जब टीवी की ‘संध्या बिंदणी&...

जब टीवी की ‘संध्या बिंदणी’ यानी दीपिका सिंह को स्कूल प्रिसिंपल ने मारा था ताना, पिता के दिवालिया होने से घर पर टूट पड़ा था दुखों का पहाड़ (When TV’s ‘Sandhya Bindani’ Deepika Singh Was Taunted by School Principal, Family had Faced from Financial Crisis due to Bankruptcy of Her Father)

स्टार प्लस के हिट शो ‘दीया और बाती हम’ में ‘संध्या बिंदणी’ का किरदार निभाकर रातों-रात दर्शकों के बीच पॉपुलर होने वाली एक्ट्रेस दीपिका सिंह किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं. इस डेली सोप के बाद भले ही दीपिका पर्दे पर कम नज़र आई हों, लेकिन वो सोशल मीडिया के ज़रिए अपने फैन्स के साथ जुड़ी हुई हैं. संध्या बिंदणी के किरदार से घर-घर में मशहूर दीपिका सिंह के लिए इस मुकाम तक पहुंचना इतना भी आसान नहीं था, क्योंकि उन्हें अपनी निज़ी जिंदगी में काफी संघर्ष करने पड़े हैं. यहां तक कि उनकी ज़िंदगी में एक ऐसा दौर भी आया था, जब उनके पिता दिवालिया हो गए थे और घर पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा था. इसके साथ ही स्कूल प्रिसिंपल ने उन्हें एक ऐसा ताना माना था, जिसके बारे में सोचकर आज भी एक्ट्रेस की आंखें नम हो जाती हैं. हाल ही में एक इंटरव्यू में एक्ट्रेस ने अपनी निज़ी ज़िंदगी पर बात करते हुए बताया कि उनकी फैमिली की माली हालत कैसी थी और उन्हें किस तरह के ताने सुनने पड़े थे?

फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम
फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम

सीरियल ‘दीया और बाती हम’ से नाम और शोहरत हासिल करने वाली दीपिका सिंह ने इंटरव्यू में बताया कि उनके चार भाई-बहन हैं और उन सब में वो सबसे बड़ी हैं. दीपिका की मानें तो उनका बचपन तो अच्छा रहा, लेकिन बचपन में उनके परिवार को कई तरह के उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ा है. अपने स्कूल के दिनों को याद करते हुए दीपिका ने बताया कि एक बार तो उन्हें और उनके भाई को स्कूल से बिना बैग के ही घर वापस भेज दिया गया था, क्योंकि उनके बस की फीस जमा नहीं हो पाई थी. यह भी पढ़ें: कपिल शर्मा से लेकर दिव्यांका त्रिपाठी तक, छोटे शहरों से ताल्लुक रखते हैं टीवी के ये बड़े सितारे (From Kapil Sharma to Divyanka Tripathi, Big Stars of TV Belongs from Small Towns)

फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम

दीपिका की मानें तो 8वीं कक्षा तक एयरफोर्स स्कूल में पढ़ाई करने के बाद उन्हें सरकारी स्कूल में शिफ्ट कर दिया गया था. दीपिका बताती हैं कि वो खुद ही प्रिसिंपल के पास गईं और अपनी मार्कशीट दिखाई, लेकिन बस की फीस समय पर जमा न हो पाने की वजह से प्रिंसिपल ने ताना मारते हुए कहा था कि अगर आपके बस की नहीं है तो आप इतने बड़े स्कूल में पढ़ने आते क्यों हो? प्रिंसिपल की बात उनके दिल में घर कर कई और उसी बात ने उन्हें आगे का रास्ता दिखाया कि वो अपनी ज़िंदगी में कुछ बड़ा करें, जिससे इस स्कूल को पछतावा हो.

फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम

इंटरव्यू में दीपिका ने आगे बताया कि उन्होंने ज़िंदगी में जितनी मुश्किलें देखीं, उससे वो हिम्मत नहीं हारीं, बल्कि उन परेशानियों ने उन्हें मज़बूत बनाया है. एक्ट्रेस की मानें तो उनके पिता की एम्ब्रॉइड्री फैक्ट्री थी, जो कि घाटे में चल रही थी. एक्ट्रेस ने कहा कि जब हम छोटे थे तब एक शिपमेंट मुंबई से अमेरिका गया था, लेकिन दुर्भाग्यवश उसी समय प्लेग फैल गया था और अमेरिका में उस शिपमेंट को यह सोचकर आग के हवाले कर दिया गया था कि वह संक्रमित हो सकता है.

फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम

एक्ट्रेस ने बताया कि इसके चलते उनके पिता कर्ज़ में डूब गए और दिवालिया हो गए थे, बावजूद इसके उन्होंने 2-3 साल तक घर-परिवार की सभी चीज़ों को अच्छी तरह से संभाला. इस बात का उस वक्त तक असर नहीं हुआ, जब तक हम सभी बड़े परिवार के साथ रह रहे थे, लेकिन जब स्कूल और बस की फीस जमा नहीं हुई, तब इस बात का एहसास हुआ. पिता के दिवालिया होने के बाद लोग तरह-तरह के ताने मारने लगे और प्रिसिंपल के उस ताने के बाद समझ आया कि हमारा समय अब पहले की तरह नहीं रहा. यह भी पढ़ें: मल्टी टैलेंटेड हैं टीवी की ये अभिनेत्रियां, कोई है डांसर तो कोई रह चुकी हैं नेशनल लेवल राइफल शूटर (These TV Actresses Are Multi-Talented, Some Are Dancers And Some Have Been National Level Rifle Shooters)

फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम
फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम

गौरतलब है कि अपने बचपन के दिनों में माली हालत का सामना करने वाली दीपिका सिंह ने साल 2011 में ‘दीया और बात हम’ से अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की थी. इसके बाद साल 2014 में उन्होंने इसी सीरियल के डायरेक्टर रोहित राज गोयल से शादी कर ली. कपल का एक बेटा है और अब एक्ट्रेस ‘टीटू अंबानी’ से बॉलीवुड में अपना डेब्यू कर रही है. दिलचस्प बात तो यह है कि इस फिल्म को उनके पति रोहित राज गोयल ने ही लिखी और डायरेक्ट की है.

×