िलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. लेकिन यह पहली बार नहीं है कि करण विवादों में घिरे हों, उनका और विवादों का चोली-दामन का साथ रहा है और हाल ही में सुशांत की मौत के बाद तो वो काफ़ी खबरों में रहे, कभी उन पर नेपोटिज़्म को बढ़ावा देने का तो कभी ड्रग्स पार्टी अरेंज करने का आरोप लगता है रहा. और अब ताज़ा मामला चोरी का.

यह भी पढ़ें: जब करीना ने बिपाशा को काली बिल्ली बोलकर जड़ दिया था थप्पड़, जानें क्या थी वो डर्टी कैट फाइट! (Throwback: Ugly Cat Fight, When Kareena Kapoor Allegedly Slapped Bipasha Basu)

बॉलीवुड एक्टर विजय पर उनकी को-एक्ट्रेस ने छेड़छाड़ का आरोप लगाया है. विजय कुछ दिन पहले बालाघाट में फिल्म ‘शेरनी’ की शूटिंग के लिए पहुंचे थे और इसी फिल्म की शूटिंग के दौरान कथित रूप से विजय राज ने एक महिला के साथ छेड़छाड़ की. विजय राज को महाराष्ट्र के गोंदिया से गिरफ्तार किया गया है.

विजय राज बॉलीवुड फिल्मों के जाने-पहचाने अभिनेता हैं. विजय राज अभिषेक बच्चन की फिल्म रन में कौवा बिरियानी वाले सीन की वजह से काफी मशहूर हुए थे. वो वेलकम, गली बॉय, मुंबई टू गोवा, धमाल जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं. फिल्म रन में ‘कौवा-बिरयानी’ सीन को लेकर विजय राज काफी फेमस हुए थे. इसके अलावा 2001 में आई फिल्म मानसून वेडिंग की सफलता के बाद विजय राज बॉलीवुड में चर्चा में आए और छा गए. 57 वर्षीय विजय राज ने बॉलीवुड करियर की शुरुआत 1999 में फिल्म भोपाल एक्सप्रेस से की थी.

Vijay Raaz

यह पहला मौका नहीं है जब विजय राज इस तरह से चर्चा में आए, इससे पहले भी कुछ साल पहले ड्रग्स रखने के आरोप में विजय राज को दुबई में गिरफ्तार कर लिया गया था, लेकिन बाद में ड्रग्स रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उन्हें छोड़ दिया गया था.

विजय राज एक्टिंग के अलावा निर्देशन में भी हाथ आजमा चुके हैं, उनकी गिनती बेहतरीन हास्य अभिनेताओं में होती है. विजय की इस पूरे मामले में फ़िलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई. एक्टर पर आईपीसी की धारा 354 के तहत केस दर्ज किया गया है. हालांकि कुछ समय बाद विजय को ज़मानत ज़रूर मिल गई.

यह भी पढ़ें: महिलाओं को लेकर मुकेश खन्ना के विवादित बयान पर भड़कीं दिव्यांका त्रिपाठी, बोलीं ऐसी सोच पर शर्मिंदगी महसूस होती है! (Divyanka Tripathi Condemns Mukesh Khanna For His Regressive Statement On #MeToo)

वक़्त इंसान को क्या क्या नहीं दिखा और सिखा जाता है। कोरोना ने भी पूरी दुनिया को एक बुरा वक़्त और बुरा दौर दिखा दिया है. इसकी मार हर वर्ग और तबके पर पड़ी और हैरानी तो तब हुई जब सिनेमा और टीवी की चकाचौंध में एक मुक़ाम रखनेवाले भी इससे अछूते नहीं रहे.

भला कौन सोच सकता है कि बालिका वधू, सुजाता और कुछ तो लोग कहेंगे जैसे इतने मशहूर और सुपरहिट शो को डायरेक्ट करनेवाले रामवृक्ष गौड़ अपने गाँव में सब्ज़ियाँ बेचते नज़र आएँगे.

