गोरी लड़कियां आज भी हैं शादी के बाज़ार की पहली पसंद… (Why Indians Want Fair Skin Bride?)

पश्‍चिमी देशों में हम रंगभेद के ख़िलाफ़ कड़ा रवैया अपनाते हैं, लेकिन हम ख़ुद इस मानसिकता से उबरे नहीं हैं.…

पश्‍चिमी देशों में हम रंगभेद के ख़िलाफ़ कड़ा रवैया अपनाते हैं, लेकिन हम ख़ुद इस मानसिकता से उबरे नहीं हैं. शादी से लेकर मनोरंजन की दुनिया तक में गोरी लड़कियों की डिमांड रहती है. चाहे मैट्रिमोनियल ऐड्स देख लें या कोई भी टीवी विज्ञापन- हर जगह गोरेपन को ख़ूबसूरती की पहली ज़रूरत के तौर पर दर्शाया जाता है. 

त्वचा का रंग तय करता है जहां सब कुछ

– चांद-सा गोरा बच्चा हो, यह तमन्ना हर मां की होती है. गर्भ में ही उसे गोरा बनाने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है. नारियल पानी पीना, केसरवाला दूध लेना… आदि प्रक्रियाएं बच्चे को गोरा बनाने के लिए की जाती हैं, इस पर अगर बेटी हो गई, तो उसका गोरा होना और भी ज़रूरी हो जाता है, क्योंकि सांवली लड़की से शादी कौन करेगा?

– उबटन लगाकर, हल्दी लगाकर और न जाने क्या-क्या उपाय किए जाते हैं रंगत निखारने के लिए, क्योंकि बेटी के पैदा होते ही उसकी शादी की चिंता सबको खाए जाती है.

 

– पढ़ाई-लिखाई तो होती रहेगी, करियर भी बन जाएगा, लेकिन सांवली लड़की से शादी कौन करेगा?

– शादी के विज्ञापनों में भी सबसे पहले गोरी कन्या की डिमांड की जाती है.

– विज्ञापनों में भी फेयरनेस को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया जाता है.

– ऐसे में हर लड़की चाहती है कि उसकी गोरी रंगत हो. हर मां चाहती है कि उसकी बेटी गोरी हो और हर सास गोरी बहू ही घर में लाना चाहती है.

यह भी पढ़ें: महिलाओं को क्यों चाहिए मी-टाइम?

समाज की मानसिकता है सबसे बड़ी वजह

– अन्य समाज व देश में फैले रंगभेद के ख़िलाफ़ तो हम काफ़ी कुछ बोलते हैं, लेकिन अपने ख़ुद के समाज में हर स्तर पर फैले भेदभाव को हम तर्क देकर सही साबित करने का प्रयास करते हैं.

– अगर किसी गोरे लड़के की शादी सांवली लड़की से हो जाती है, तो सबसे पहले परिवारवाले उसके साथ भेदभाव का रवैया अपनाते हैं, उसके अलावा दूसरे लोग भी यही कहते पाए जाते हैं कि इतना गोरा लड़का था, क्या देखकर इस लड़की से शादी कर दी?

– लड़की को ख़ास तरह के कपड़े और मेकअप करने पर ही ज़ोर दिया जाता है, ताकि उसकी सांवली रंगत और गहरी न लगे.

– कॉम्प्लेक्शन के आधार पर हर तरह से लड़की व उसके परिवारवालों का शोषण किया जाता है. श्र दहेज अधिक मांगा जाता है, बात-बात पर रंग को लेकर ताने दिए जाते हैं या शादी तोड़ देने का डर दिखाया जाता है.

लड़कियां ही नहीं, लड़के भी हैं शिकार

– एक मैट्रिमोनियल वेबसाइट के सर्वे में यह ख़ुलासा हुआ कि शादी की बात आती है, तो लगभग 70-75% महिलाएं गोरे पुरुषों की चाह रखती हैं.

