Short Stories

मेरी सहेली की कहानी (Kahani) भावनाप्रधान, रोमांटिक (Romantic) व मर्मस्पर्शी होती हैं. ये ऐसी हिंदी कहानियां (Hindi Kahaniya) हैं, जो जीने की प्रेरणा देने के साथ-साथ हमें आत्मनिर्भर व आत्मविश्‍वासी भी बनाती हैं

काव्य- प्रेम युद्ध और मेरी मांग… (Poem- Prem Yudh Aur Meri Mang…)

हे प्रभु जब मैं तुमसे प्रेम मांगता था तब तुमने जीवन के संघर्ष के रूप में मुझे युद्ध प्रदान किया…

प्रेरक कहानी- लक्ष्य (Short Story- Lakshay)

इसी तरह काफ़ी उम्र बीत गई और ना वह धनी हो सका, ना विद्वान और ना ही एक अच्छा संगीतज्ञ…

कविता- मत करो विलाप ऐ स्त्रियों… (Poetry- Mat Karo Vilap Ae Striyon…)

मत करो विलाप ऐ स्त्रियों! कि विलापने से कांपती है धरती दरकता है आसमां भी कि सुख और दुख दो…

व्यंग्य- बडे़ साइज़ की सोच… (Satire Story- Bade Size Ki Soch…)

मैंने अक्सर कई बुद्धिजीवी प्रजाति के लोगों से सुना है कि सोच बड़ी होनी चाहिए. सुन-सुनकर मेरे पतझड़ ग्रस्त दिल…

लघुकथा- घर-ख़र्च (Laghukatha- Ghar-kharch)

“भाभी, ये भैया को दे देना. बैंक में जमा करवा देंगे. घर मे रहेंगे, तो ख़र्च ही हो जाएंगे.” पीछे…

लघुकथा- दंड संहिता (Short Story- Dand Sanhita)

क्षत्रिय को चार गुनी सज़ा मिलनी चाहिए, क्योंकि उसे शस्त्रों का ज्ञान अन्य लोगों की रक्षा करने हेतु दिया गया…

लघुकथा- बेज़ुबान (Short Story- Bejuban)

"अब आपकी उम्र पढ़ने की नहीं भगवान में ध्यान लगाने की है. भजन-कीर्तन में अपना मन लगाया कीजिए." अजय के…

व्यंग्य- डाॅगी कल्चर (Satire Story- Doggy Culture)

तुम समझती क्यूं नहीं, मैं आधुनिक युग के डाॅगी कल्चर की बातें कर रहा हूं. जहां यह डाॅगी भी घर…

लघुकथा- धरोहर (Short Story- Dharohar)

रोहन ने आम तोड़ने के लिए शाखा पकड़ी, तो ऐसा लगा जैसे मानो उसने मेरे बचपन की हथेली पर हाथ…

कविता- अधिकार के साथ (Poetry- Adhikar Ke Sath)

थक गया हूं मुझे अपनी गोद में सिर रखने दो समझदार हो गया हूं इसलिए संकोच पैदा हो गया है…

लघुकथा- पेट पोंछना (Short Story- Pet Ponchhana)

"अब साहब छोटा ही मानिए, सबसे छोटा बच्चा कभी बड़ा कहां होता है मां-बाप के लिए! हमारी अम्मा कहती हैं,…

काव्य- महिला दिवस… (Kavya- Mahila Diwas…)

कैसे मनाएंगे महिला दिवस? केक कटवाकर गुब्बारे लगाकर ख़ूब हल्ला-गुल्ला शोर मचाकर? या फिर वो शोर ढूंढ़ेंगे जो किसी की…

© Merisaheli