Categories: ParentingOthers

कैसा हो 0-3 साल तक के बच्चे का आहार? (Diet For Infants)

  मां के गर्भ से बाहर आते ही नन्हा-सा शिशु स्वतंत्र आहार पर निर्भर हो जाता है. उसे क्या आहार दिया जाए, यह अत्यंत महत्वपूर्ण…

 

मां के गर्भ से बाहर आते ही नन्हा-सा शिशु स्वतंत्र आहार पर निर्भर हो जाता है. उसे क्या आहार दिया जाए, यह अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह आहार उसके पूरे जीवन को प्रभावित कर सकता है. निम्न प्रकार से शिशु को आहार देना चाहिए.

* पहले चार माह तक बच्चे को केवल मां के स्तनपान (ब्रेस्ट फिडिंग) पर रखा जाना चाहिए.
* पांचवें माह से उबालकर ठंडा किया हुआ पानी पहले चम्मच से, फिर छोटी ग्लास से पिलाया जाना चाहिए.
* किसी भी उम्र में बोतल से कोई आहार नहीं पिलाना चाहिए.
* इसके बाद धीरे-धीरे निम्न पदार्थों को बच्चे के आहार में शामिल करना चाहिए.
घर में बनाई गई दलिया, रवे की खीर, चावल की फिरनी एक से दो चम्मच की मात्रा में या बच्चा जितनी मात्रा सुगमता से पचा सके, सुबह-शाम पांचवें माह में देना चाहिए.
* छठे माह में केले को दूध में मसलकर दिन में एक बार देना चाहिए.

 

यह भी पढ़े: महत्वपूर्ण हैं परवरिश के शुरुआती दस वर्ष

यह भी पढ़े: कैसे रखें बच्चों को फिट और हेल्दी?

* फिर धीरे-धीरे सेब, पपीता, चीकू, आम जैसे फलों को बच्चे के आहार में शामिल करना चाहिए.
* सप्ताह भर बाद अच्छी तरह पकाई गई सब्जियां मसलकर या मक्खन के साथ 2 से 4 चम्मच देना चाहिए.
* सातवें-आठवें महीने में दाल या खिचड़ी अच्छी तरह पकाकर एवं मसलकर दो से चार चम्मच देना प्रारंभ करें. बच्चे की रुचि के अनुसार इसकी मात्रा बढ़ाते जाएं.
* नौवें माह में गाय या भैंस का दूध ग्लास से देना प्रारंभ करें.
* मां का दूध बच्चा जब तक पीता है, जारी रखना चाहिए.
* एक वर्ष के बाद संतुलित व पूर्ण आहार, बच्चा जितना इच्छा से खा सके, खिलाना चाहिए.
इस तरह का आहार स्वतः ही बच्चे की सामान्य वृद्धि व वजन को नियंत्रित करता है.

 

– योजना गुप्ता

अधिक पैरेंटिंग टिप्स के लिए यहां क्लिक करेंः Parenting Guide 
Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

कहानी- ऐसा भी होता है… (Short Story- Aisa Bhi Hota Hai…)

मां ने सबसे पहले रूपा से प्रश्न किया, "अपना सारा सामान लाई हो ना? वहां…

© Merisaheli