Balika Vadhu TV Show Director


रामवृक्ष आज़मगढ़ में रह रहे हैं और वो लॉकडाउन के चलते यहां चले आए थे. मुंबई में भी काम बंद था जिस वजह से वो वहां भी नहीं रह सकते थे. आज वो परिवार का पेट पालने के लिए सब्ज़ी का ठेला लगाते हैं. हालाँकि रामवृक्ष और उनके परिवार को कोई शिकायत नहीं है. वो अब भी काफ़ी आशावादी हैं और उनका मानना है कि बुरा वक़्त भी गुज़र जाएगा और वो फिर से मुंबई आकर अपनी ज़िंदगी आगे बढ़ाएँगे.

Balika Vadhu TV Show Director

रामवृक्ष ने ना सिर्फ़ टीवी सीरियल्स का निर्देशन किया है बल्कि फ़िल्मी दुनिया में भी उन्हें 22 साल का अनुभव है. वो कई बड़े कलाकारों के साथ काम कर चुके हैं. 25 से अधिक सीरियल्स का निर्देशन कर चुके रामवृक्ष 2002 में मुंबई आए थे. यहां काफ़ी संघर्ष किया. बिजली विभाग में भी काम किया. सहायक निर्देशक के तौर पर भी काम किया और उन्हें निर्देशन इतना भा गया कि इसी को अपना करियर बना लिया। उनके काम को काफ़ी सराहा भी गया.
लेकिन फ़िलहाल वो अपने पिताजी के सब्ज़ी बेचनेवाले काम से संतुष्ट हैं और बस अच्छे दिनों का इंतज़ार कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: कोकिला मोदी से लेकर कमोलिका तक, देखें अपने फेवरेट टीवी स्टार्स के रिवाइंड लुक्स! (Watch Rewind Looks Of Your Favourite TV Actresses)

फ़िल्म रोड और प्यार तूने क्या किया जैसी फिल्म का निर्देशन कर चुके रजत मुखर्जी का निधन हो गया. वो जयपुर में रह रहे थे और काफ़ी दिनों से बीमार चल रहे थे. वो लेट फिफटीज़ में थे. सुनने में आया है कि उन्हें दिल से सम्बंधित बीमारी थीं.
रजत होली मनाने के लिए जयपुर आए थे और लॉकडाउन के कारण फिर वहीं फँस गए.

बॉलीवुड इस खबर से स्तब्ध है और रजत के करीबी मनोज वाजपायी और अनुभव सिन्हा ने ट्वीट करके अपना दुःख व्यक्त किया.

ग़ौरतलब है कि पिछले कुछ समय से इंडस्ट्री से जुड़ी ऐसी ही खबरें आ रही हैं. कई कलाकारों को हमने खो दिया जिससे सभी दुखी हैं और ऐसे में एक और बुरी खबर ने सबको तोड़ दिया.
रजत ने रविवार 19 जुलाई 2020 की सुबह अंतिम सांसें लीं.

मनोज बजपायी ने काफ़ी भावुक ट्वीट किया क्योंकि वो उनके काफ़ी क़रीब थे,


यह भी पढ़ें: ये हैं बॉलीवुड की 7 नकचढ़ी एक्ट्रेसेस, जिनका घमंड रहता है सातवें आसमान पर! (7 Most Egoistic Bollywood Actresses)

आज ऋतिक रोशन (Hritik Roshan) के पापा राकेश रोशनजी (Rakesh Roshan) का जन्मदिन (Birthday) है. हर पिता को बेहद गर्व महसूस होता है, जब उन्हेंे उनके बेटे के नाम से अधिक जाना जाता है. ऋतिक ने जहां अपने पिता को ज़िंदगी के अनगिनत सबक सीखाने के लिए धन्यवाद कहा, वहीं उन्हें अपना प्रेरणास्त्रोत भी माना.

Hrithik Roshan Wishes Papa Rakesh Roshan

उनके अनुसार, वे हमेशा ही ज़िंदगी में एक विद्यार्थी रहे और बचपन से ही उनमें सीखने और जानने की प्रबल उत्सुकता रही है. लेकिन जब वे जीवन की बारीक़ियों को जानते-समझते उसके पहले पिता राकेश रोशन ने ही उन्हें जीवन के कई पाठ सिखला दिए. ये सभी बातें ऐसी थीं, जो कोई भी एज्युकेशन इंस्टीट्यूट, एक्टिंग क्लास या फिर कोई बुक नहीं सीखला सकता. आपने ही मुझे एक अच्छा इंसान, पिता, पुत्र, अभिनेता, दोस्त बनाया है. साथ मेरे बच्चों के सामने भी मैं एक मिसाल व उदाहरण बन पाया, जैसे की आप मेरे लिए हैं. इन सब के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद… हैप्पी टीचर्स डे… हैप्पी बर्थडे!…

