Entertainment

‘मुझे देते हैं ढेर सारी गालियां और परिवार की मिलती हैं धमकियां, लोगों को लगता है कि मैं ही बिग बॉस हूं, पर मैं सिर्फ़ एक आवाज़ हूं…’ बोले बिग बॉस के नैरेटर विजय विक्रम सिंह (Bigg Boss Narrator Vijay Vikram Singh Reveals He Gets Threats And Faces Abuse After Eliminations, Deets Inside)

बिग बॉस जितना एंटरटेनिंग है, इतना ही कंट्रोवर्शियल. बिग बॉस के घर में आनेवाले कंटेस्टेंट और उनके विवाद जितना सुर्ख़ियां बटोरते हैं, उतनी ही पॉप्युलर है बिग बॉस कि आवाज़ भी. लेकिन शो को आवाज़ देना वॉइस ओवर आर्टिस्ट, एक्टर और नैरेटर विजय विक्रम सिंह को काफ़ी भारी पड़ रहा है.

एक मीडिया पोर्टल को दिए इंटरव्यू में विजय ने अपना दर्द साझा किया. उन्होंने बताया कि किस तरह उन्हें ऑनलाइन ट्रोलिंग और एब्यूज़ झेलना पड़ता है. विजय बोले- जब लोगों के फ़ेवरेट और शो के पॉप्युलर कंटेस्टेंट आउट हो जाते हैं तो मुझे गालियां पड़ने लगती हैं, क्योंकि लोगों को लगता है कि मैं ही बिग बॉस हूं, जबकि मैं सिर्फ़ शो का नैरेटर हूं और अपना जॉब कर रहा हूं.

इतना ही नहीं मुझे ढेर सारी गलियों के अलावा मेरे परिवार को भी धमकियां मिलती हैं. लोगों को कौन समझाए कि मैं महज़ एक आवाज़ हूं और शो के कंटेस्टेंट से जुड़े फ़ैसले मैं नहीं लेता. पब्लिक वोटिंग के आधार पर उनको आउट किया जाता है.

विजय ने यह भी बताया कि शो में दो आवाज़ें हैं. मैं दर्शकों से बातचीत करता हूं और उनको शो में जो घटनाएं होती हैं वो नैरेट करता हूं और समय बताता हूं, जबकि शो में कंटेस्टेंट के साथ बातचीत कोई और करता है. वो दूसरी आवाज़ है, लेकिन लोग मेरी इस बात का भी यक़ीन नहीं करते.

हालांकि उस दूसरी आवाज़ के बारे में विक्रम ने कोई जानकारी साझा नहीं की और कहा कि उनको ख़ुद नहीं पता कि ये किसकी आवाज़ है, लेकिन जो कोई भी हो हम अपना काम कर रहे हैं पर बावजूद इसके हमें ऑनलाइन ट्रोलिंग तो झेलनी ही पड़ती है पर हमारे परिवार को भी भला-बुरा कहा जाता है.

Geeta Sharma

Recent Posts

फिल्म समीक्षा: स्पोर्ट्स थ्रिलर एक्शन से भरपूर
‘क्रैक- जीतेगा तो जिएगा’ (Movie Review- Crakk- Jeetegaa Toh Jiyegaa)

पहली बार हिंदी सिनेमा में इस तरह की दमदार एक्शन, रोमांच, रोगंटे खड़े कर देनेवाले…

February 25, 2024

कहानी- अलसाई धूप के साए (Short Story- Alsai Dhoop Ke Saaye)

उन्होंने अपने दर्द को बांटना बंद ही कर दिया था. दर्द किससे बांटें… किसे अपना…

February 25, 2024

आईची शेवटीची इच्छा पूर्ण करण्यासाठी शाहरुखने सिनेमात काम करण्याचा घेतला निर्णय (To fulfill mother’s last wish, Shahrukh decided to work in cinema)

90 च्या दशकापासून आतापर्यंत शाहरुख खानची मोहिनी तशीच आहे. त्याने कठोर परिश्रम करून स्वत:ला सिद्ध…

February 25, 2024
© Merisaheli