न्यू जॉब जॉइन करने से पहले ख़ुद से पूछें ये 9 सवाल (9 Questions to Ask Yourself Before Joining)

अचानक जॉब जाने या हाई सैलरी का ऑफर मिलने पर कुछ लोग उसे तुरंत एक्सेप्ट कर लेते हैं, मगर बाद में अपने फैसले पर पछताने लगते हैं यदि आपको भी नई नौकरी का ऑफर मिल रहा है, तो उसे स्वीकार करने से पहले ख़ुद से ये चंद सवाल ज़रूर पूछे.

अचानक जॉब जाने या हाई सैलरी का ऑफर मिलने पर कुछ लोग उसे तुरंत एक्सेप्ट कर लेते हैं, मगर बाद में अपने फैसले पर पछताने लगते हैं यदि आपको भी नई नौकरी का ऑफर मिल रहा है, तो उसे स्वीकार करने से पहले ख़ुद से ये चंद सवाल ज़रूर पूछे.

1. अपने स्टेटस का ध्यान रखें.
आर्थिक तंगी के कारण पार्ट टाइम जॉब के लिए आप कुछ भी कर सकते हैं, लेकिन फुल टासम जॉब के लिए ऐसी कंपनी या फर्म का चुनाव करें, जो आपकी रुचि की होने के साथ आपके स्टेटस से भी मेल खाए. यदि आप किसी कंपनी में अधिकारी पद पर है और आपको क्लर्क के काम का ऑफर मिलता है, जहां सैलरी तो आपको ज़्यादा मिलेगी पर पद छोटा रहेगा, तो पैसों के लिए ऐसी जॉब को एक्सेप्ट करना सही नहीं होगा. वहां आपको भले ही पैसे ज़्यादा मिलें लेकिन इज़्जत नहीं मिलेगी. साथ ही भविष्य में करियर में भी आगे बढ़ने मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा. अत: ज्वाइन करने से पहले अपने दिल-दिमाग़ से अच्छी तरह पूछ लें कि आपके लिए क्या ज़्यादा मायने रखता है- पैसा या प्रतिष्ठा.

2. कंपनी की रेप्युटेशन
स़िर्फ पैसों के लिए किसी भी कंपनी में काम करना भविष्य में करियर ग्रोथ में बाधक बन सकता है. आपको जिस कंपनी से ऑफर लेटर मिला है, पहले मार्केट में उसकी रेप्युटेशन का पता कर लें. संबंधित लोगों या उस फील्ड के अन्य लोगों से पूछताछ कर लें. इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि आपको सीवी में किसी अच्छी कंपनी का नाम जुड़ने से भविष्य में तरक्की की राह आसान हो जाती है. अत: कोई भी कंपनी ज्वाइन करने से पहले ख़ुद से यह ज़रूर पूछ लें कि क्या ये कंपनी आपकी तरक्की में सहायक होगी?


3. वर्कप्लेस का माहौल
जहां आपको दिन के 8-9 घंटे बिताने है, वहां का माहौल अच्छा और सकारात्मक होना बेहद ज़रूरी है, मन-मुताबिक माहौल न मिलने पर आपका मन काम में नहीं लगेगा और बहुत जल्दी आप उस जगह से ऊबकर नौकरी बदलने की सोचने लगेंगे. अत: नई नौकरी ज्वाइन करने से पहले वहां काम करने वाले लोगों से ऑफिस माहौल के बारे में पता लगाने की कोशिश करें. उसके बाद यह तय करें कि क्या उस माहौल में आप काम कर पाएंगे.
4. कैसा है बॉस
बॉस यदि अच्छा है, तो आप मन लगाकर काम कर पाते है और इसका फ़ायदा आपके साथ-साथ कंपनी को भी होता है. लेकिन अगर बॉस खडूस या नकारात्मक प्रवृत्ति का है, तो काम के दौरान आपको कई तरह की परेशानियां का सामना करना पड़ सकता है, जैसे- काम का अनियमित समय, वर्क प्रेशर, डेड लाइन की तलवार, मेंटल टार्चर आदि. कई बार लोग तनाव में आकर नौकरी छोड़ देते हैं.

और भी पढ़ें: बॉस के फेवरेट बनने के 10 स्मार्ट टिप्स

5 सैलरी
किसी भी नौकरी का मुख्य उद्देश्य पैसे कमाना होता है. अत: कोई भी जॉब ज्वाइन करने से पहले ख़ुद से पूछें कि क्या इतनी सैलरी में आपकी ज़रूरतें आसानी से पूरी हो जाएंगी और क्या आप भविष्य के लिए कुछ बचत कर पाएंगे. कहीं ऐसा न हो कि ज्वाइन करने के बाद आपको लगने लगे कि इतने कम कैसों में घर चलाना मुश्किल है, इसलि, कोई पार्ट टाइम जॉब भी करनी पड़ेगी. अत: सोच समझकर निर्णय लें.

6. घर से कंपनी की दूरी
कहीं भी ज्वाइन करने से पहले अमूमन दिमाग़ में ये बात ज़रूर आती है कि रोज़ाना घर से ऑफिस पहुंचने में कितना समय लगेगा. नई नौकरी का ऑफर लेटर हाथ में लेने से पहले ये तय कर लें कि क्या आप रोजाना इतनी दूरी तय कर पाएंगे. डेली ट्रेवलिंग में कितना ख़र्च और कितना समय लगेगा. इन बातों पर अच्छी तरह सोच-विचार करने के बाद ही आगे बढ़ें.

7. अपनी पसंद
घर की माली हालत ठीक न होने पर भले ही मजबूरी में आप नई नौकरी के लिए हां कर दें, लेकिन कुछ ही समय बाद आपका मन वहां नहीं लगेगा. अत: नई नौकरी के लिए हां करने से पहले एक नहीं, सौ बार सोचें, फिर हां करें. क्योंकि बार बार जॉब बदलने से सीवी के साथ ही आपका इंप्रेशन भी ख़राब होता है.

8. आपकी क्षमता
अपनी क्षमता और कमियों के बारे में आपको अच्छी तरह पता होना चाहिए, दूसरों के कहने या बिना सोचे-समझे किसी काम की हामी न भरें.

और भी पढ़ें: कैसे हैंडल करें झगड़ालू कलीग्स को?

Poonam Sharma :
© Merisaheli