Categories: Family

जानें 9 तरह की मॉम के बारे में, आप इनमें से किस टाइप की मॉम हैं?(Know About 9 Types Of Moms, Which Of These Are You?)

हेलीकॉप्टर मॉम, टाइगर मॉम, ड्रैगन मॉम.... पैरेंटिंग स्टाइल से तो मांओं के कई टाइप्स मिल जाएंगे. पर यहां हम बता रहे हैं मांओं की आदतों…

हेलीकॉप्टर मॉम, टाइगर मॉम, ड्रैगन मॉम…. पैरेंटिंग स्टाइल से तो मांओं के कई टाइप्स मिल जाएंगे. पर यहां हम बता रहे हैं मांओं की आदतों के आधार पर मांओं के कुछ दिलचस्प टाइप्स. हालांकि इन सभी शेड्स में मां प्यारी हैं और अपने बच्चों को उतना ही प्यार करती हैं.

सोशली एक्टिव मॉमः


इस तरह की मांएं सोशली एक्टिव होती हैं और अपनी सारी एनर्जी ये अपने सोशल ग्रुप्स और फ्रेंड्स से जुटाती हैं. इन्हें बस किसी हॉल में अजनबियों के बीच छोड़ दीजिए, ये सारी मम्मियों को फ्रेंड बनाकर उनके फोन नंबर्स जुटा लाएंगी. इतना ही नहीं उन सबको व्हाट्सएप्प ग्रुप में भी जोड़ देंगी. ऐसी सोशली एक्टिव मम्मियों के पास बच्चों को हैंडल करने के सैकड़ों टिप्स होते हैं, जो वो अपनी फ्रेंड मम्मियों को बांटती रहती हैं और उनसे भी बच्चों को संभालने के टिप्स पूछती रहती हैं. ऐसी मांओं के बेचारे बच्चों पर दुनियाभर के टिप्स आजमाए जाते हैं. हां इन बच्चों को एक फायदा ज़रूर होता है, मां के साथ सोशल फंक्शन्स पर जाते रहने से इनकी भी बहुत सारे बच्चों के साथ दोस्ती हो जाती है.

परफेक्शनिस्ट मॉम:


परफेक्शनिस्ट मॉम को हर काम में परफेक्शन चाहिए होता है. इनकी दिनचर्या घड़ी की सूइयों के हिसाब से चलती है और इनकी पूरी कोशिश होती है कि इनके बच्चे भी इन्हीं की तरह बनें. इसलिए ये बच्चे के सिर पर सवार रहती हैं और बच्चे के हर काम को क्रॉस चेक करती रहती हैं. चाहे होमवर्क हो, इवनिंग पार्क टाइम, दूध पीना हो या डिनर- इनके बच्चे का सब काम टाइम टेबल के हिसाब से ही होता है. परफेक्शनिस्ट मॉम की पूरी कोशिश होती है बच्चों के रूटीन के बीच ना कोई वेकेशन आए, न ही कोई फैमिली कमिटमेंट या गेट टुगेदर. ये अपने बच्चे को हमेशा टॉप पर देखना चाहती हैं. इनकी कोशिश होती है कि उनका बच्चा स्कूल के हर एग्ज़ाम में टॉप स्कोरर ही हो. रहन-सहन, कपड़े हर बात में वो अपने बच्चे को भी अपनी तरह ही परफेक्शनिस्ट बनाने की कोशिश में जुटी रहती हैं.

हमेशा बच्चे का बखान करनेवाली मां:

वैसे तो हर मां को अपना बच्चा दुनिया का सबसे अच्छा बच्चा लगता है, लेकिन इस तरह की मां अपने बच्चों को लेकर कुछ ज़्यादा ही पजेसिव होती हैं. इनकी हर बातचीत का केंद्र इनका बच्चा ही रहता है. इनका बस चले, तो अपने बच्चे की छोटी से छोटी उपलब्धि को भी ये पूरी दुनिया को बता दें. और ये ऐसा करती भी हैं. चाहे पार्क हो, ऑफिस, फैमिली गेट टुगेदर या आस-पड़ोस, फ्रेंड्स- ये हर जगह बस अपने बच्चे का ही गुणगान करती रहती हैं. इतना ही नहीं, इनके दो साल के बच्चे का भी सोशल मीडिया एकाउंट होता है.

