Happy Travelling: यात्रा के दौरान कब्ज़ से बचने के सुपर इफेक्टिव ट्रिक्स(Avoid Digestive Problems While Traveling )

क्या आपको ट्रैवलिंग के दौरान कब्ज़ की समस्या होती  है? घबराइए नहीं, आप अकेले नहीं हैं, जिसे इस परेशानी का सामना करना पड़ता है. वेकेशन कॉन्सटिपेशन एक बेहद आम समस्या है. नई जगह, नए वातावरण, नए रूटीन का हमारे पाचन तंत्र पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जिससे पेट फूलने व कब्ज़ जैसी समस्याएं होती हैं. जानिए इस समस्या से बचने के कारगर तरीक़े.

एप्पल साइडर विनेगर पीएं
यात्रा के दौरान कब्ज़ से बचने के लिए आधे ग्लास पानी में 1 टेबलस्पून एप्पल साइडर विनेगर मिलाकर खाने से पहले पीएं. इससे काफ़ी फ़ायदा होगा. यह पेट में गैस्ट्रिक जूस के प्रोडक्शन को सक्रिय करता है, जो कि पेट में मौजूद खाने को ब्रेक करने के लिए ज़रूरी है. इससे खाना पचने में आसानी होती है और पेट फूलने व कब्ज़ जैसी परेशानियां नहीं होती हैं. कभी-कभार खाना पचाने के लिए डायजेस्टिव कैप्सूल्स का सेवन भी किया जा सकता है, ख़ासतौर पर यदि आप वेकेशन के दौरान कुछ नया फूड आयटम ट्राई कर रहे हों. खाने से पहले एक कैप्सूल लेने से पेट संबंधी समस्याएं नहीं होगीं.

ये भी पढ़ेंः 7 शानदार रेस्टोरेंट्स, जिनके मालिक हैं बॉलीवुड स्टार्स

अदरक की चाय का सेवन करें
एयर ट्रैवल या ट्रेन से यात्रा करते समय अदरक की बिना दूध वाली चाय पीएं. बाज़ार में जिंजर टी बैग्स आसानी से मिल जाते हैं. आप इन्हें साथ में कैरी करें और जितना हो सके इनका सेवन करें. अदरक शरीर से सुस्ती को ख़त्म करता है, रक्त संचार को बढ़ाता है, शरीर को हाइड्रेट रखता है और पैर के सूजन को भी कम करता है. इसके अलावा यदि आप एकदम नई जगह में जा रहे हैं तो कुछ दिन बॉडी को एडजस्ट करने के लिए ख़ूब सारी सब्ज़ियां और फल का सेवन करें. जब भी आपको थोड़ा रिलैक्स होने का टाइम मिले. पीठ के बल लेट जाएं और घुटनों को पेट के पास ले आकर दोनों हाथों से (हग करें) दबाएं. पेट को दबाने से आंत सक्रिय होती है. जिससे मोशन आसानी से पास होता है.
 मैग्निशियम सिट्रेट की टैब्लेट लें
यात्रा के दौरान पेट की परेशानी से बचने के लिए मैग्निशियम सिट्रेट कैरी करें. यह पाउडर और टेब्लेट दोनों रूपों में उपलब्ध है. यह तुरंत असर दिखाता है. मैग्मिशियम सेंट्रल नर्वस सिस्टम को रिलैक्स करता है, जिससे मसल्स भी रिलैक्स होते हैं और पाचन तंत्र भी सुचारू रहता है. इसका सेवन करने से पेट फूलने की समस्या नहीं होती.
 मालिश करें
यात्रा के दौरान स्पा या मसाज सेंटर जाकर बॉडी की मालिश कराना तो मुमकिन नहीं होता. ऐसे में ख़ुद से मालिश करके आप इसका अधिकतम फ़ायदा उठा सकते हैं. रीठ की हड्डी के ठीक नीचे एक्युप्रेशर प्वॉइंट होता है. जहां मसाज करने से कब्ज़ की समस्या नहीं होती. इसके लिए मोज़े में दो टेनिस बॉल्स डालकर बांध दें. ध्यान रहें बॉल्स एकदम सटे होने चाहिए. बॉल को रीढ़ की हड्डी के ऊपर रखकर लंबी सांसें लेते हुए धीरे-धीरे घुमाएं. कब्ज़ के लिए दूसरा एक्युपंचर प्वॉइंट नाभि के तीन उंगली नीचे होता है. नाभि के नीचे तीन उंगली की जगह छोड़कर उंगली की मदद से पेट को दबाएं और 30 सेकेंड तक होल्ड करें. बहुत जोर से प्रेशर न डालें. इससे कब्ज़, गैस के साथ-साथ पेट दर्द से भी आराम मिलता है. 