पिता-पुत्र, राकेश रोशन व ऋतिक रोशन की एक अच्छी मित्र जैसी बॉन्डिंग है, जो अक्सर देखने व पढ़ने को मिलती है. ऋतिक रोशन के सफल करियर में उनके पिता राकेश का बहुत बड़ा हाथ रहा है. उनके प्रोडक्शन की कहो ना प्यार है, कोई मिल गया… से जो कामयाबी के सफ़र की शुरुआत हुई, वो क्रिश तक बरक़रार है. अब तो वे क्रिस 4 पर काम कर रहे हैं, जो साल 2020 में रिलीज़ होगी.

Hrithik Roshan and Rakesh Roshan

राकेश रोशन से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें…

* राकेश रोशन ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत फिल्म घर घर की कहानी से की थी, पर उन्हें सही मायने में कामयाबी अपने प्रोडक्शन की फिल्मों में अधिक मिली, जैसे- ख़ुदगर्ज, कामचोर, ख़ून भरी मांग आदि.

* राकेश रोशन को लेकर कई अफ़वाहें भी हैं कि वे गंजे थे, पर फिल्मों में हीरो के क़िरदार की ख़ातिर विग लगाते थे. बाद में जब वे निर्देशन में उतरे, तो उन्होंने विग निकाल दिया. वैसे ऐसी बातें अभिनेता राजकुमार के बारे में भी कही जाती थी कि वे विग लगाते थे, जबकि वे गंजे थे.

* लेकिन इस बात में एक ट्विस्ट यह भी है कि जब साल 1987 में उन्होंने ख़ुदगर्ज फिल्म बनाई थी, तब फिल्म की सफलता के लिए तिरुपति बालाजी में मन्नत मांगी थी कि यदि फिल्म हिट हो जाएगी, तो वे अपने सिर के बाल निकलवा देंगे यानी गंजे हो जाएंगे. संयोग देखिए फिल्म सुपर-डुपर हिट हुई. पर पत्नी पिंकी के कहने के बावजूद राकेशजी ने बाल नहीं निकलवाया, लेकिन बाद में वे गंजे हो गए. इसी बीच उनकी दूसरी फिल्म ख़ून भरी मांग ने भी कामयाबी के कई इबारत लिखें. तब उन्होंने ़फैसला कर लिया कि अब वे गंजे ही रहेंगे.

* राकेश रोशन की तक़रीबन हर फिल्म सफल रही है. फिर चाहे वो निर्माता के तौर पर आपके दीवाने हो या फिर निर्देशन के रूप में किशन कन्हैया, काला बाज़ार, कोयला, कहो ना प्यार है, कोई मिल गया, क्रिश आदि हो.

* राकेश रोशन की अधिकतर सभी फिल्मों का संगीत उनके भाई राजेश रोशन ने ही दिया है. दोनों भाइयों में ग़ज़ब की बान्डिंग और प्यार है.

* राजेश रोशन उनके जन्मदिन पर बचपन की यादों को ताज़ा करते हुए कहते हैं कि राकेश रोशन को बचपन में अपने बर्थडे की पार्टी देने का बहुत शौक था. वे अक्सर जन्मदिन पर अपने दोस्तों के साथ मौज-मस्ती किया करते थे. तब मैं भी साथ में जाने की ज़िद करता था, तो वे मना कर देते. तब हमारे बीच ख़ूब लड़ाई होती. मैं मां से भी उनकी शिकायत करता, पर वे कभी साथ नहीं ले जाते.

* बकौल उनके राकेशजी एक सच्चे योद्धा भी थे. जब अंडरवर्ल्ड के लोगों ने उन पर गोली से हमला किया था, तब गोली उनके सीने पर दिल के पास लगी थी. इस स्थिति में डॉक्टर, हॉस्पिटल जाने की बजाय वे हमलावरों को ललकारते हुए उनका पीछा करने पर ज़ोर देते रहे और पुलिस स्टेशन जाकर उनकी शिकायत दर्ज करवाई. सच, में रीयल हीरो व फाइटर हैं वे.