अपने लिए जीने की ख़्वाहिश रखनेवाली मॉमः


इस तरह की मांओं की दुनिया सिर्फ अपने बच्चों तक ही सीमित नहीं रहती. ये मांएं थोड़ा आज़ाद ख़्याल की होती हैं और मानती हैं कि घर-परिवार के अलावा उनकी अपनी भी पर्सनल लाइफ है, जिसे वो अपने हिसाब से जीना चाहती हैं. अगर फ्रेंड्स के साथ उनकी पार्टी की प्लानिंग है तो वो अपना प्लान किसी भी शर्त पर नहीं बदलेंगी, भले ही अगले दिन बच्चे की एग्ज़ाम क्यों न हो. ऐसा नहीं है कि ऐसी मांएं ज़िम्मेदार नहीं होतीं, बस उन्हें अपने पर्सनल स्पेस में कोई रुकावट पसंद नहीं. ये अक्सर अपनी फ्रेंड्स के साथ पिकनिक या गेट टुगेदर प्लान करती रहती हैं और उनके साथ ख़ुश रहती हैं. ऐसी मांओं के बच्चे बहुत जल्दी आत्मनिर्भर बन जाते हैं और अपना काम ख़ुद करना सीख जाते हैं.

अंधविश्‍वासी मांः


ऐसी मांओं को हमेशा ये डर लगा रहता है कि कहीं कोई उनके बच्चे को नज़र न लगा दे. इसलिए इनकी कोशिश होती है कि अपने बच्चे का बखान किसी के सामने न ही करें. चाहे इनका बच्चा क्लास में फर्स्ट ही क्यों न आए, ये अपने बच्चे की तारीफ करने की जगह उसकी कमियां गिनाने लग जाएंगी- अरे ये तो मेरी सुनता ही नहीं, खाना नहीं खाता, बड़ा शरारती है और भी न जाने क्या-क्या. और इन सब के पीछे उनका यही डर रहता है कि तारीफ करूंगी, तो मेरे बच्चे को नज़र लग जाएगी. नज़र उतारना इन्हें हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन लगता है और हफ्ते में दो दिन तो ये अपने बच्चे की नज़र उतार ही लेती हैं.

मास्टरशेफ मॉमः


जैसा कि टाइटल से ही ज़ाहिर है ऐसी मांओं को कुकिंग का बहुत शौक होता है. चाहे पास्ता-पिज्ज़ा बनाना हो, केक-पेस्ट्री या कोई स्नैक्स- ये सब घर पर बना लेती हैं. ऐसी मांएं घंटों किचन में ही बिता देती हैं. ऐसी मांओं के बच्चे बहुत लकी होते हैं. इन्हें टिफिन में रोज़ नई वेरायटी मिलती है और इनके फ्रेंड्स को हमेशा टेस्टी ट्रीट.

हमेशा चिंता में डूबी रहनेवाली मॉमः

कहीं मेरा बच्चा बीमार तो नहीं पड़ जाएगा… स्कूल में उसके साथ कोई बुली तो नहीं करता होगा… वो अकेले में डरता तो नहीं होगा… पार्क में खेलते व़क्त कोई उसे धक्का न दे दे…  कुछ मांएं हर समय बच्चे की चिंता में ही डूबी रहती हैं और कई बार तो उनकी चिंता बेवजह भी होती है. ऐसी मांएं जब भी उनका बच्चा उनसे दूर होता है, पता नहीं क्या सोच-सोच कर परेशान होती रहती हैं. ये बच्चे द्वारा अकेले बिताए गए हर मिनट का ब्यौरा जानना चाहती हैं. ये अगर पैरेंट-टीचर मीटिंग में जाती हैं, तो अपने सवालों से टीचर को परेशान करके ही छोड़ती हैं.

फैशनिस्टा मॉमः

फैशनिस्टा मॉम ख़ुद तो हमेशा स्टाइल ऑइकॉन नज़र आती ही हैं, अपने बच्चे को भी फैशनेबल ही देखना चाहती हैं. किसी भी पार्टी-फंक्शन में चले जाइए, ये मां-बच्चे आपको स्टाइलिश अंदाज़ में ही नज़र आएंगे. ऐसी मांएं हमेशा हाई स्ट्रीट स्टोर्स से शॉपिंग करती हैं और अपने व अपने बच्चे के लिए यूनिक स्टाइल क्रिएट करती हैं. इनकी हेयरस्टाइल से लेकर कपड़े, फुटवेयर, एक्सेसरीज़ और मेकअप तक हर चीज़ खास होती है और इनके बच्चे में इनका ही रिफ्लेक्शन नज़र आता है. यानि इनके बच्चे भी हाइली फैशनेबल और क्लासी होते हैं.

