#Vastu Tips: कर्ज से मुक्ति पाने के लिए अपनाएं ये वास्तु टिप्स (Follow These Vastu Tips To Get Rid Of Debt)

आर्थिक मुसीबत का निबटारा करने के लिए अगर आपने कोई कर्ज लिया है. लेकिन किसी कारणवश उसे चुकाने में सफल नहीं हो पा रहे हैं,…

आर्थिक मुसीबत का निबटारा करने के लिए अगर आपने कोई कर्ज लिया है. लेकिन किसी कारणवश उसे चुकाने में सफल नहीं हो पा रहे हैं, तो परेशान होने की ज़रूरत नहीं है. यहां पर बताए गए इन वास्तु टिप्स को अपनाकर आप पा  सकते हैं कर्ज से मुक्ति.

सभी के जीवन में किसी न किसी तरह की आर्थिक समस्या आती है और न चाहते हुए अपने रिश्तेदारों या बैंक से कर्ज /लोन लेना पड़ जाता है. सही समय पर न चुका की स्थिति में कर्ज /लोन व्यक्ति के गले की हड्डी बन जाता है. यदि आप भी किसी तरह के कर्ज से परेशान हैं, तो वास्तु शास्त्र में बताए गए  इन टिप्स को अपनाएं.

1. घर के दक्षिण-पश्चिम हिस्से में यदि शौचालय बना हुआ है तो व्यक्ति हमेशा कर्ज के बोझ तले दबा रहता है. इसलिए भूलकर भी घर की इस दिशा में शौचालय ना  बनवाएं.

2.  बरसों पुराने कर्ज को चुका पाने में असमर्थ है तो घर या दुकान की उत्तर-पूर्व दिशा में  लाल, सिंदूरी या मैरून रंग का कांच लगवाएं. कांच लगवाना बहुत शुभ होता है.

3. जल्द से जल्द कर्ज चुकाना कहते हैं तो अपने धन को घर या दुकान की उत्तर दिशा में रखें. वास्तु के अनुसार ऐसा करने से कर्ज से मुक्ति तो मिलती ही है, साथ ही धन लाभ भी होता है.

4. घर में छोटे-छोटे बदलाव करके भी कर्ज के बोझ से राहत मिलती है. जैसे- घर के मुख्य द्वार के पास एक और छोटा-सा द्वार लगवाने से घर में धन का आगमन होता है.

5. वास्तु शास्त्र के अनुसार कर्ज की किस्त मंगलवार के दिन चुकाने से कर्ज जल्दी उतर जाता है.

6. शनिवार के दिन 5 मिटटी के दीय लें. उनमें सरसों का तेल डालें और साथ ही उनमें 2-2 लौंग डालें। एक दीया पीपल के पेड़ के नीचे रखें. दूसरा शनि देव के आगे रखें. तीसरा हनुमानजी के आगे रखें, चौथा चौराहे पर रखें और पांचवाँ देवी के आगे रखें और भगवान से प्रार्थना करें कि मेरा कर्ज उतर जाए.

7. वास्तु के अनुसार भूलकर भी मंगलवार के दिन किसी से कर्ज नहीं लें.

और भी पढ़ें: इन संकेतों से जानें घर में मौजूद है निगेटिव एनर्जी (Sign To Identify Negative Energy At Home)

Share
Published by
Poonam Sharma

Recent Posts

कविता- हर बार मेरा आंचल तुम बनो… (Poetry- Har Baar Mera Aanchal Tum Bano…)

हूं बूंद या बदली या चाहे पतंग आसमान तुम बनो हूं ग़ज़ल या कविता या…

कहानी- जीवन की वर्तनी (Short Story- Jeevan Ki Vartani)

उस दिन देर रात जब मैं शादी से लौट रही थी, मुझे यही लग रहा…

© Merisaheli