पोस्ट ऑफिस की नई स्कीमः फ्रेंचाइज़ी बनकर घर बैठे कमाएं पैसे (Be A Franchise Of Post Office And Earn Handsome Monthly Income)

पैसे अगर आप कम पढ़े-लिखे हैं, बेरोज़गार हैं या कुछ अतिरिक्त करना चाहते हैं, तो अब आपको ज़्यादा परेशान होने की ज़रूरत नहीं. पोस्ट ऑफिस से जुड़कर अब आप अच्छी-खासी कमाई कर सकते हैं. भारतीय पोस्ट विभाग ने एक फ्रेंचाइज़ी मॉडल की शुरूआत की है, जिससे जुड़कर आप भी अपने बिज़नेस की शुरुआत कर सकते हैं.

क्या है इंडियन पोस्ट डिपार्टमेंट का फ्रेंचाइज़ी मॉडल?

पोस्ट विभाग की नई स्कीम के तहत आम लोगों को फ्रेंचाइज़ी खोलने के लिए इनवाइट किया जाता है. इसमें व्यक्ति से लेकर ऑर्गनाइज़ेशन या इंस्टीट्यूशन भी फ्रेंचाइज़ी से जुड़ सकते हैं. अगर आपका पहले से ही कोई बिज़नेस है, तब भी आप इस फ्रेंचाइज़ी के लिए आवेदन कर सकते हैं.

कैसे और क्यों हुई शुरुआत?

बेसिक पोस्टल सुविधाएं अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाना ही पोस्ट विभाग की ज़िम्मेदारी है. हालांकि भारतीय पोस्ट विभाग का नेटवर्क दुनियाभर में सबसे बड़ा नेटवर्क है और देशभर में इसके 1 लाख 55 हज़ार ब्रांचेज़ हैं. फिर भी देश में और पोस्ट ऑफिस की ज़रूरत महसूस की जा रही है. इसी ज़रूरत को पूरा करने के लिए पोस्टल विभाग ने फ्रेंचाइज़ी स्कीम की शुरुआत की है. पोस्टल विभाग ने दो तरह की फ्रेंचाइज़ी शुरू की है-

1. फ्रेंचाइज़ी आउटलेट

2. पोस्टल एजेंट

1. फ्रेंचाइज़ी आउटलेट- इस स्कीम के तहत स़िर्फ काउंटर सेवाएं ही दी जाती हैं. डिलीवरी और स्थानांतरण संबंधी सेवाएं विभाग ही देखता है.

  •  फ्रेंचाइज़ी द्वारा डाक टिकट और अन्य स्टेशनरी की बिक्री की जा सकती है.
  • स्पीड पोस्ट, मनीऑर्डर, ई पोस्ट और अन्य दस्तावेज़ों की बुकिंग आदि सेवाएं दी जा सकती हैं. रेवेन्यू स्टैम्प, सीआरएफ स्टैम्प की बिक्री.
  • हालांकि भविष्य में इसमें और भी सेवाएं शामिल करने की योजना है.
  • इस स्कीम के तहत कोई भी व्यक्ति, संस्थान या कोई अन्य ईकाई, जैसे- दुकान, पानवाला, किराना स्टोर या स्टेशनरी स्टोरवाला आवेदन कर सकता है, चाहे वो शहर से हो या गांव से. इसी तरह कॉलेज, यूनिवर्सिटीज़, औद्योगिक केंद्र, शहरी टाउनशिप भी इस फ्रेंचाइज़ी की तरह काम कर सकते हैं.
  • कोई व्यक्ति भी इस स्कीम से जुड़कर पैसे कमा सकता है. इसके लिए बस डाक विभाग में और उस व्यक्ति या संस्थान के बीच एक एग्रीमेंट होता है.
  • आवेदन करनेवाले की उम्र कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए. साथ ही उसका कम से कम आठवीं पास होना भी ज़रूरी है.
  • सिक्योरिटी डिपॉज़िट के रूप में उन्हें अ 5,000 की एनएससी (नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट) जमा करनी होगी, जो औसतन दैनिक रेवेन्यू के आधार पर बढ़ भी सकता है.

