पंचतंत्र की कहानी: दो मुंहवाला पंछी (Panchtantra Ki Kahani: The Bird with Two Heads)

  पंचतंत्र की कहानी: दो मुंहवाला पंछी (Panchtantra Ki Kahani: The Bird with Two Heads) एक जंगल में एक सुंदर-सा…

 

पंचतंत्र की कहानी: दो मुंहवाला पंछी (Panchtantra Ki Kahani: The Bird with Two Heads)

एक जंगल में एक सुंदर-सा पंछी रहता था. यह पंछी अपनेआप में बेहद अनोखा था, क्योंकि इसके दो मुंह थे. दो मुंह होने के बाद भी इसका पेट एक ही था. यह पंछी यहां-वहां घूमता, कभी झील के किनारे, तो कभी पेड़ों के आसपास.
एक दिन की बात है, यह पंछी एक सुंदर-सी नदी के पास से गुज़र रहा था कि तभी उसमें से एक मुंह की नज़र एक मीठे फल पर पड़ी. वो वहां गया और फल को देखकर बहुत ख़ुश हुआ. उसने फल तोड़ा और उसे खाने लगा. फल बेहद मीठा और स्वादिष्ट था. उसने फल खाते हुए दूसरे मुंह से कहा, “यह तो बहुत ही मीठा और स्वादिष्ट फल है. बिल्कुल शहद जैसा. मज़ा आ गया इसे खाकर.”

यह भी पढ़ें: पंचतंत्र की कहानी: झील का राक्षस


उसकी बात सुनकर दूसरे मुंह ने कहा, “मुझे भी यह फल चखाओ. मैं भी इसे खाना चाहता हूं.”
पहले मुंह ने कहा, “अरे, तुम इसे खाकर क्या करोगे? मैंने कहा न कि यह एकदम शहद जैसा है और वैसे भी हमारे पेट तो एक ही है न. तो मैं खाऊं या तुम, क्या फ़र्क़ पड़ता है.”
दूसरे मुंह को यह सुनकर बहुत दुख हुआ. उसने सोचा यह कितना स्वार्थी है. उसने पहले मुंह से बात करना बंद कर दिया और मन ही मन उससे बदला लेने की ठानी.

यह भी पढ़ें: पंचतंत्र की कहानी: चतुर लोमड़ी

कुछ दिनों तक दोनों में बातचीत बंद रही. फिर एक दिन जब वो कहीं घूम रहे थे, तभी दूसरे मुंह की नज़र भी एक फल पर पड़ी. वो फल ज़हरीला था. उसने सोचा कि बदला लेने का यह सही मौक़ा है. उसने कहा, “मुझे यह फल खाना है.”
पहले मुंह ने कहा, “यह बहुत ही ज़हरीला फल है, इसे खाकर हम मर जाएंगे.”
दूसरे मुंह ने कहा, “मैं इसे खा रहा हूं, तुम नहीं, तो तुम्हें कोई तकलीफ़ नहीं होनी चाहिए.”
पहले मुंह ने कहा, “हमारे मुंह भले ही दो हैं, लेकिन पेट तो एक ही है न. तुम खाओगे, तो हम दोनों मर जाएंगे. इसे मत खाओ.”
लेकिन पहले मुंह न एक न सुनी और उसने वह ज़हरीला फल खा लिया. धीरे-धीरे ज़हर ने अपना असर दिखाया और वह दो मुंहवाला अनोखा पंछी मर गया.

यह भी पढ़ें: पंचतंत्र की कहानी: भालू और दो मित्र


सीख: स्वार्थ से बचकर एकता की शक्ति को पहचानना चाहिए. स्वार्थ हमेशा ख़तरनाक होता है, जबकि एकता का बल बहुत अधिक होता है.

[amazon_link asins=’0143334255,0723280479,B00JWIXYC2,B00OMOV93C,B01ELMIV62′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’ec00733d-ba28-11e7-8250-297dd88c48e0′]

Geeta Sharma

Recent Posts

पुरुषों को बांझ बना सकती हैं ये 10 आदतें (10 Habits Responsible For Male Infertility)

बदलते लाइफस्टाइल के चलते अधिकांश पुरुषों (Men) में मोटापा, डायबिटीज़, हार्ट डिसीज़, कैंसर और बांझपन (Infertility) जैसे कई गंभीर रोगों…

देखिए प्रिंस नरुला और युविका चौधरी के रिसेप्शन के पिक्स व वीडियो (Prince Narula And Yuvika Wedding Reception)

टीवी एक्टर प्रिंस नरूला (Prince Narula) और युविका चौधरी (Yuvika Chaudhary) 12 अक्टूबर को शादी (Wedding) के बंधन गए थे.…

HBD परिणीतिः जानिए इस ख़ूबसूरत अदाकारा के जीवन से जुड़ी कुछ अनकही बातें (Happy Birthday, Parineeti Chopra)

जानी-मानी अदाकारा परिणीति चोपड़ा (Parineeti Chopra) आज अपना 30 वां जन्मदिन (Birthday) मना रही हैं. जन्मदिन के अवसर पर जानिए…

10 स्मार्ट माइक्रोवेव कुकिंग आइडियाज़ (10 Smart Microwave Cooking Ideas)

माइक्रोवेव में आसानी से हेल्दी खाना बनाया जा सकता है, लेकिन इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी है.…

पेट में कीड़े हो तो आज़माएं ये घरेलू इलाज (Get Rid Of Intestinal Worms With These Effective Home Remedies)

मनुष्य के पेट (Stomach) में विशेषकर आंतों (Intestines) में विभिन्न प्रकार के कीड़े (Worms) पाए जाते हैं. पाचन संस्थान से…

© Merisaheli