वात को नियंत्रित रखें
आर्युवेद में वात दोष को बहुत बड़ा दोष माना जाता है. शरीर में जब वात बढ़ जाता है तो बहुत तरह की परेशानियां होती है. यात्रा के दौरान वात संबंधी समस्या बढ़ने की आशंका ज़्यादा होती है. ट्रेन इत्यादि में सफर के दौरान अक्सर हम बोरियत मिटाने के लिए मुंह चलाते रहते हैं. इसका पेट पर बुरा प्रभाव पड़ता है. इससे बचने के लिए थोड़ा कम खाएं. पेट को ठीक रखने के लिए हींगवास्तक चूर्ण का सेवन कर सकते हैं. इसमें हींग, अदरक, अजमोद और काली मिर्च का मिश्रण होता है, जो हमारे पाचन तंत्र को सुचारू रखता है. इसके लिए आधा टीस्पून चूर्ण को पानी में मिलाकर पी जाएं. आपका पेट बिल्कुल अच्छा रहेगा.  
 पैक्ड फूड खाने से बचें
प्लेन और ट्रेन में मिलनेवाले पैक्ड फूड का सेवन करने से कब्ज़ होने की आशंका होती है. अतः जितना मुमकिन हो, इससे बचने की कोशिश करें. घर से हल्का-फुल्का फूड आयटम्स कैरी करने की कोशिश करें. यदि ऐसा मुमक़िन नहीं हो तो बेहतर होगा कि आप ट्रैवलिंग करते समय लिक्विड व फ्रूट्स पर ज़्यादा से ज़्यादा सेवन करें. बहुत हैवी खाने से बचें. रूटीन गड़बड़ होने पर भी पेट संबंधी समस्याएं होती हैं. इससे बचने के लिए हो सके तो अपने नियमित समय पर ही खाने की कोशिश करें. खाना स्किप करने की ग़लती न करें.
चाय-कॉफी का सेवन कम से कम करें
हम यह नहीं कह रहे हैं कि चाय-कॉफी एकदम छोड़ दें. लेकिन वेकेशन मज़े लेने के लिए होता है. ऐसे में बीमार होकर होटल में रूकने से बेहतर है कि अपनी आदतों पर थोड़ा कंट्रोल करके छुट्टियों का आनंद उठाया जाए. इसके लिए चाय-कॉफी का सेवन घटाकर पानी पीने की मात्रा बढ़ा दें.
प्रोबायोटिक लें
हमारे मल में बैक्टीरिया होते हैं, जो पानी का रिटेन करते हैं जिससे मल मुलायम होता है. अगर आप कब्ज़ की समस्या हो रही है तो प्रोबायोटिक या प्रोबायोटिक युक्त फूड्स इत्यादि का सेवन करें. ट्रिप पर निकलने से पहले और ट्रिप के दौरान प्रोबायोटिक का सेवन करने से आपको पेट संबंधी समस्या नहीं होगी.

ये भी पढ़ेंः 12 स्मार्ट पैकिंग ट्रिक्स

Shilpi Sharma :
© Merisaheli