Categories: Top Stories

कृष्ण जन्माष्टमी 2018 कब है 2 या 3 सितंबर? (Krishna Janmashtami 2018: Muhurat-Vrat-Vidhi)

जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami) कब है इस बात को लेकर कई लोग असमंजस में हैं. आपकी असमंजस दूर करने के लिए…

जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami) कब है इस बात को लेकर कई लोग असमंजस में हैं. आपकी असमंजस दूर करने के लिए पंडित राजेंद्र जी बता रहे हैं कृष्ण जन्माष्टमी 2018 का शुभ मुहूर्त और व्रत-पूजा की संपूर्ण जानकारी. अब आपकी सारी दुविधाएं दूर हो जाएंगी और आप विधि-विधान से कृष्ण जन्माष्टमी का आनंद ले सकेंगे.

कृष्ण जन्माष्टमी कब है 2 या 3 सितंबर?
धर्मग्रंथो के अनुसार भगवान श्री कृष्णा का जन्म भाद्रपद कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि और बुधवार को हुआ था रोहिणी नक्षत्र में. पर अक्सर ऐसा होता है कि कई बार की हमें अष्टमी तिथि रात में नहीं मिल पाती और कई बार रोहिणी नक्षत्र नहीं हो पाता है. इस साल भी 2 सितंबर को रविवार 8.48 रात तक सप्तमी तिथि है और उसको बाद अष्टमी तिथि शुरू हो जाएगी और रविवार की रात को ही चंद्रमा भी रोहिणी नक्षत्र में उच्च राशि वृषभ में ही है. अतः जन्माष्टमी के लिए जो तिथि, वार और नक्षत्र जो होने चाहिए वो रविवार की रात्रि को ही है इसलिए व्रत पूजन, कृष्ण भगवान (Lord Krishna Janmastami) को झूला झुलाना यह रविवार को ही होगा.

यह भी पढ़ें: जन्माष्टमी स्पेशल: ज़रूर ट्राई करें ये 2 पंजीरी रेसिपीज़ (Janmashtami Special: 2 Panjiri Recipe You Must Try)

 

कृष्ण जन्मोत्सव (Gukul Ashtami) रविवार यानी 2 सितंबर को मनाया जाना ही सही है
3 सितंबर को रात को 7.20 से नवमी तिथि है और मृगशिरा नक्षत्र है, इसमें कृष्ण भगवान का जन्म नहीं हुआ है इसलिए 3 सितंबर को कृष्ण जन्मोत्सव मानना शास्त्र सम्मत नहीं है.

ऋषि व्यास नारद जी कहते हैं, “सप्तमी तिथि के साथ अगर अष्टमी तिथि भी लग जाय, तो ऐसे में उस दिन ही व्रत पूजन करना चाहिए.”
पर इसमें भी वैष्णव मत वाले लोग जैसे कि मथुरा वृंदावन उत्तर प्रदेश महाराष्ट्र बिहार यहां पर यह लोग उदयकालीन अष्टमी तिथि को ग्रहण करते हैं. रात को चाहे नवमी तिथि होअष्टमी हो या न हो इसलिए कैलेंडर में 3 सितंबर की जन्म अष्टमी लिखी है. पर कृष्ण भगवान का जन्म रोहिणी नक्षत्र अष्टमी तिथि को हुआ था इसलिए श्री कृष्णा जन्मोत्सव रविवार को ही मनाना सही है. 2 सितंबर जन्माष्टमी बिल्कुल सही है. रविवार को यह पर्व व्रत करना चाहिए, जो सही भी है.

कृष्ण जन्माष्टमी के लिए पूजन सामग्री:
एक चौकी, लाल कपड़ा, बालकृष्ण की मूर्ति या चित्र, सिंघासन, पंचामृत, गंगाजल, दीपक, घी, बत्ती, धूपबत्ती, अष्टगंध चंदन या रोली, अक्षत (कच्चे साबूत चावल), तुलसी, माखन, मिश्री, खीर, शृंगार सामग्री, इत्र और फूल माला.

 

Kamla Badoni

Recent Posts

मियामी में पति के साथ जमकर वेकेशन मना रही हैं प्रियंका, देखें पिक्स (Priyanka Chopra’s Miami Vacation Sets Temperatures Soaring – View Pics and Video)

अपने परिवार व भतीजे Aydin के साथ क्वॉलिटी टाइम स्पेंड करने के बाद अब प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra) अपने पति (Husband) निक…

अनिल कपूर ने इस अंदाज में मनाया अपनी पत्नी का बर्थडे, देखें पिक्स व वीडियो (Birthday Celebration of Anil Kapoor’s Wife, See Pics)

अनिल कपूर (Anil Kapoor) ने अपनी पत्नी (Wife) सुनीता कपूर (Sunita Kapoor) का बर्थडे (Birthday) खास अंदाज में सेलिब्रेट (Celebrate)…

नीता अंबानी ने अपनी बहू को दिया ऐसा तोहफा, जिसकी कीमत जानकर चौंक जाएंगे आप (Nita Ambani Gifts Her Bahu Shloka Mehta Wedding Gift Worth Crores)

मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) और नीता अंबानी (Nita Ambani) के बेटे (Son) आकाश अंबानी (Akash Ambani) ने श्लोका मेहता (Shloka…

बेकिंग टिप्स: केक बनाते समय रखें इन 14 बातों को ख़्याल (Baking Tips: Take Care Of These 14 Things While Making Cake)

बेकिंग (Baking) करते समय अगर आपको इस बात का डर सताता है कि कहीं आपकी थोड़ी-सी ग़लती के कारण केक,…

इन 10 तरीक़ों से अपने स्लो मोबाइल को बनाएं फास्ट (10 Smart Tricks To Speed Up Your Android Phone)

क्या आपका स्मार्टफोन (SmartPhone) बार-बार हैंग (Hang) होता है? एक ऐप यूज़ करने के बाद दूसरे ऐप में जाने में…

सबसे महंगी एक्ट्रेस बनीं कंगना… (Kangana Ranaut Becomes India’s Highest Paid Actress)

कंगना रनौत (Kangana Ranaut) दिनोंदिन कामयाबी की बुलंदियों को  छूती जा रही हैं. मणिकर्णिका- द क्वीन ऑफ झांसी की सफलता,…

© Merisaheli