* राकेशजी को म्यूज़िक व गीतों की भी अच्छी समझ है. अपने भाई राजेश के वे शुभचिंतक के साथ-साथ सबसे बड़े आलोचक भी हैं. जहां उन्हें कुछ खटकता वे दख़लअंदाज़ी करते और धुन के साथ या फिर गाकर उन्हें गीत-संगीत की बारीक़ियों के बारे में समझाते.

* आज भी राकेश रोशन अपने बर्थडे पर जमकर पार्टी करते हैं. सभी यार-दोस्तों की महफ़िल सजती है. सभी पुराने दिनों की यादें ताज़ा करते हैं.

Hrithik Roshan and Rakesh Roshan

* राकेश रोशन की शिक्षा सातारा (महाराष्ट्र) के आर्मी स्कूल में हुई थी, इसलिए उनके जीवन में अनुशासन का बहुत महत्व रहा है. तब वे हर रोज़ सुबह चार बजे उठा करते थे और एक मील तक जॉगिंग करते थे. इसके अलावा गेम्स, बॉक्सिंग, हार्स राइडिंग भी किया करते थे. अपने बेटे व पोतों को भी वे अनुशासन की पाठ अक्स पढ़ाते रहते हैं. तभी तो ऋतिक उन्हें अपना श्रेष्ठ गुरु मानते हैं. मेरी सहेली की तरफ़ से राकेशजी को जन्मदिन की शुभकामनाएं!…

यह भी पढ़ेविराट ने बताया कि अनुष्का से पहली बार मिलने पर उन्होंने क्या कहा था? ( Virat Kohli Opens Up On His First Fateful Meeting With Anushka Sharma)

Karan Johar

Birthday Special: करन जौहर के जन्मदिन पर बॉलीवुड ने दिल खोल के दी शुभकामनाएँ! (Happy Birthday Karan Johar)

बॉलीवुड (Bollywood) के मोस्ट स्टाइलिश फ़िल्म्मेकर (Most Stylish Filmmaker) करन जौहर (Karan Johar) अपना ४७वाँ जन्मदिन (Birthday) मना रहे हैं और पूरा बॉलीवुड उन्हें विश कर रहा है, क्यूँकि वो हैं सबके पसंदीदा director!

Actor-Director-Writer Neeraj Vora Passes Away

ऐक्टर-डायरेक्टर-राइटर का गुरुवार की सुबह 4 बजे निधन हो गया. मुंबई के क्रिटी केयर अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली. मल्टी ऑर्गन फेल्योर की वजह से उनका निधन हो गया. नीरज लंबे समय से बीमार थे. पिछले साल उन्हें ब्रेन स्ट्रोक और हार्ट अटैक आया था, जिसके बाद वो कोमा में चले गए थे. दिल्ली के एम्स अस्पताल में उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. इस मुश्किल घड़ी में उनके दोस्त साजिद नाडियाडवाला ने उनका साथ दिया और वो नीरज को अपने मुंबई स्थित बंगले बरकत में ले आए. उन्होंने अपने बंगले का एक कमरा आईसीयू में तब्दील कर दिया था. नीरज के देखरेख के लिए वहां 24 घंटे एक नर्स, वॉर्ड ब्वाय रहते थे. इसके अलावा डॉक्टर्स आकर उनका इलाज करते रहते थे. बीच में उनकी तबियत में सुधार भी आया था, लेकिन पिछले चार दिनों में उनकी तबियत फिर बिगड़ गई थी. साजिद ने नीरज की मौत की जानकारी देते हुए कहा कि मैं अपने दोस्त और भाई को बचाने की लड़ाई हार गया.

फिल्मी सफ़र

नीरज बेहद ही टैलेंट ऐक्टर, राइटर और डायरेक्टर थे. बीमार पड़ने से पहले नीरज अपनी फिल्म हेरा फेरी 3 पर काम कर रहे थे. इससे पहले उन्होंने फिर हेरा फेरी और खिलाड़ी 420 जैसी फिल्मों का निर्देशन भी किया था. नीरज तब सुर्खियों में आए जब उन्होंने सुपरहिट फिल्म रंगीला के डायलॉग्स लिखे. इसके बाद उन्होंने अकेले हम अकेले तुम, ताल, जोश, बदमाश, चोरी चोरी चुपके चुपके, आवारा पागल दीवाना के लिए भी डायलॉग्स लिखे थे.