– शादी के विज्ञापनों में पुरुष भी स्किन कलर का उल्लेख करते हैं, ताकि उनकी बात जल्दी बन जाए.

– आजकल महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों की फेयरनेस क्रीम के विज्ञापनों ने भी ज़ोर पकड़ा हुआ है.

– न स़िर्फ फेयरनेस क्रीम, फेयरनेस फेस वॉश की डिमांड भी बहुत अधिक है, बल्कि सबकी अच्छी-ख़ासी बिक्री भी होती है.

शादी ही नहीं, बाकी जगहों पर भी स्किन कलर से पड़ता है फ़र्क़

– आप किसी दुकान पर जाएं या किसी बैंक के काउंटर पर, आपकी रंगत के आधार पर अटेंशन मिलता है.

– किसी जॉब इंटरव्यू के लिए भी आप जा रहे हों, तो अपनी काबिलीयत के साथ-साथ स्किन कलर पर भी एक नज़र दौड़ा लेना और ख़ुद तय करना कि फ़र्क़ पड़ता है या नहीं.

– कहीं किसी पार्टी या समारोह में भी व्हाइट स्किन ज़्यादा अटेंशन बटोरती नज़र आएगी.

– दरअसल, भारतीय स्किन कलर को लेकर बहुत अधिक कॉन्शियस हैं, लेकिन वो सीधे तौर पर इसे दर्शाते नहीं.

– यहां तक कि सांवली रंगतवाले भी ख़ुद गोरे रंग के प्रति आकर्षित होते हैं. वो ख़ुद की रंगत तो निखारना चाहते ही हैं, साथ ही पार्टनर भी गोरी रंगतवाला ही चाहते हैं.

यह भी पढ़ें: आज भी होते हैं लड़कियों के वर्जिनिटी टेस्ट्स…!

रंग के साथ जुड़े हैं कॉम्प्लेक्सेस!

– गोरे रंग को अच्छाई के प्रतीक के रूप में भी देखते हैं. लोगों की यह धारणा होती है कि गोरे रंग का इंसान अच्छा इंसान होता है.

– गोरेपन को सकारात्मकता के तौर पर देखा जाता है.

– उच्च जाति से जोड़कर देखा जाता है.

– गोरी रंगत को हाइजीन से भी जोड़कर देखते हैं लोग. अक्सर ऐसा मान लिया जाता है कि गोरा-चिट्टा इंसान साफ़-सुथरा भी होगा.

– ख़ूबसूरती की पहली शर्त गोरी रंगत ही मानी जाती है. सांवली रंगतवालों के नयन-नक्श भले ही कितने भी आकर्षक क्यों न हों, गोरे रंग के सामने उन्हें कमतर ही आंका जाता है.

– लोग ख़ुद-ब-ख़ुद यह मान लेते हैं कि गोरा रंग है, तो अच्छे घर से होगा/होगी, संस्कारी होगा/होगी, नकारात्मकता नहीं होगी, गुण अधिक होंगे, अधिक पढ़ा-लिखा होगा… आदि.

स़िर्फ दूसरे ही नहीं, अपने भी करते हैं भेदभाव

– एक परिवार में यदि कोई बच्चा डार्क स्किन का होता है, तो भले ही मज़ाक में कहा जाए, लेकिन उसे यह एहसास कराया जाता है कि उसके बाकी भाई-बहन या रिश्तेदार तो गोरे-चिट्टे हैं, वो परिवार से अलग है.

– उसके रंग को लेकर उसे चिढ़ाया जाता है.

– उसका मज़ाक उड़ाया जाता है.

– कभी-कभी तो यह भी कह दिया जाता है कि वो तो इस परिवार का सदस्य ही नहीं है. उसे कचरे से उठाकर लाए हैं या वो अस्पताल में बदल दिया गया होगा… आदि.

– ये तमाम धारणाएं गोरे रंग के साथ जुड़ी हुई हैं और जाने-अंजाने हम सब इसी धारणा को पैमाना बनाकर लोगों को जांचते-परखते हैं और यदि जांच-परख शादी के लिए हो और वो भी लड़की की, तब तो यह सबसे ज़रूरी सर्टिफिकेट माना जाता है.

