Categories: Family

जानें 9 तरह की मॉम के बारे में, आप इनमें से किस टाइप की मॉम हैं?(Know About 9 Types Of Moms, Which Of These Are You?)

हेलीकॉप्टर मॉम, टाइगर मॉम, ड्रैगन मॉम.... पैरेंटिंग स्टाइल से तो मांओं के कई टाइप्स मिल जाएंगे. पर यहां हम बता रहे हैं मांओं की आदतों…

हेलीकॉप्टर मॉम, टाइगर मॉम, ड्रैगन मॉम…. पैरेंटिंग स्टाइल से तो मांओं के कई टाइप्स मिल जाएंगे. पर यहां हम बता रहे हैं मांओं की आदतों के आधार पर मांओं के कुछ दिलचस्प टाइप्स. हालांकि इन सभी शेड्स में मां प्यारी हैं और अपने बच्चों को उतना ही प्यार करती हैं.

सोशली एक्टिव मॉमः


इस तरह की मांएं सोशली एक्टिव होती हैं और अपनी सारी एनर्जी ये अपने सोशल ग्रुप्स और फ्रेंड्स से जुटाती हैं. इन्हें बस किसी हॉल में अजनबियों के बीच छोड़ दीजिए, ये सारी मम्मियों को फ्रेंड बनाकर उनके फोन नंबर्स जुटा लाएंगी. इतना ही नहीं उन सबको व्हाट्सएप्प ग्रुप में भी जोड़ देंगी. ऐसी सोशली एक्टिव मम्मियों के पास बच्चों को हैंडल करने के सैकड़ों टिप्स होते हैं, जो वो अपनी फ्रेंड मम्मियों को बांटती रहती हैं और उनसे भी बच्चों को संभालने के टिप्स पूछती रहती हैं. ऐसी मांओं के बेचारे बच्चों पर दुनियाभर के टिप्स आजमाए जाते हैं. हां इन बच्चों को एक फायदा ज़रूर होता है, मां के साथ सोशल फंक्शन्स पर जाते रहने से इनकी भी बहुत सारे बच्चों के साथ दोस्ती हो जाती है.

परफेक्शनिस्ट मॉम:


परफेक्शनिस्ट मॉम को हर काम में परफेक्शन चाहिए होता है. इनकी दिनचर्या घड़ी की सूइयों के हिसाब से चलती है और इनकी पूरी कोशिश होती है कि इनके बच्चे भी इन्हीं की तरह बनें. इसलिए ये बच्चे के सिर पर सवार रहती हैं और बच्चे के हर काम को क्रॉस चेक करती रहती हैं. चाहे होमवर्क हो, इवनिंग पार्क टाइम, दूध पीना हो या डिनर- इनके बच्चे का सब काम टाइम टेबल के हिसाब से ही होता है. परफेक्शनिस्ट मॉम की पूरी कोशिश होती है बच्चों के रूटीन के बीच ना कोई वेकेशन आए, न ही कोई फैमिली कमिटमेंट या गेट टुगेदर. ये अपने बच्चे को हमेशा टॉप पर देखना चाहती हैं. इनकी कोशिश होती है कि उनका बच्चा स्कूल के हर एग्ज़ाम में टॉप स्कोरर ही हो. रहन-सहन, कपड़े हर बात में वो अपने बच्चे को भी अपनी तरह ही परफेक्शनिस्ट बनाने की कोशिश में जुटी रहती हैं.

हमेशा बच्चे का बखान करनेवाली मां:

वैसे तो हर मां को अपना बच्चा दुनिया का सबसे अच्छा बच्चा लगता है, लेकिन इस तरह की मां अपने बच्चों को लेकर कुछ ज़्यादा ही पजेसिव होती हैं. इनकी हर बातचीत का केंद्र इनका बच्चा ही रहता है. इनका बस चले, तो अपने बच्चे की छोटी से छोटी उपलब्धि को भी ये पूरी दुनिया को बता दें. और ये ऐसा करती भी हैं. चाहे पार्क हो, ऑफिस, फैमिली गेट टुगेदर या आस-पड़ोस, फ्रेंड्स- ये हर जगह बस अपने बच्चे का ही गुणगान करती रहती हैं. इतना ही नहीं, इनके दो साल के बच्चे का भी सोशल मीडिया एकाउंट होता है.

अपने लिए जीने की ख़्वाहिश रखनेवाली मॉमः


इस तरह की मांओं की दुनिया सिर्फ अपने बच्चों तक ही सीमित नहीं रहती. ये मांएं थोड़ा आज़ाद ख़्याल की होती हैं और मानती हैं कि घर-परिवार के अलावा उनकी अपनी भी पर्सनल लाइफ है, जिसे वो अपने हिसाब से जीना चाहती हैं. अगर फ्रेंड्स के साथ उनकी पार्टी की प्लानिंग है तो वो अपना प्लान किसी भी शर्त पर नहीं बदलेंगी, भले ही अगले दिन बच्चे की एग्ज़ाम क्यों न हो. ऐसा नहीं है कि ऐसी मांएं ज़िम्मेदार नहीं होतीं, बस उन्हें अपने पर्सनल स्पेस में कोई रुकावट पसंद नहीं. ये अक्सर अपनी फ्रेंड्स के साथ पिकनिक या गेट टुगेदर प्लान करती रहती हैं और उनके साथ ख़ुश रहती हैं. ऐसी मांओं के बच्चे बहुत जल्दी आत्मनिर्भर बन जाते हैं और अपना काम ख़ुद करना सीख जाते हैं.

