इन 10+ बीमारियों से आराम दिलाती है अजवाइन (Amazing Benefits Of Ajawain)

अजवाइन (Amazing Benefits Of Ajawain) न स़िर्फ खाने का स्वाद बढ़ाती है, बल्कि इसके छोटे-छोटे बीजों में ऐसे गुणकारी तत्व मौजूद हैं जो हमें कई बीमारियों को दूर करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. जी हां, अजवाइन सर्दी-जुक़ाम, बहती नाक और ठंड से निजात पाने की अचूक दवा है. इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट्स और जलनरोधी तत्व पाए जाते हैं, जो न सिर्फ़ छाती में जमे कफ़ से छुटकारा दिलाते हैं, बल्कि सर्दी और साइनस में आराम देते हैं. जानिए अजवाइन की मदद से आप विभिन्न रोगों से कैसे निजात पा सकते हैं?


पेटदर्द
पेट में दर्द हो तो अजवायन को गुड़ के साथ खाकर ऊपर से पानी पीएं. इससे पेट के दर्द से राहत मिलती है. इसी तरह अजवायन, काला नमक तथा हींग तीनों को पीसकर रख लेंं. जब भी पेट में दर्द हो, एक ग्राम चूर्ण दिन में दो बार गर्म पानी के साथ लें, तुरंत आराम मिलेगा.
कमरदर्द
100 ग्राम अजवायन का चूर्ण और 100 ग्राम गुड़ दोनों को एक साथ मिलाकर रख लें. 5 से 7 ग्राम चूर्ण सुबह-शाम सेवन करने से कमर का दर्द दूर होता है.
गैस
भोजन करने के बाद पेट में गैस बनने की शिकायत हो, पेट में भारीपन हो, खट्टी डकारें आती हों या पेट में गुड़गुड़ाहट हो तो तीन ग्राम अजवायन और दो ग्राम खाने के सोडा की फंकी लेकर ऊपर से दो-चार घूंट गर्म पानी पीएं. दोनों समय भोजन करने के दस मिनट बाद यह प्रयोग करने से उपरोक्त सभी शिकायतें दूर हो जाती हैं.
सर्दी-जुकाम-खांसी
सर्दी, जुकाम व खांसी में पान में अजवायन डालकर खाने से सर्दी और खांसी से राहत मिलती है.
पेट के कीड़े
चार माशा अजवायन के चूर्ण को छांछ में मिलाकर सेवन करने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं.
बुख़ार
15 ग्राम अजवायन को किसी मिट्टी के बर्तन में एक कप पानी डालकर उसमें भिगो दें और छत पर रख दें. सुबह छानकर यह पानी पी जाएं. ऐसा नियमित एक सप्ताह करने से बुख़ार ख़त्म हो जाता है और शरीर में बढ़ी हुई गर्मी शांत हो जाती है. इससे रक्त की भी शुद्धि होती है.
गले में दर्द
यदि गले में दर्द हो तो अजवायन के पानी से बार-बार कुल्ले करें. इससे तुरंत राहत मिलेगी.
शिशु को दस्त
छोटे शिशुओं को प्रायः हरे-पीले दस्त की शिकायत हो जाती है. ऐसी परेशानी होने पर मां के दूध में दो से चार रत्ती साफ़ अजवायन का महीन चूर्ण दिन में तीन बार दें. इससे शिशु की दस्त की शिकायत दूर हो जाती है और वह शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करता है.
गैस
पेट में गैस की शिकायत होने पर चार ग्राम अजवायन और एक ग्राम काला नमक गर्म पानी से सेवन करना फ़ायदेमंद है.
पीरियड्स प्रॉब्लम्स (मासिक समस्या)
महिलाओं में मासिक अवरोध हो जाने पर पुराने गुड़ और अजवायन का काढ़ा पीने से गर्भाशय का मल साफ़ हो जाता है. प्रतिदिन सुबह-शाम दो बार सेवन करना चाहिए.
श्‍वेत प्रदर
50 ग्राम चूने के पानी में 4 ग्राम अजवायन रात को भिगो दें. सुबह उसे हाथ से अच्छी तरह मसलकर छानकर पीएं. ऐसा कुछ दिनों तक करने से स्त्रियों का श्‍वेत प्रदर की समस्या से राहत मिलती है.
कब्ज़
अजवायन का काढ़ा पीने से कब्ज़ की शिकायत दूर होती है और आंतों में सड़न नहीं होती.

ये भी पढ़ेंः मुंह की दुर्गंध से हमेशा के लिए निजात पाने के आसान उपाय

Shilpi Sharma :
© Merisaheli