जवानों के साथ हुई बदसलूकी पर भड़के वीरेंद्र सहवाग और गंभीर (CRPF Jawans Assaulted In Kashmir)


रात-दिन देखे बिना हर समय ड्यूटी पर तैनात रहते हुए हमें हमारे घरों में चैन की नींद देनेवाले जवानों के साथ कश्मीर में कुछ ऐसा हुआ जिसने की देश में हलचल मचा दिया. सोशल मीडिया से लेकर न्यूज़ चैनल और अख़बारों में ये ख़बर चर्चा का विषय बन गई है. सोशल मीडिया पर जवानों का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें कुछ कश्मीरी युवक जवानों के साथ मारपीट करते हुए दिख रहे हैं.

इस वीडियो के वायरल होते ही सोशल मीडिया पर लोग अपने व्यूज़ देने लगे. इस वीडियो को देखने के बाद पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर ने भी सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया दी. सहवाग ने अपने ट्विटर अकाउंट पर इसके प्रति विरोध जताया. वीरू ने कहा कि यह अस्वीकार्य है. हमारे सीआरपीएफ जवानों के साथ ऐसा नहीं होना चाहिए, इस पर रोक लगनी चाहिए. बदतमीज़ी की हद है.

गौतम गंभीर ने भी एक पोस्ट के ज़रिए कश्मीरी युवकों और उन तमाम लोगों पर ग़ुस्सा ज़ाहिर किया है, जिन्हें आज़ादी चाहिए. गंभीर ने कहा कि भारतीय जवानों को एक चांटा मारने के बदले में 100 जिहादियों का मार देना चाहिए. उन्होंने लिखा कि मेरी सेना के जवानों पर मारे गए एक चांटे के बदले सौ जिहादियों को मार देना चाहिए. भारत विरोधी लोग यह भूल गए हैं कि हमारे झंडे में केसरिया रंग ग़ुस्से का प्रतीक भी है, स़फेद रंग जिहादियों के लिए कफन और हरा रंग आंतक के ख़िलाफ़ नफ़रत को दर्शाता है.

 

 

 

 

 

 

Shweta Singh :
© Merisaheli