शॉपोहोलिक मॉमः

ऐसी मांएं घर में कम शॉपिंग मॉल में ज़्यादा नज़र आती हैं. इन्हें सभी ऑनलाइन किड्स स्टोर्स के बारे में पता होता है और हर स्टोर्स की जानकारी होती है. किस स्टोर से बेस्ट और सस्ते कपड़े लिए जा सकते हैं. कौन-सी शॉप वेस्टर्न वेयर के लिए बेस्ट है और कौन-सी इंडियन वेयर के लिए… एक्सेसरीज़ की शॉपिंग कहां से करना बेस्ट होता है, सारी बातों की जानकारी होती है इनके पास और ये अपना ज़्यादातर समय शॉपिंग में ही बिताती हैं.

Share
Published by
Merisaheli Editorial Team

Recent Posts

हेल्दी और फिट रहना है, तो बचें इन हेल्दी चीज़ों के ओवर डोज़ से… (Stop Overdoing These 11 Healthy Habits To Stay Fit And Healthy)

हेल्दी और फिट रहने के लिए हेल्दी आदतों का होना अच्छी बात है, लेकिन जब यही अच्छी आदतें हद से ज़्यादा बढ़कर सनक बन जाती हैं तो आपको फिट रखने की बजाय नुक़सान ही ज़्यादा पहुंचाती हैं. ऐसे में बेहतर होगा कि कुछ चीज़ों केओवर डोज़ से बचा जाए…  बहुत ज़्यादा डायटिंग करना: अपने बढ़ते वज़न पर नज़र रखना और उसको कंट्रोल में रखने के लिए डायटिंग करना अच्छी बात है, लेकिन जब ये डायटिंग हद से ज़्यादा बढ़ जाती है तो वो आपको फिट और स्लिम रखने की बजाय कमज़ोर करने लगती है. कुछ लोग पतले बने रहने के चक्कर में खाना-पीना ही बंद कर देते हैं, जबकि डायटिंग का मतलब खाना बंद करना नहीं होता, बल्कि अनहेल्दी खाने को हेल्दी खाने से रिप्लेस करना होता है. लेकिन जब आप खाना एकदम ही कमकर देते हो, तो शरीर में पोषण की कमी होने लगती है और आप कमज़ोर होकर कई हेल्थ प्रॉब्लम्स से घिर जाते हो. बहुत ज़्यादा एक्सरसाइज़ करना: फिट रहने के लिए एक्सरसाइज़ करना बहुत ही हेल्दी हैबिट है, लेकिन ओवरएक्सरसाइज़ से आपको फ़ायदा कम और नुक़सान ज़्यादा होगा. यह न सिर्फ़ आपको थका देगी, बल्कि इससे आपकीमसल्स या बॉडी डैमेज तक हो सकती है. हेवी वर्कआउट के बाद बॉडी को रेस्ट की भी ज़रूरत होती है, वरना शरीर थकजाएगा और आप ऊर्जा महसूस नहीं करेंगे.  बहुत ज़्यादा सप्लीमेंट्स खाना: कुछ लोगों की आदत होती है कि वो अपनी हेल्थ को लेकर ज़्यादा ही सोचते हैं और इसओवर कॉन्शियसनेस की वजह से खुद को फायदे की बजाय नुक़सान पहुंचा लेते हैं. बिना किसी सलाह के सिर्फ़ यहां-वहांसे पढ़कर या किसी की सलाह पर सप्लीमेंट्स खाना आपको गंभीर रोगों के ख़तरे तक पहुंचा सकता है. अगर आप फिट हैंऔर हेल्दी खाना खाते हैं तो सप्लीमेंट की ज़रूरत ही क्या है. इसी तरह से जो लोग बहुत ज़्यादा मल्टी विटामिंस लेते हैं उन्हेंकैंसर का ख़तरा अन्य लोगों की तुलना में अधिक होता है, क्योंकि इनके अधिक सेवन से कोशिकाओं का सामान्य निर्माणक्रम प्रभावित होकर रुक जाता है. अगर आप विटामिन सी अधिक मात्रा में लेते