यह भी पढ़ें: HBD: पति के साथ थाईलैंड में बर्थडे सेलिब्रेट करेंगी इशिता, देखें पिक्स

परेश रावल सहित कई सेलेब्स ने नीरज की मौत पर दुख जताया है.

मेरी सहेली की ओर से टैलेंट ऐक्टर नीरज वोरा को भावभीनी श्रद्धांजलि.

gurudutt

हैप्पी बर्थ एनीवर्सरी- गुरु दत्त: एक सोच, एक ख़्याल… एक मिसाल, एक सवाल- जानें अनकही बातें! Birth Anniversary: Facts You Should Not Miss About Guru Dutt
  • गुरु दत्त (Guru Dutt) अपने आप में एक मिसाल का नाम है. जी हां, वो न स़िर्फ एक मंजे हुए अभिनेता (Actor) थे, बल्कि एक बेहतरीन निर्देशक (Director) भी थे.
  • कला को पहचानने की उनमें ग़ज़ब की क्षमता थी.
  • अपने ख़्यालों को, अपनी सोच को किस तरह से रूपहले पर्दे पर जीवंत होते देखा जा सकता है, इसे परखने की उनकी कला के सभी कायल थे.
  • यही वजह है कि आज भी इस अभिनेता का नाम आते ही मन में सम्मान और आंखों में कुछ सवाल भी उभर आते हैं.
  • सम्मान उनके कौशल के लिए और सवाल उनकी निजी ज़िंदगी के लिए… जी हां, आज भी गुरु दत्त सबके लिए एक पहेली या एक सवाल बने हुए हैं.

Dreamer

  • उनकी निजी ज़िंदगी के बारे में बहुत कुछ कहा, लिखा गया, लेकिन आज भी वो सवाल बरक़रार हैं कि आख़िर क्यों इतना टैलेंटेड एक्टर, इतना युवा निर्माता-निर्देशक दुनिया को इस तरह से छोड़ गया था.
  • उनकी बर्थ एनीवर्सरी पर आज हम उन्हें एक मिसाल के रूप में याद करेंगे.
  • बोलती आंखों और गहरी सोचवाले गुरु दत्त का जन्म 9 जुलाई 1925 को बैंगलोर (आज बैंगलुरू) में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था. बहुत कम लोग जानते हैं कि उनका असली नाम वसंत कुमार शिवशंकर पादुकोण था.
  • उनका बचपन कलकत्ता (अभी कोलकाता) में गुज़रा था, यही वजह है कि उनकी निजी जीवन पर भी वहां की संस्कृति का काफ़ी प्रभाव पड़ा था, यही वजह है कि उनकी फिल्मों में भी वहां की छाप नज़र आती है.

Guru-Dutt

  • गुरु दत्त ने कलकत्ता में टेलीफोन ऑपरेट की नौकरी से शुरुआत की थी, लेकिन उनका कलाप्रेमी मन मशीनों में उलझकर नहीं रहना चाहता था, यही वजह है कि उन्होंने जल्द ही मुंबई का रुख़ कर लिया और जल्द ही बॉलीवुड में एक मुकाम हासिल किया.
  • उनकी फ़िल्में- प्यासा, साहिब बीबी और गुलाम, काग़ज़ के फूल, चौदहवीं का चांद आज भी एक बेंचमार्क हैं.
  • यही वजह है कि प्यासा और काग़ज़ के फूल को टाइम पत्रिका (Time Magazine) की 100 सर्वश्रेष्ठ फिल्मों की सूचि में शामिल किया गया और साइट एंड साउंड आलोचकों और निर्देशकों के सर्वेक्षण में गुरु दत्त को सबसे बड़े निर्देशकों में जगह मिली.
  • वर्ष 2010 में सीएनएन (CNN) के ऑल टाइम 25 सर्वश्रेष्ठ एशियाई अभिनेताओं में गुरु दत्त भी शामिल हुए.
  • उनके हुनर के चलते ही उन्हें भारत का ऑर्सन वेल्स (Orson Welles) भी हा जाता था.
  • बहुत कम लोग ही जानते हैं कि गुरु दत्त कोरियोग्राफी का भी हुनर जानते थे और ख़ुद बहुत अच्छे कोरियोग्राफर भी थे.

