कैसे हैंडल करें झगड़ालू कलीग्स को? (How to handle short tempered colleague)

Businessman shouting through bullhorn at co-workers

आजकल नौकरी मिलने से ज़्यादा मुश्किल है, नौकरी में बने रहना. इसके कई कारण होते हैं. कभी ऑफिस मैनेजमेंट का एक तरफ़ा होना, कभी हायर अथॉरिटी लेवल का ठीक तरह से ऑफिस पर नज़र न रखना, जिन लोगों के हाथ में बॉस ने कमान दी है, उनका पार्शल होना और इन सब के साथ एख ऐसा कलीग, जो सही तरह से आपको काम करने नहीं देता. उसका व्यवहार कभी-कभार हैंडल करना बहुत मुश्किल हो जाता है. ऐसे ऑफिस माहौल में काम करना बहुत मुश्किल हो जाता है. कैसे करें ऑफिस में मैनेज जब पाला पड़ जाए झगड़ालू कलीग से? आइए, जानते हैं.

उससे बचने की कोशिश
सबसे पहला मूलमंत्र है कि आप उससे बचने की कोशिश करें. अपने काम से काम रखें और उसके मुंह न लगें. ग़लती से भी अगर आप दोनों को एक ही काम सौंपा गया है, तो इससे परेशान न हों और अपने हिस्से का काम पूरा करके रिपोर्ट उस कलीग को दे दें. उसे बता दें कि आपने अपनी तरफ़ से काम पूरा कर लिया है. कभी भी उसे मौक़ा न दें. उदाहरण के लिए आप दोनों को दिए गए काम में अगर आपने ज़रा भी देरी की, तो उसका ग़ुस्सा आप पर फूट सकता है. ऐसे लोगों के पास दिमाग़ थोड़ा कम होता है. उन्हें ऐसा लगता है कि ऑफिस का सारा काम उन्हीं के ज़िम्मे है और बाकी लोग आराम फरमा रहे हैं. इसलिए हमेशा समय से पहले ही काम कर लें.

प्लीज़ मेंटेंन द गैप
अक्सर आपने गाड़ियों के पीछे ये लिखा हुआ देखा होगा. ये इसलिए लिखा होता है कि हो सकता है कि गाड़ी अचानक ब्रेक लगा दे और आपको नुक़सान पहुंचे. ऑफिस में हर तरह के लोग होते हैं. उनसे उलझने की ग़लती न करें. हो सकता है कि आपकी आदत भी कई लोगों को अच्छी न लगती हो. हर इंसान एख जैसा नहीं होता. ऐसे में उसकी बुराई करना या बार-बार उससे उलझने की ग़लती करना आप पर भारी पड़ सकता है. जितना हो सके ऐसे लोगों से दूरी मेंटेन करें.

नो गॉसिप प्लीज़
8 घंटे की ऑफिस शिफ्ट में किसी से आपकी बहुत बनने लगती है, तो कोई आपको ज़रा भी अच्छा नहीं लगता. अपने क्लोज़ कलीग से आप ऑफिस के दूसरे लोगों की बुराई भी करते हैं. ये चल जाता है, लेकिन जो व्यक्ति शॉर्ट टेंपर्ड है, उससे भूलकर भी ऑफिस के दूसरे कलीग, ख़ासतौर पर बॉस के बारे में गॉसिप न करें. जब आपसे वो किसी बात पर उलझेगा, तो लाज़मी है कि वो सारी बातें खुलकर कह दे. इससे ऑफिस में आपकी इंसल्ट हो सकती है.

ख़ुद पर करें कंट्रोल
झगड़ालू लोगों से भगवान ही बचाएं. ख़ुदा न खास्ता अगर ऐसे लोगों से किसी बात पर उलझ भी गए हों, तो तुरंत ख़ुद को संभालें. उसकी तरह आप भी अपना कंट्रोल न खोएं. उसे जितना चिल्लाना हो, चिल्लाने दें. आप उसकी तरह बिल्कुल भी बिहेव न करें. तुरंत अपनी जगह आएं और बैठ जाएं, अगर ऑफिस में रहने का मूड नहीं है, तो 5 मिनट के लिए लू चले जाएं.

मिक्सअप न हों
वैसे ऑफिस में आपको एक गैप हर किसी से मेंटेन करना चाहिए, लेकिन ये संभव नहीं हो पाता. हर किसी से दूरी बनाना मुश्किल होता है, लेकिन इतना तो आप कर ही सकते हैं कि झगड़ालू कलीग से मिक्सअप न हों. उससे अपनी पर्सनल बातें शेयर न करें. उसकी पर्सनल बातों में दिलचस्पी न दिखाएं.

डरें नहीं
ऐसा अक्सर होता है कि झगड़ालुओं के मुंह कोई लगना नहीं चाहता, लेकिन इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं है कि आप उससे डर जाएं. आप अगर सही हैं, तो ऑफिस में भूलकर भी उससे डरने की ग़लती न करें. अपनी बात सही तरह से रखें. आपके डरने से वो आप पर और हावी हो जाएगा और ऑफिस में लोग ये समझेंगे कि ग़लती आपकी ही है.

प्यार से समझाएं
ज़रा याद कीजिए उन हैप्पी मोमेंट को, जब आप लोगों के साथ वो झगड़ालू कलीग भी हंसकर बातें करता है और लंच बॉक्स शेयर करता है. इसका मतलब ये है कि उसके भीतर भी एक अच्छा इंसान है. बस, वो अपना आपा जल्दी खो देता है और ख़ुद पर क़ाबू नहीं रख पाता. इस बात को आप समझें और जब वो शांत हो जाएं, तो उसे प्यार से समझाएं. उसकी ग़लती का उसे एहसास दिलाएं. इससे वो समझेगा और माफ़ी मांगेगा.

श्वेता सिंह