हैं, तो डायरिया का ख़तरा बढ़ जाता है, इसी तरह बहुत ज़्यादा विटामिन बी6 नर्व को डैमेज कर सकता है और अगर गर्भावस्था में विटामिन ए की अधिकता हो गईतो उससे बच्चे में कुछ बर्थ डिफ़ेक्ट्स हो सकते हैं. बेहतर होगा जो भी खाएं सीमित और संतुलित मात्रा में ही खाएं. पानी बहुत ज़्यादा पीना: पानी सबसे हेल्दी और सेफ माना जाता है, लेकिन अति किसी भी चीज़ की अच्छी नहीं होती. बहुतज़्यादा पानी पीने से रक्तप्रवाह में सोडियम को पतला कर देता है, जिससे मस्तिष्क की कार्य प्रणाली बिगड़ सकती है औरयहां तक कि व्यक्ति की मौत भी हो सकती है. इस अवस्था को हाईपोरिट्रेमिया कहते हैं जो उन लोगों में अधिक पाई जातीहै, जो खुद को बहुत ज़्यादा हाइड्रेट करते हैं, जैसे- एथलीट्स वग़ैरह. इसी तरह जिन लोगों को कुछ मेडिकल कंडिशन होतीहै उनको भी ज़्यादा पानी मना है, जैसे- कोरॉनरी हार्ट डिसीज़ वालों को अधिक पानी के सेवन से बचना चाहिए. दरअसलआपके शरीर को जब भी किसी चीज़ की ज़रूरत होती है, तो वो खुद ही आपको सिग्नल दे देता है, इसीलिए जब शरीर कोपानी की ज़रूरत होती है, तो आपको प्यास लगती है, लेकिन कुछ लोगों की आदत ही होती है कि वो बिना सोचे-समझेगिन-गिनकर नाप-तोलकर ज़बर्दस्ती पानी पीते रहते हैं ये सोचकर कि इससे उनका पाचन अच्छा होगा और स्किन भी ग्लोकरेगी.  शुगर की जगह आर्टिफ़िशियल स्वीटनर का ज़्यादा प्रयोग: माना शुगर कम करना हेल्दी हैबिट है, लेकिन इसकी जगह आर्टिफ़िशियल स्वीटनर का ही इस्तेमाल करना शुरू देना वज़न कम करने की बजाए बढ़ाता है. इसके अलावा शुगर काएकदम ही प्रयोग बंद करने से आपका शुगर लेवल कम होकर कमज़ोरी का एहसास कराएगा. ऊर्जा के लिए शुगर भी ज़रूरी है.  दांतों को बहुत ज़्यादा और देर तक ब्रश करना: कई लोगों की ये मान्यता है कि दांतों को जितना घिसेंगे, वो उतने हीचमकेंगे. लेकिन बहुत ज़्यादा देर तक ब्रश करने से आप दांतों के इनामल को नुक़सान पहुंचाते हैं और साथ ही मसूड़े भीडैमेज होते हैं इससे. बेहतर होगा सॉफ़्ट ब्रिसल्स वाला टूथ ब्रश यूज़ करें और बहुत ज़ोर लगाकर ब्रश न करें. हेल्दी फल व सब्ज़ियों का ज़्यादा सेवन: चाहे फल हों या सब्ज़ियां या कोई भी हेल्दी फूड उनका ज़रूरत से ज़्यादा सेवन भीख़तरनाक हो सकता है. हरी सब्ज़ियां जहां आपका पर अपसेट कर सकती हैं, वहीं गाजर से आपको ऑरेंज स्किन कीसमस्या हो सकती है. इसी तरह इन दिनों ऑलिव ऑइल भी बहुत पॉप्युलर है लेकिन इसके ज़्यादा प्रयोग से आप सिर्फ़अधिक कैलरीज़ और फ़ैट्स ही बढ़ाएंगे.  साबुन-पानी की बजाय बहुत ज़्यादा सैनिटायज़र का इस्तेमाल: माना आज COVID के चलते सैनिटायज़र बेहद ज़रूरीऔर मस्ट हैव प्रोडक्ट बन चुका है, लेकिन अगर आप घर पर हैं और साबुन से हाथ धोने का ऑप्शन है तो बेहतर होगा कि…

© Merisaheli