अंधविश्‍वासी मांः


ऐसी मांओं को हमेशा ये डर लगा रहता है कि कहीं कोई उनके बच्चे को नज़र न लगा दे. इसलिए इनकी कोशिश होती है कि अपने बच्चे का बखान किसी के सामने न ही करें. चाहे इनका बच्चा क्लास में फर्स्ट ही क्यों न आए, ये अपने बच्चे की तारीफ करने की जगह उसकी कमियां गिनाने लग जाएंगी- अरे ये तो मेरी सुनता ही नहीं, खाना नहीं खाता, बड़ा शरारती है और भी न जाने क्या-क्या. और इन सब के पीछे उनका यही डर रहता है कि तारीफ करूंगी, तो मेरे बच्चे को नज़र लग जाएगी. नज़र उतारना इन्हें हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन लगता है और हफ्ते में दो दिन तो ये अपने बच्चे की नज़र उतार ही लेती हैं.

मास्टरशेफ मॉमः


जैसा कि टाइटल से ही ज़ाहिर है ऐसी मांओं को कुकिंग का बहुत शौक होता है. चाहे पास्ता-पिज्ज़ा बनाना हो, केक-पेस्ट्री या कोई स्नैक्स- ये सब घर पर बना लेती हैं. ऐसी मांएं घंटों किचन में ही बिता देती हैं. ऐसी मांओं के बच्चे बहुत लकी होते हैं. इन्हें टिफिन में रोज़ नई वेरायटी मिलती है और इनके फ्रेंड्स को हमेशा टेस्टी ट्रीट.

हमेशा चिंता में डूबी रहनेवाली मॉमः

कहीं मेरा बच्चा बीमार तो नहीं पड़ जाएगा… स्कूल में उसके साथ कोई बुली तो नहीं करता होगा… वो अकेले में डरता तो नहीं होगा… पार्क में खेलते व़क्त कोई उसे धक्का न दे दे…  कुछ मांएं हर समय बच्चे की चिंता में ही डूबी रहती हैं और कई बार तो उनकी चिंता बेवजह भी होती है. ऐसी मांएं जब भी उनका बच्चा उनसे दूर होता है, पता नहीं क्या सोच-सोच कर परेशान होती रहती हैं. ये बच्चे द्वारा अकेले बिताए गए हर मिनट का ब्यौरा जानना चाहती हैं. ये अगर पैरेंट-टीचर मीटिंग में जाती हैं, तो अपने सवालों से टीचर को परेशान करके ही छोड़ती हैं.

फैशनिस्टा मॉमः

फैशनिस्टा मॉम ख़ुद तो हमेशा स्टाइल ऑइकॉन नज़र आती ही हैं, अपने बच्चे को भी फैशनेबल ही देखना चाहती हैं. किसी भी पार्टी-फंक्शन में चले जाइए, ये मां-बच्चे आपको स्टाइलिश अंदाज़ में ही नज़र आएंगे. ऐसी मांएं हमेशा हाई स्ट्रीट स्टोर्स से शॉपिंग करती हैं और अपने व अपने बच्चे के लिए यूनिक स्टाइल क्रिएट करती हैं. इनकी हेयरस्टाइल से लेकर कपड़े, फुटवेयर, एक्सेसरीज़ और मेकअप तक हर चीज़ खास होती है और इनके बच्चे में इनका ही रिफ्लेक्शन नज़र आता है. यानि इनके बच्चे भी हाइली फैशनेबल और क्लासी होते हैं.

शॉपोहोलिक मॉमः

ऐसी मांएं घर में कम शॉपिंग मॉल में ज़्यादा नज़र आती हैं. इन्हें सभी ऑनलाइन किड्स स्टोर्स के बारे में पता होता है और हर स्टोर्स की जानकारी होती है. किस स्टोर से बेस्ट और सस्ते कपड़े लिए जा सकते हैं. कौन-सी शॉप वेस्टर्न वेयर के लिए बेस्ट है और कौन-सी इंडियन वेयर के लिए… एक्सेसरीज़ की शॉपिंग कहां से करना बेस्ट होता है, सारी बातों की जानकारी होती है इनके पास और ये अपना ज़्यादातर समय शॉपिंग में ही बिताती हैं.

Share
Published by
Merisaheli Editorial Team

Recent Posts

कहानी- ऐसा भी होता है… (Short Story- Aisa Bhi Hota Hai…)

मां ने सबसे पहले रूपा से प्रश्न किया, "अपना सारा सामान लाई हो ना? वहां…

© Merisaheli