Jeene ki kala (Motivational Stories)

क्या आप भी करते हैं दूसरों की बुराई? (How To Avoid Gossiping)

“बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो और बुरा मत कहो” गांधीजी के ये वाक्य भले ही हमने रट लिए हों, लेकिन उन्हें जीवन में उतारने की कोशिश हमने आज तक नहीं की. तो क्यों न अब इस ओर एक प्रयास किया जाए?

क्योंकि निंदा करना बुरी बात है
कुछ बातें ऐसी होती हैं, जो हमें बचपन से सिखाई जाती हैं, जैसे- झूठ बोलना पाप है, चोरी करना गलत बात है आदि. इसी तरह निंदा करना बुरी बात है यह वाक्य भी कई बार हम अपने बड़े-बूढ़ों के मुंह से सुन चुके हैं, लेकिन आश्‍चर्य इस बात का है कि आज भी हमारी सुबह और शाम पड़ोसी, रिश्तेदार व सखी-सहेली से जुड़ी निंदक बातों से शुरू और खत्म होती है. जब कि हम सब इस बात से भलीभांति अवगत हैं कि निंदा करना बुरी बात है.

निंदा करना और सुनना दोनों ही पाप है
कहते हैं, अन्याय करनेवाले और सहनेवाले दोनों ही बराबर के दोषी होते हैं. ठीक उसी तरह हिंदू वेद-पुराण के अनुसार परनिंदा करनेवाले और सुननेवाले दोनों ही पाप के समान भागीदार होते हैं. अतः अगर धार्मिक किताबों में आपकी निष्ठा है, तो अब से न ही दूसरों की निंदा करें और न ही किसी की निंदक बातों में दिलचस्पी लें.

परनिंदा से बेहतर है संतगुणों की प्रसंशा
काहू कि नहिं निन्दिये, चाहै जैसा होय।
फिर फिर ताको बन्दिये, साधु लच्छ है सोय॥
संत कबीर दासजी कहते हैं कि भले ही कोई व्यक्ति कितना भी बुरा हो, परंतु उसकी निंदा न करें, क्योंकि इससे स़िर्फ समय की बर्बादी होती है और कुछ नहीं, इसलिए अच्छा यह होगा कि आप अपना समय उन लोगों की प्रशंसा में व्यतीत करें, जो स्वभाव से सरल हों, जिनके भीतर साधू के लक्षण विद्यमान हों अथवा जो सतगुणों की खान हों.

यह भी पढ़ें: भावनाएं भी चुराती हैं ख़ूबसूरती

 

परनिंदा से केवल समय की बर्बादी होती है
यह बात सौ आने सच है कि परनिंदा से केवल समय की बर्बादी होती है और कुछ नहीं, क्योंकि आप जिस व्यक्ति की निंदा करते हैं, उसे इस बात की ख़बर तक नहीं होती कि आप उसके बारे में यूं भला-बुरा कह रहे हैं, नतीजतन वह व्यक्ति तो अपने काम में मस्त रहता है, परंतु उस वक्त उसकी निंदा करने के चक्कर में आपके काम पर अल्पविराम लग जाता है, इसलिए अब से अपना बेशक़ीमती समय दूसरों की निंदा में बर्बाद करने की बजाय अपने काम में मन लगाएं.

परनिंदा से पहले करें स्वयं का परीक्षण
जब हम दूसरों की तरफ एक उंगुली दिखाते हैं, तब हम ये भूल जाते हैं कि बाकी बची चार उंगुलियां हमारी ओर इशारा करती हैं. अर्थात जब हम फलाना व्यक्ति को एक उंगली से परिभाषित करते हैं, तो उस वक्त हमारी चार उंगलियां हमें परिभाषित कर रही होती हैं. इसका मतलब आप उस व्यक्ति से ज़्यादा अवगुणी हैं. अतः किसी और पर दोषारोपण करने से पहले अपने गुण-दोष का परिक्षण करें और ख़ुद से पूछें कि क्या आप दूसरों की निंदा करने के लायक हैं? और उत्तर मिलने के बाद ही किसी की निंदा करें या सुनें.

यह भी पढ़ें: दिशा वाकाणी, सरगुन मेहता, अनूप सोनी, रवि दुबे की तरह आप भी साकार करें अपने सपने 
Kamla Badoni

Share
Published by
Kamla Badoni

Recent Posts

आपल्या मनाप्रमाणे जीवन जगूया म्हणत श्रृती हासनने सुरू केली कोटो कम्युनिटी (Actress Shruti Haasan Unveils Her New Photo Series ” Let’s Live  Our Life As We Wish”)

अभिनेत्री श्रृती हासन ही अत्यंत स्पष्ट आणि परखड मते मांडणारी अभिनेत्री म्हणून प्रसिद्ध आहे. अभिनयासोबतच…

January 22, 2024

प्रसिद्ध अभिनेता सैफ अली खानच्या गुडघ्याला अन् खांद्याला मोठी दुखापत, रुग्णालयात दाखल (Saif Ali Khan Hospitalized )

बॉलीवूडचा प्रसिद्ध अभिनेता सैफ अली खानला तातडीनं रुग्णालयात दाखल करण्यात आले आहे. सैफच्या बाबत समोर…

January 22, 2024

सैफ अली खान हुए कोकिला बेन अस्पताल में दाखिल, घुटने और कंधे में हुआ फ्रैक्चर (Saif Ali Khan Admitted In Kokilaben Hospital For Knee And Shoulde Fracture)

बॉलीवुड एक्टर सैफ अली खान को आज सुबह कोकिलाबेन अस्पताल में दाखिल कराया गया है.…

January 22, 2024

कहानी- कायाकल्प (Short Story- Kayakalp)

मेरा मन अभी तक यह स्वीकार नहीं कर पा रहा है कि अब वृंदा मुझसे…

January 22, 2024
© Merisaheli