Categories: FILMTVEntertainment

रामायण की ‘सीता’ दीपिका चिखलिया ने आदिपुरुष के टीज़र पर कहा- धरोहर की सात्विकता व सच्चाई से छेड़छाड़ ठीक नहीं, वहीं ‘कृष्ण’ नीतीश भारद्वाज बोले- मॉडर्न टेकनीक, न्यू विज़न अच्छा व अलग लगा… (‘Sita’ Dipika Chikhlia Reacts On Adipurush Teaser- ‘Characters Must Appeal To The Audience’, ‘Krishna’ Nitish Bharadwaj Says- ‘I Liked The New-Modern Vision…’)

पिछले दिनों जब से आदिपुरुष का टीज़र (adipurush teaser) रिलीज़ हुआ है एक विवाद (controversy) ने जन्म लिया जो अब ख़त्म होने का नाम नहीं…

पिछले दिनों जब से आदिपुरुष का टीज़र (adipurush teaser) रिलीज़ हुआ है एक विवाद (controversy) ने जन्म लिया जो अब ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा. दिन ब दिन ये और बढ़ता ही जा रहा है. लोगों से लेकर कई नामी हस्तियों ने आदिपुरुष में कैरेक्टर्स (characters) के लुक (look) की खूब आलोचना (criticism) की. सबसे ज़्यादा निशाने पर आए सैफ़ अली खान (Saif Ali khan) जो रावण (Ravan) बने हैं. लोगों ने कहा वो रावण कम ख़िलजी ज़्यादा लग रहे हैं. रावण एक ब्राह्मण था जबकि रावण का लुक उससे कहीं भी मेल खाता नहीं दिख रहा, वो किसी मुग़ल शासक जैसा लुक है, इसी तरह हनुमानजी के लुक पर भी फ़िल्ममेकर्स (filmmaker) और एक्टर्स को आलोचना झेलनी पड़ रही है. हालांकि डायरेक्टर ओम राउत (director Om Raut) ने एक बयान देकर अपनी फ़िल्म को डिफ़ेंड किया है और कहा है कि ये फ़िल्म मोबाइल के लिए नहीं बनी है.

लेकिन सोशल मीडिया पर विरोध कम और थम नहीं रहा. प्रभास और कृति सेनन की आदिपुरुष को लोग सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जा रहा है. फिल्म के VFX को लेकर भी यूजर्स ने मेकर्स को काफी ट्रोल किया है.

इन्हीं के बीच रामानन्द सागर की रामायण में सीता बनीं दीपिका चिखलिया ने भी टीज़र पर अपना मत रखा है. एक्ट्रेस ने कहा है कि आदिपुरुष का टीजर मैंने देखा है और उसे देखकर मुझे ये लग रहा है कि रामायण जैसे ग्रंथ और कहानी हमारे देश की धरोहर हैं और उसकी कहानी में जो सच्चाई और सात्विकता है उसके साथ VFX जोड़ना मुझे क़तई पसंद नहीं आया, हालांकि ये मेरा अपना मत, मेरी निजी राय है. वाल्मीकि ने जिस सच्चाई से इस ग्रंथ को लिखा उसकी सात्विकता व सच्चाई से छेड़छाड़ठीक नहीं. जहां तक हनुमान जी के लुक पर भी जो बातें सामने आ रही हैं कि उनको लेदर पहनाया गया है तो टीज़र में मुझे साफ़ नहीं दिख रहा, लेकिन अगर ऐसा है तो मेरी यही राय है कि रामायण जैसी रचना देश की धरोहर है उसको व उसकी सात्विकता को बरकरार रखना ज़रूरी है, छेड़छाड़ सही नहीं लगती मुझे.

अगर फ़िल्म के पात्र श्रीलंका के हैं तो वो मुग़ल जैसे नहीं नज़र आने चाहिए, किसी भी फ़िल्म के चरित्र लोगों के साथ कनेक्ट होने ज़रूरी हैं. लेकिन हां, ये सिर्फ़ टीज़र है और हो सकता है फ़िल्म में कहानी के साथ पूरा न्याय हुआ हो, दूसरी तरफ़ रावण के लुक की बात करें तो हर आर्टिस्ट को ये आज़ादी है कि वो अपनी सोच व तरीक़े से उस चरित्र को प्ले करे.

वहीं महाभारत में कृष्ण बने नीतीश भारद्वाज ने भी इस मसले पर रिएक्शन दिया है. उनकी राय बिल्कुल अलग है और उन्होंने इस एक्सपेरिमेंट का स्वागत किया है. नीतीश ने कहा- मैंने आदिपुरुष का टीज़र देखा और मुझे वो पसंद आया. अच्छा लगा कि किस तरह से नई टेकनीक से कहानी को न्यू, मॉडर्न व अलग विज़न दिया गया है. मैं काफ़ी उत्साहित हूं फ़िल्म देखने के लिए और मुझे टीज़र पसंद आया, उम्मीद है लोगों को भी पसंद आएगा.

Recent Posts

© Merisaheli