Throwback किस्सा: जब देवआनंद ने ...

Throwback किस्सा: जब देवआनंद ने राज कपूर की ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ को कह दिया था डर्टी पिक्चर, ज़ीनत अमान की वजह से कही थी ये बात (When Dev Anand called Raj Kapoor’s ‘Satyam Shivam Sundaram’ dirty Picture, Was Upset With Zeenat Aman’s Closeness With Raj Kapoor)

शशि कपूर-ज़ीनत अमान अभिनीत फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ 1978 में रिलीज हुई थी और हिट साबित हुई, लेकिन इस फिल्म को लेकर काफी विवाद भी हुए थे. इसमें जीनत अमान के काफी बोल्ड सीन्स थे और फिल्म की रिलीज़ से पहले ही उनके बोल्ड फोटोज लीक हो गए और बवाल मच गया. इसके चलते फिल्म विवादों में भी घिर् गई. उस पर राज कपूर ने बयान दे दिया कि “उन्हें जीनत के शरीर को देखने आने दो. वे मेरी फिल्म को याद करते हुए बाहर जाएंगे.” जीनत अमान ये न्यूड तस्वीरें देखने के बाद लोगों में फिल्म को लेकर दिलचस्पी बढ़ गई. इसमें राज कपूर ने जीनत अमान को काफी इरॉटिक अंदाज में पेश किया था.

देव आनंद ने सत्यम शिवम सुंदरम को कह दिया डर्टी पिक्चर

जीनत अमान की फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ ठीक उसी समय रिलीज हुई, जिस समय देवानंद की फिल्म ‘देस परदेस’ रिलीज हुई. इस फिल्म ने देवानंद के खत्म होते करियर को नई दिशा दी थी, लेकिन राज कपूर की इस फिल्म की सफलता से देवानंद खुश नहीं थे. इस बात का ज़िक्र पत्रकार वीर सांघवी ने अपनी आत्मकथा ‘ए रूड लाइफ’ में किया है. उन्होंने लिखा है कि फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ के बारे में देवानंद ने उनसे कहा था, ‘यह एक ‘डर्टी पिक्चर’ है. क्या आपने नोटिस किया कि कैसे कैमरा जीनत की बॉडी पर फोकस करता रहा?’

देव आनंद राज कपूर की सफलता से क्यों चिढ गए थे?

देव आनंद राज कपूर को पसंद नहीं करते थे और लोग कहते हैं कि वो उनकी कामयाबी से जलते थे, लेकिन सच्चाई ये नहीं है. बताया जाता है कि वो ज़ीनत अमान की वजह से राज कपूर से नाराज़ हो गए थे, क्यों? इसके पीछे भी एक दिलचस्प किस्सा है.

ज़ीनत से प्रेम करने लगे थे देव आनंद


दरअसल ज़ीनत अमान देव साहब की ही खोज थीं. 1971 में आई फिल्म ‘हरे रामा हरे कृष्ण’ के दौरान देव साहब को महसूस होने लगा कि वो ज़ीनत को चाहने लगे हैं. अपनी किताब रोमांसिंग विथ लाइफ में भी देव साहब ने इस बात का ज़िक्र किया है कि वो कहीं बैठे होते और कोई ज़ीनत की चर्चा भी कर देता तो उन्हें अच्छा महसूस होने लगता था. वो अपने दिल की बात ज़ीनत से कहना चाहते थे, लेकिन ऐसा हो नहीं सका और इसकी वजह बने राज कपूर साहब.

ज़ीनत को प्रपोज़ करना चाहते थे देव साहब

देव आनंद ने अपनी किताब में लिखा है कि धीरे धीरे उन्हें लगने लगा कि उन्हें ज़ीनत से इश्क हो गया है. वे ज़ीनत से प्यार का इज़हार करना चाहते थे. उन्होंने फैसला किया कि वो ज़ीनत को होटल ताज में प्रपोज करेंगे. उन्होंने मन ही मन सब कुछ तय कर लिया. इससे पहले उस दिन उन्हें एक पार्टी भी अटेंड करनी थी. देव साहब से तय किया कि पार्टी के बाद वो ज़ीनत को ताज़ ले जाएंगे और अपने दिल की बात कह देंगे.

राज कपूर ने देव आनंद का सारा प्लान चौपट कर दिया

लेकिन पार्टी के दौरान ड्रिंक करने के बाद राज कपूर ने ज़ीनत को देखते ही अपनी बांहें फैला दीं. ज़ीनत भी जाकर उनके गले लग गई. देव साहब को ये अच्छा नहीं लगा. उन्हें महसूस हुआ कि कहीं कुछ गड़बड़ है. देव साहब को याद आया कि उन्होंने यह अफवाह सुनी थी कि ज़ीनत राज कपूर की फिल्म ‘सत्यम शिवम् सुन्दरम’ के लिए स्क्रीन टेस्ट देने गई थी. अब उन्हें एहसास हुआ कि वो अफवाह नहीं, सच्चाई थी. उनका मन दुखी हो गया. शायद यही वजह रही होगी कि जब फिल्म रिलीज़ हुई और हिट भी हुई तो देव साहब को ये बात पसंद नहीं आई. उन्हें राज कपूर की इस कामयाबी से जलन होने लगी, इसलिए उन्होंने उनकी फिल्म को डर्टी पिक्चर तक कह दिया.

इससे पहले भी राज कपूर ने ज़ीनत को किया था किस

वैसे ये पहली बार नहीं था जब राज कपूर ने देव साहब के सामने ज़ीनत पर प्यार लुटाया था. इससे पहले भी राज कपूर ऐसा कर चुके थे. फिल्म ‘इश्क़ इश्क़ इश्क़’ के प्रीमियर पर भी राज कपूर भी पब्लिकली ज़ीनत को किस कर लिया था. देव साहब को तब भी ये बात बहुत बुरी लगी थी.

×