govt’s ladies special schemes

क्यों आज भी बेटियां वारिस नहीं? (Why Daughters Are still not accepted as Successor)

क्यों उसके जन्म की ख़ुशी ग़म में बदल दी जाती है, क्यों बधाइयों की जगह लोग अफ़सोस ज़ाहिर कर चले…

© Merisaheli