बदलाव हो रहा है…

– यह सच है कि पहले के समय में भेदभाव और अधिक था, अब लोगों की सोच बदल रही है, लेकिन बात जब शादी-ब्याह की आती है, तो यह बदलाव बहुत अधिक नहीं नज़र आता.

– कुछ पैरेंट्स भी ऐसे हैं, जिन्हें यह फ़र्क़ नहीं पड़ता कि उनका गोरी रंगत का बेटा किसी सांवली लड़की से शादी कर रहा है… लेकिन यह तादाद बेहद कम है.

– यंग जनरेशन इस भेदभाव से उबर रही है, तो उम्मीद है कि भविष्य बेहतर होगा और रंगभेद समाज से मिट जाएगा.

– हम विदेशियों की मानसिकता को ग़लत ठहराते हैं कि वो हमें ब्लैक कहकर हमसे घृणा करते हैं या हमें निम्न तबके का इंसान समझते हैं. हम उनकी रंगभेद नीति को कोसते हैं कि वो इंसानियत नहीं दिखा रहे, लेकिन यही सब हम भी करते हैं अपने घरों में, अपने परिवारों में, अपने समाज में और तब हमें यह सब जायज़ लगता है? इस दोहरी मानसिकता और दोहरे मापदंड से हमें भी उबरना होगा, तभी बदलाव संभव होगा.

– गीता शर्मा

यह भी पढ़ें: क्यों आज भी बेटियां वारिस नहीं?

Aneeta Singh

Recent Posts

Bigg Boss 13: ‘दिल से दिल तक’ के सेट पर ड्रग्स लिया करते थे सिद्धार्थ शुक्ला? (Bigg Boss 13: Sidharth Shukla Under The Influence Of Drugs While Shooting With Rashami Desai For Dil Se Dil Tak? )

टीवी एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला जब से बिग बॉस 13 का हिस्सा बने हैं, तब से वे चर्चा में हैं. बिग…

Happy Anniversary दीपवीरः इस पावर कपल की पहली सालगिरह पर देखिए कुछ क्यूट अनसीन पिक्स व वीडियोज़ (On Ranveer Singh-Deepika Padukone’s FIRST anniversary, here are Few mushy moments from their dating life)

आज इंडस्ट्री के पावर कपल रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण अपनी शादी की पहली सालगिरह मना रहे हैं. दीपिका व…

चिल्ड्रेंस डे स्पेशल: कम करें बच्चों का इमोशनल बोझा (Children’s Day Special: Reduce The Emotional Burden Of Children)

सभी पैरेंट्स चाहते हैं कि उनका बच्चा क्लास में टॉप करे, स्पोर्ट्स में अव्वल आए और एक्स्ट्रा करिकुलर में भी…

World Diabetes Day: डायबिटीज़ को नियंत्रित करने के आसान प्राकृतिक उपाय (How To Control Diabetes Naturally?)

वर्तमान समय में डायबिटीज़ स़िर्फ भारत में नहीं, बल्कि पूरे विश्‍व में महामारी का रूप धारण कर चुका है. भारत…

#HappyAnniversary: यहां पर मनाएंगे दीपिका-रणवीर अपनी पहली सालगिरह… (Deepika Padukone And Ranveer Singh Will Celebrate Here Their First Wedding Anniversary…)

कल दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह की शादी की पहली सालगिरह है. दीपवीर अपनी फर्स्ट एनीवर्सरी को यादगार बनाने का…

शहरी महिलाओं में क्यों बढ़ रहा है ब्रेस्ट कैंसर? (Why Breast Cancer Cases Are Increasing in Urban Women?)

गांव व कस्बों की तुलना में शहरी महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का ख़तरा बढ़ रहा है. आख़िर क्या है इसकी…

© Merisaheli