21waheeda-rehman3

  • बात उनकी निजी ज़िंदगी की करें, तो गीता दत्त से उनकी शादी हुई, लेकिन कहा जाता है कि शादी, प्यार और भावनाओं की कश्मकश ही उनकी आत्महत्या का कारण बनी.
  • वहीदा रहमान (Waheeda Rehman) जैसी अदाकारा को उन्होंने ने ही बॉलीवुड में एंट्री दिलाई और वो उनकी कला से इतने प्रभावित थे कि वहीदा के लाख मना करने के बाद भी उन्होंने उन्हें फिल्मों में काम करने के लिए तैयार कर लिया.
  • वहीदा के अलावा जॉनी वॉकर भी गुरु दत्त की ही खोज माने जाते हैं. अपने करियर की शुरुआत में देवानंद (Dev Anand) और रहमान से उनकी जो दोस्ती हुई, वो दोस्ती और भी गहरी हुई और ताउम्र वो दोनों उनके अच्छे दोस्तों में गिने जाते रहे.
  • देवानंद से दोस्ती के चलते ही उन्हें नवकेतन (Navketan) की फिल्म बाज़ी (Bazi) के निर्देशन का मौका मिला, जहां सभी ने उनकी हुनर को पहचाना.
  • देवानंद ने ही एक बार उनके बारे में कहा था कि गुरु दत्त असफलता को पचा नहीं पाते.
  • इसी तरह उनकी पड़ोसी रह चुकी नादिरा ने भी कहा था कि वो हमेशा एक डिप्रेशन में रहते थे, क्योंकि वो यह महसूस करते थे कि अपने रिश्तों और फिल्मों को वो इतना नहीं दे पा रहे, जितना वो देना चाहते हैं.

Lack-of-Mass-Appeal

  • 10 अक्टूबर 1964 को गुरु दत्त ने ज़िंदगी को छोड़ मौत का दामन थाम लिया और हमने एक होनहार कलाकार बहुत जल्द खो दिया. उनकी बर्थ एनीवर्सरी पर उन्हें दिल से नमन करते हैं.
देखते हैं गुरु दत्त की उत्कृष्ट फिल्मों के दिल को छू लेने वाले गीत…

फिल्म: प्यासा, गाना: जाने वो कैसे लोग थे जिनके प्यार को प्यार मिला…

https://www.youtube.com/watch?v=EhDCAmXKBBs

फिल्म: चौदहवीं का चांद, गाना: चौदहवीं का चांद हो या आफताब हो…
https://www.youtube.com/watch?v=5ZUR92B-UzE

फिल्म: प्यासा, गाना: ये महलों ये तख्तों ये ताजों की दुनिया… ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है…

फिल्म: प्यासा, गाना: हम आपकी आंखों में इस दिल को सजा दें तो…
https://www.youtube.com/watch?v=vBTcsTd2kF0

फिल्म: साहिब बीबी और गुलाम, गाना: भंवरा बड़ा नादान हाय…
https://www.youtube.com/watch?v=DHyRikMZXqw

IMG_7389242354 (1)राज कपूर के बाद बॉलीवुड के दूसरे शोमैन कहे जाने वाले सुभाष घई (Subhash Ghai) हो गए हैं 72 साल के. बॉलीवुड के इस शोमैन ने हिंदी सिनेमा को कई बेहतरीन फिल्में और जैकी श्रॉफ, माधूरी दीक्षित, मीनाक्षी शेषाद्री, मनीषा कोइराला, महिमा चौधरी, श्रेयस तलपड़े जैसे ऐक्टर्स दिए हैं. कोरियोग्राफर सरोज खान को भी उन्होंने ही फिल्मों में मौक़ा दिया था.

आइए जानते हैं उनके बारे में कुछ बातें.