2. पोस्टल एजेंट 

  • पोस्टल एजेंट का चुनाव भी आवेदन फॉर्म भरने के बाद ही किया जाता है.
  • पोस्टल एजेंट सिलेक्शन का मक़सद है डाक टिकट और अन्य स्टेशनरी लोगों तक आसानी से उपलब्ध कराना.
  • सिलेक्शन के बाद उन्हें एक पहचान-पत्र दिया जाता है.
  • बाकी वही सारी शर्तें और सेवाएं लागू होंगी, जो फ्रेंचाइज़ी आउटलेट के लिए हैं.
  • बस, इनके लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता की आवश्यकता नहीं है.
  • साथ ही इन्हें कोई एग्रीमेंट साइन नहीं करना होता है और न ही कोई सिक्योरिटी डिपॉज़िट करने की ज़रूरत होती है.

और भी पढ़ें: बैंक मित्र बनकर बैंकिंग में बनाएं करियर

कैसे करें अप्लाई?

अगर आप ये फ्रेंचाइज़ी लेना चाहते हैं, तो अपने शहर के मुख्य पोस्ट ऑफिस जाकर पूरी जानकारी लें. यहां आपको एक एप्लीकेशन फॉर्म भरकर देना होगा. एप्लीकेशन मिलने के 14 दिनों के अंदर डिविज़नल हेड द्वारा सिलेक्शन किया जाएगा. ध्यान रखें कि फ्रेंचाइज़ी खोलने की अनुमति ऐसी ग्राम पंचायतों को नहीं मिलेगी, जहां पंचायत संचार सेवा योजना के तहत पंचायत सेवा केंद्र मौजूद हैं. सिलेक्शन हो जाने के बाद आप अपना अकांउट ऑनलाइन ऑपरेट कर सकते हैं.

कौन नहीं ले सकता फ्रेंचाइज़ी?

पोस्ट ऑफिस के कर्मचारी के परिवार के सदस्य उसी डिवीज़न में फ्रेंचाइज़ी नहीं ले सकते, जहां वे काम कर रहे हैं.

कितने इन्वेस्टमेंट की ज़रूरत होगी?

इसके लिए आपको ज़्यादा पैसों की ज़रूरत नहीं है. बस आपको अ 5,000 सिक्योरिटी के तौर पर डिपॉज़िट करना होगा. इसके अलावा आपको अ 1-2 लाख का इन्वेस्टमेंट करना होगा, जिसमें आपको पोस्ट ऑफिस के प्रोडक्ट्स ही ख़रीदने होंगे. साथ ही आपको हर महीने लगभग अ 50,000 का बिज़नेस करना होगा.

कैसे होगी कमाई?

पोस्टल सर्विसेस पर कमीशन से आप अच्छी-ख़ासी कमाई कर सकते हैं. विभाग द्वारा तय किए गए मानदंडों के अनुसार-

  • रजिस्टर्ड आर्टिकल्स की बुकिंग पर अ 3 कमीशन.
  • स्पीड पोस्ट की बुकिंग पर अ 5.
  • 100 से 200 के मनीऑर्डर की बुकिंग पर अ 3.50, 200 से ज़्यादा के मनीऑर्डर पर अ 5 का कमीशन मिलेगा.
  • हर माह 1000 से ज़्यादा रजिस्ट्री और स्पीड पोस्ट की बुकिंग करनेवाले फ्रेंचाइज़ी को 20 प्रतिशत अतिरिक्त कमीशन मिलेगा.
  • पोस्टेज स्टैम्प, पोस्टल स्टेशनरी और मनीऑर्डर फॉर्म की बिक्री पर सेल अमाउंट का 5 प्रतिशत.
  • रेवेन्यू स्टैम्प, सेंट्रल रिक्रूटमेंट स्टैम्प्स आदि की बिक्री समेत अन्य रिटेल सर्विसेज़ पर पोस्टल विभाग को हुई कमाई का 40 प्रतिशत.तो आप भी आज ही अपने शहर के पोस्ट ऑफिस को विज़िट करें और फ्रेंचाइज़ी से जुड़कर अपना बिज़नेस शुरू करें.                               
और भी पढ़ें: जमकर करें अपने काम की मार्केटिंग

                                                                                            – श्रेया तिवारी

Poonam Sharma :
© Merisaheli