तो इसलिए देव आनंद ने दिलीप ...

तो इसलिए देव आनंद ने दिलीप कुमार को कभी माफ नहीं किया (The real reason why Dev Anand Always Hated Dilip Kumar)

हिंदी सिनेमा के दो दिग्गज… दिलीप कुमार और देव आनंद, पर इन दोनों के रिश्ते कभी अच्छे रहे ही नहीं. दोनों ने एक साथ सिर्फ एक फ़िल्म ‘इंसानियत’ में काम किया. लेकिन फिर दिलीप कुमार ने कुछ ऐसा कर दिया कि देव आनंद उन्हें कभी माफ नहीं कर पाए. कहा जाता है कि एक साथ फ़िल्म करना तो दूर, देव साहब ने फिर कभी दिलीप कुमार से बात भी नहीं की और पूरी शिद्दत से दुश्मनी निभाई. क्या था पूरा मामला आइये जानते हैं.

ये बनी इनकी दुश्मनी की वजह

Dev Anand And Dilip Kumar

दरअसल इन दोनों की दुश्मनी की वजह थीं सुरैया. दिलीप कुमार सुरैया को बेहद पसन्द करते थे, जबकि सुरैया को देव साहब से बेइन्तहां मोहब्बत थी और यही इनके बीच तकरार की वजह भी बनी. कहते हैं सुरैया को पाने के लिए दिलीप कुमार ने ऐसी चाल चली कि सुरैया देव साहब से हमेशा के लिए दूर हो गईं. देव साहब ये बर्दाश्त नहीं कर पाए और दिलीप कुमार की इस हरकत को कभी माफ नहीं कर पाए.

जब सुरैया को देखकर बिगड़ गई थी दिलीप कुमार की नीयत

Dilip Kumar

सुरैया अपने ज़माने की बड़ी एक्ट्रेस थीं और दिलीप कुमार भी बहुत बड़े स्टार थे. दिलीप कुमार और सुरैया की जोड़ी को सब बेहद पसन्द करते थे और उनकी ऑनस्क्रीन केमिस्ट्री के सब दीवाने थे. फिल्में करते करते दिलीप साहब सच में सुरैया के दीवाने हो गए और एक बार तो सुरैया को लेकर उनकी नीयत भी बिगड़ गई थी. हुआ यूं कि के. आसिफ की फ़िल्म ‘जानवर’ के एक सीन के मुताबिक सुरैया को पैरों में सांप काट लेता है और दिलीप कुमार को सांप का जहर चूसकर बाहर निकालना था. पहली ही बार में सीन बढ़िया शूट हो गया. बावजूद इसके सीन को लगातार चार दिन तक बार बार शूट किया जाता रहा. शुरुआत में सुरैया ने कोई ना-नुकुर नहीं दिखाई, लेकिन उन्हें दिलीप कुमार की नीयत सही नहीं लग रही थी और वो समझ गई थीं कि वो निर्देशक के साथ मिलकर उनके साथ कुछ गड़बड़ करने की कोशिश कर रहे हैं. आखिर सुरैया ने उस सीन का बार बार रीटेक देने से मना कर दिया और बिना बताए सेट छोड़कर निकल गईं. इसके बाद के. आसिफ ने फिल्म को ठंडे बस्ते में डाल दिया. बस उस दिन के बाद से फिर कभी दिलीप कुमार और सुरैया ने साथ काम नहीं किया.

देव आनंद से बढ़ीं सुरैया की नजदीकियां

Dev Anand

देव आनंद ने भले ही पर्दे पर हजारों हसीनाओं से प्यार किया था, पर असल जिन्दगी में देव आनंद का पहला प्यार सुरैया थीं और देव साहब ने हमेशा अपने प्यार का इजहार खुलकर किया. फ़िल्म ‘विद्या’ में दोनों ने पहली बार साथ काम किया था. दोनों को पहली नजर में ही प्यार हो गया था. फिल्म के सेट पर दोनों की नजरें एक दूसरे को ही तलाशती रहतीं. सुरैया और देव आनंद की इश्क के चर्चे पूरी फिल्म इंडस्ट्री में होने लगे.

Dev Anand

आखिर सुरैया की नानी को भी इसकी भनक लग गई. उन्होंने देव आनंद के घर आने पर पाबंदी लगा दी. हालांकि सुरैया की मां देव आनंद को बेहद पसंद करती थीं, लेकिन घर में सुरैया की नानी का हुक्म चलता था और वो एक हिंदू-मुस्लिम शादी के पक्ष में नहीं थीं. कहा जाता है कि उनकी नानी को फिल्म में देव आनंद के साथ दिए जाने वाले रोमांटिक दृश्यों से भी आपत्ति थी. वो दोनों की मोहब्बत का खुलकर विरोध करती थीं.

दोनों का रिश्ता खत्म करवाने में दिलीप कुमार भी शामिल थे

Dev Anand And Dilip Kumar

कहते हैं कि मुसलमान सुरैया के हिन्दू देव आनंद के रिश्ते की चर्चा उस समय पूरी इंडस्ट्री में थी. इंडस्ट्री के बड़े मुस्लिम फ़िल्म मेकर्स जिसमें महबूब खान, के आसिफ और नौशाद साहब खासतौर पर शामिल थे, वे नहीं चाहते थे कि ये शादी हो. वो अपनी तरफ से इस रिश्ते को तुड़वाने की भरसक कोशिश कर रहे थे. बाद में दिलीप कुमार भी उनकी इस मुहिम में शामिल हो गए, क्योंकि दिलीप साहब नहीं चाहते थे कि जिस सुरैया को वो पसन्द करते हैं, वो किसी और के साथ शादी करे.

Dilip Kumar

इन लोगों ने मिलकर सुरैया की नानी के कान भरने शुरू कर दिए. वो वैसे भी इस रिश्ते के खिलाफ थीं. आखिर उन्होंने देव आनंद का सुरैया से फोन पर बात करना भी बंद करवा दिया. उन्होंने देव आनंद को सुरैया से दूर रहने की हिदायत दी और पुलिस में शिकायत दर्ज करने की धमकी तक दे डाली. नतीजतन दोनों ने अलग होने का फैसला कर लिया. इसके बाद दोनों ने एक भी फिल्मों में साथ काम नहीं किया और ताउम्र सुरैया ने किसी से शादी नहीं की.

और देव आनंद ने दिलीप कुमार से ज़िंदगी भर नफरत की

Dev Anand

दिलीप साहब का ये कारनामा देव साहब को पूरी ज़िंदगी टीसता रहा. वो उन्हें कभी माफ नहीं कर पाए. फिल्में करना या मिलना- मिलाना तो दूर, वो दिलीप कुमार से इतनी नफरत करते थे कि उनसे फिर कभी उन्होंने बात तक नहीं की. इस तरह देव साहब ने अपनी मोहब्बत की खातिर दिलीप कुमार से पूरी शिद्दत से दुश्मनी ज़िंदगी भर दुश्मनी निभाई.