  • 24 जनवरी 1945 को नागपुर में जन्में सुभाष घई हीरो बनना चाहते थे. बचपन के इस सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने पुणे के फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से डिग्री हासिल की.
  • सुभाष पुणे से मुंबई आ गए और कुछ फिल्मों में ऐक्टिंग की, लेकिन ऐक्टर के तौर पर पहचान नहीं बना पाए.
  • सुभाष की किस्मत में था एक कामयाब निर्देशक बनना. उन्होंने बतौर निर्देशक अपने करियर की शुरूआत की साल 1976 में फिल्म कालीचरण के साथ. फिल्म हिट साबित हुई, जिसके बाद उन्होंने एक के बाद एक कई सुपरहिट फिल्में दीं.
  • साल 1982 में सुभाष घई ने अपनी प्रोडक्शन कंपनी मुक्ता आटर्स की स्थापना की और फिल्म हीरो बनाई. हीरो से उन्होंने जैकी श्राफ को लॉन्च किया था.
  • सुभाष घई बॉलीवुड के पहले ऐसे प्रोड्यूसर हैं, जिन्होंने अपनी फिल्म ताल के ज़रिए फिल्म इंश्योरेंस पॉलिसी की शुरुआत की. इसके अलावा फिल्मों को बैंक से फाइनेंस करवाने का कॉन्सेप्ट शुरू करने का श्रेय भी उन्हीं को जाता है.
  • इंडस्ट्री को नए ऐक्टर्स देने के लिए सुभाष घई ने विसलिंग वूड्स नाम से ऐक्टिंग स्कूल भी खोला है. ये स्कूल दुनिया के टॉप 10 फिल्म स्कूलों में से एक माना जाता है.
  • घई साहब अपने काम के मास्टर हैं, आपको जानकर आश्चर्य होगा कि परदेस फिल्म के सुपरहिट गाने ये दिल दिवाना… उन्होंने केवल 4 घंटे में शूट किया था, क्योंकि शाहरुख को इसी दिन रात की फ्लाइट पकड़नी थी. जब गाना बनकर तैयार हुआ, तब सब ये गाना देखकर दंग रह गए.

मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से शोमैन सुभाष घई को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं.

farah khan

बॉलीवुड की टॉप की डांस कोरियोग्राफर फराह खान हो गई हैं 52 साल की. ख़ास बात ये है कि आज ही फराह के कज़िन फरहान अख्तर का भी बर्थडे है. 9 जनवरी 1965 को मुंबई में जन्मी बिंदास नेचर वाली फराह के लिए बॉलीवुड की राह आसान नहीं थी. आज वो बॉलीवुड की टॉप की कोरियोग्राफर हैं, पर उन्होंने डांस की कोई ट्रेनिंग नहीं ली है. फराह माइकल जैक्सन से काफ़ी इंस्पायर्ड थीं, उन्होंने ख़ुद से डांस सीखा और फिल्मों में काम शुरू किया. जो जीता वही सिंकदर फराह के लिेए ख़ास फिल्म रही. ये फिल्म सरोज खान ने छोड़ दी थी, जिसके बाद फराह को ये फिल्म मिल गई. फिल्म का पहला नशा… गाना सुपरहिट हो गया और लोग फराह खान को जानने लगे. शाहरुख और फराह की दोस्ती बॉलीवुड में काफ़ी फेमस है, दोनों की मुलाकात कभी हां, कभी ना के सेट पर हुई थी और फिर दोनों की दोस्ती इतनी गहरी हो गई कि शाहरुख की होम प्रोडक्शन फिल्म मैं हूं ना को फराह ने डायरेक्ट किया. फराह ने शिरीन फरहाद की तो निकल पड़ी फिल्म से ऐक्टिंग में भी डेब्यू किया. एक कामयाब कोरियोग्राफर के साथ वो एक कामयाब निर्देशिका भी हैं. देखें फराह के कोरियोग्राफ किए हुए टॉप 5 सॉन्ग्स.

फिल्म- जो जीता वही सिकंदर

https://www.youtube.com/watch?v=19zvNxasmDU

फिल्म- तीस मार खां

फिल्म- दिल से

https://www.youtube.com/watch?v=-3eosg8OuF0

फिल्म- कोई मिल गया

https://www.youtube.com/watch?v=jJmHMINDGxA

फिल्म- दबंग

मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से फराह को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं.