पैरेंटिंग ऐप्स (Best Parenting Apps)

टेक्नोलॉजी ने हर चीज़ को आसान बना दिया है, यहां तक कि सीखने-सिखाने के नियमों को भी पूरी तरह से बदल दिया है. चाहे मोबाइल बैंकिंग हो या कुकिंग या फिर पैरेंटिंग स्टाइल- डिजिटल दुनिया में हर काम आसान हो गया है. यहां तक कि टेक्नोलॉजी और नए-नए ऐप्स ने पैरेंटिंग को भी अब ईज़ी बना दिया है. हम यहां पर कुछ बेस्ट पैरेंटिंग ऐप्स के बारे में बता रहे हैं.

 

मॉम्स मैप्स (Moms Maps)

जो मांएं चाहती हैं कि उनका बच्चा टीवी और कंप्यूटर से दूर रहे, तो यह ऐप उनके लिए बेस्ट ऑप्शन है. इस ऐप को डाउनलोड करके वे अपने आसपास की किड्स फ्रेंडली प्लेस, जैसे- पार्क, प्लेग्राउंड, रेस्टोरेंट्स, म्यूज़ियम और दूसरी इंडोर प्लेसेस को सर्च कर सकती हैं. यह ऐप मांओं और बच्चों के लिए बेस्ट ऑनलाइन कैटलॉग (किड्स फ्रेंडली प्लेसेस की सूची) है. इस ऐप के दो लाभ हैं, पहला- दोनों मिलकर अपनी फेवरेट प्लेस व एक्टिविटीज़ का आनंद ले सकते हैं और एक-दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम बिता सकते हैं. दूसरा- बच्चों को गतिविधियों में व्यस्त रखकर पैरेंट्स डेटिंग का मज़ा भी ले सकते हैं. इस ऐप के ज़रिए मांएं अपने बच्चों की पसंद और जगहों के रिव्यू व रेटिंग के आधार पर जगह का सिलेक्शन कर सकती हैं, साथ ही नई-नई फेवरेट प्लेस को ऐड कर सकती हैं. ऐसा करके वे अपने समय की बचत कर सकती हैं और अनचाही परेशानियों से भी बच सकती हैं.

स्मार्ट स्पार्क (Smart Spark)

अगर आपका बच्चा स्कूल जाने के लिए परेशान करता है या पैरेंट्स का अटेंशन पाने के लिए मुश्किलें ख़ड़ी करता है, तो पैरेंट्स को ज़रूरत है बच्चे को स्मार्ट बनाने की. स्मार्ट स्पार्क ऐप पैरेंट्स के लिए एक प्रभावशाली ज़रिया है, अपने बच्चे को समझने का, उनसे बातचीत करने का. यह ऐप पैरेंट्स बच्चे के टीचर, ट्यूशन टीचर, कोच, फैमिली व अन्य लोगों के साथ शेयर कर सकते हैं और उन्हें बता सकते हैं कि उनका बच्चा इस ऐप के ज़रिए कितने अच्छे तौर-तरी़के सीख सकता है. यह ऐप 7-13 साल तक के बच्चों के पैरेंट्स के लिए अधिक फ़ायदेमंद है. इस ऐप का सबसे बड़ा लाभ है कि इससे बच्चे की एकाग्रता और याद्दाश्त बढ़ती है, उसमें आत्मविश्‍वास बढ़ता है.

पंपिक- कंट्रोल पैनल मोबाइल ऐप (Pumpic Control Panel Mobile App)

फैमिली मेंबर्स और बच्चों की लोकेशन पर नज़र रखने के लिए यह बहुत ही फ़ायदेमंद और ईज़ी ऐप है. जो पैरेंट्स अपने बच्चों के लिए परेशान व चिंतित तो रहते हैं, लेकिन उनके मामले में कोई दख़लअंदाज़ी नहीं करते, उनके लिए यह बेस्ट फ्री पैरेंटल कंट्रोल ऐप है. यह पंपिक ऐप उनसे ‘वेअर आर यू?’ पूछने का काम करता है. इसके बाद पैरेंट्स अपने बच्चे की लोकेशन देख सकते हैं. इस ऐप के ज़रिए पैरेंट्स बच्चों के साथ अपने मैसेज एक्सचेंज कर सकते हैं. अगर ज़रूरत महसूस हो, तो पैरेंट्स बच्चों के लिए स्पेशल नोटिफिकेशन भी सेट कर सकते हैं.

मामाबियर फैमिली सेफ्टी ऐप (MamaBear Family Safety App)

बच्चों पर नज़र रखने के साथ-साथ उन्हें सुरक्षित होने का एहसास कराना भी ज़रूरी है. मामाबियर फैमिली सेफ्टी ऐप ने इसे आसान बना दिया है. यह सिंपल और टाइमसेविंग ऐप है, जिससे पैरेंट बच्चे को फैमिली के साथ कनेक्ट कर सकते हैं. परिवार के सभी सदस्य एक-दूसरे को मैसेज भेज सकते हैं, पैरेंट्स अपने बच्चों के सोशल मीडिया अकाउंट, लोकेशन, यहां तक कि ड्राइविंग के समय उनकी कितनी स्पीड थी, यह मॉनिटर कर सकते हैं.

पीबीएस- पैरेंट्स प्ले एंड लर्न ऐप  (PBS Parents Play & Learn App)

बच्चों के शैक्षिक कार्यक्रम से संबंधित यह पहला ऐप है, जो विशेेषतौर पर पैरेंट्स के लिए बनाया गया है. इस ऐप में अनगिनत गेम्स हैं, जिससे पैरेंट्स और बच्चे मिलकर खेलते हैं. इसमें थीम-बेस्ड इंटरऐक्टिव गेम्स होते हैं, जिन्हें पैरेंट्स ऑटोमेटिकली बच्चे के स्तर पर एडजस्ट कर सकते हैं. ऐसी सिंपल ऐक्टिविटीज़ होती हैं, जो रोज़ाना के अनुभवों में काम आनेवाले मैथ्स और शैक्षिक स्किल को बढ़ाती हैं.

रिकॉर्ड माइल्स्टोन्स (Record milestones)

इस फ्री ऐप के ज़रिए पैरेंट्स अपने बच्चों के स्वास्थ्य संबंधी रिकॉर्ड अपलोड कर सकते हैं. स्वास्थ्य संबंधी रिकॉर्ड्स में बच्चे के क़द और वज़न का रिकॉर्ड, उसके सभी टेस्ट्स के रिज़ल्ट, डॉक्टर्स द्वारा लिखी दवाएं और उनका पूरा ब्यौरा (कौन-सी दवा कब और कैसे खानी है) भविष्य के लिए सुरक्षित रख सकते हैं. इस ऐप की सहायता से पैरेंट्स अपने बच्चे के विकास पर नज़र रख सकते हैं.

बेस्ट ऑफ पैरेंटिंग ऐप (Best of Parenting App)

बच्चों के नखरे उठाना और उन्हें हैंडल करना अनुभवी पैरेंट्स (जिनके दो या दो से अधिक बच्चे हैं) के लिए भी किसी चुनौती से कम नहीं है. उन पर चिल्लाने या हाथ उठाने की बजाय ‘बेस्ट ऑफ पैरेंटिंग’ ऐप के शैक्षिक प्रक्रिया (एजुकेशनल प्रोसेस) द्वारा उन्हें आसानी से हैंडल किया जा सकता है. इस ऐप को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है, जिसमें पैरेंट्स पैरेंटिंग से जुड़ी चुनौतियां, जैसे- बच्चे का सहयोग न करना, बात-बात पर रोना, अधिक ग़ुस्सा करना, बातें न मानना, उल्टे जवाब देना, भाई-बहन के बीच प्रतिस्पर्धा, भोजन न करना, स्कूल से संबंधित समस्याओं आदि को प्रभावी तरी़के से हल कर सकते हैं और अपनी फैमिली लाइफ को एंजॉय और तनावरहित बना सकते हैं.

– देवांश शर्मा
Meri Saheli Team :
© Merisaheli