Categories: FILMEntertainment

राखी सावंत चाहती हैं सोनू सूद या सलमान खान को देश का प्रधानमंत्री बना देना चाहिए, क्योंकि असली हीरो तो यही हैं! (Rakhi Sawant Wants Salman Khan Or Sonu Sood To Be Prime Ministers Of India)

राखी सावंत जो भी करती हैं और जो भी कहती हैं वो खबर ना बने ऐसा हो नहीं सकता! कोरोना की दूसरी लहर ने हर…

राखी सावंत जो भी करती हैं और जो भी कहती हैं वो खबर ना बने ऐसा हो नहीं सकता! कोरोना की दूसरी लहर ने हर किसी को हिला के और डरा के रख दिया, ऐसे में कई बॉलीवुड सेलेब्स लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं और सोनू सूद तो हमेशा की ही तरह सबसे आगे हैं!

पिछले साल लॉकडाउन के जहां उन्होंने लाखों मज़दूरों को अपने खर्चे से उनके घर व गाँवतक पहुँचाया, कई लोगों का इलाज करवाया और अब भी करवा ही रहे हैं, वहीं इस साल वो एक कदम आगे बढ़ कर लोगों के लिए विदेशों से ऑक्सीजन का इंतजाम करने में किए हैं. इसी तरह सलमान खान भी लोगों की मदद में पीछे नहीं, सबको खाना और ज़रूरत की चीज़ें उपलब्ध करवाने के लिए वो खुद सड़क पर उतरकर काम करने में लगे हैं. चाहे अक्षय कुमार हो, सुनील शेट्टी या अमिताभ बच्चन, सभी अपने अपने स्तर पर लोगों की मदद कर रहे हैं. ऐसे में सभी लोग सरकार और प्रशासन से ख़फ़ा भी हैं क्योंकि उनको लगता है कि सरकार दूसरी लहर को रोक सकती थी लेकिन उसकी मंशा चुनाव जीतने की ज़्यादा थी बजाय स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त करने के.

ऐसे में राखी का एक विडीओ तेज़ी से वायरल हो रहा है जिसमें वो कह रही हैं कि मैं तो कहती हूं सलमान खान या सोनू सूद को प्रधानमंत्री बना देना चाहिए. क्योंकि असली हीरो तो यही हैं. सोनू सूद कितना लव करते हैं अपने देश से, यहां के लोगों से, सलमान खान, अक्षय या अमिताभ बच्चन ये सभी अपने देश की जनता से कितना प्यार करते हैं!

इटी ने ये विडीओ जारी किया है जिसे आप इस लिंक पर देख सकते हैं-

https://www.instagram.com/p/COsJ7zlhn3m/?igshid=15c0ohmmtwh4w

Photo Courtesy: Instagram

यह भी पढ़ें: प्रियंका चोपड़ा की बहन मीरा चोपड़ा ने अपने दो भाइयों को खोया, कहा- उन्हें कोरोना ने नहीं, ख़राब स्वास्थ्य व्यवस्था और प्रशासन की नाकामी ने मारा! (‘I Lost Two Very Close Cousins Not Because Of Covid But Because The Medical Infrastructure Has Totally Crumbled Down’, Says Meera Chopra)

Share
Published by
Geeta Sharma

Recent Posts

अजवाइन का पानी वज़न घटाने के साथ शरीर को रखता है फिट और हेल्दी (Ajwain Water For Weight Loss And Other Health Benefits)

महिलाएं अजवाइन का उपयोग रसोई के मसाले के रूप में करती हैं. अजवाइन भोजन को…

पहला अफेयर: अलविदा! (Pahla Affair… Love Story: Alvida)

क्या अब भी कोई उम्मीद बाक़ी है तुम्हारे आने की? क्या अब भी कोई हल्की सी गुंजाइश बची है हमारी मोहब्बत की? क्योंआज भी हर आहट पर धड़क उठता है मेरा दिल, क्यों आज भी रह-रहकर ये महसूस होता है कि तुम हो, कहीं आसपास हीहो… लेकिन बस निगाहों से न जाने क्यों ओझल हो!  सात बरस गुज़र गए जय तुमको मेरी ज़िंदगी से गए हुए लेकिन मैं आज भी, अब भी उसी मोड़ पर रुकी तुम्हारा इंतज़ार कररही हूं… एक छोटी-सी बात पर यूं तनहा छोड़ गए तुम मुझे! मैं तो अपने घर भी वापस नहीं जा सकती क्योंकि सबसेबग़ावत करके तुम्हारे संग भागकर शादी जो कर ली थी मैंने. शुरुआती दिन बेहद हसीन थे, हां, घरवालों की कमी ज़रूरखलती थी पर तुम्हारे प्यार के सब कुछ भुला बैठी थी मैं. लेकिन फिर धीरे-धीरे एहसास हुआ कि तुम्हारी और मेरी सोच तोकाफ़ी अलग है. तुमको मेरा करियर बनाना, काम करना पसंद नहीं था, जबकि मैं कुछ करना चाहती थी ज़िंदगी में.  बस इसी बात को लेकर अक्सर बहस होने लगी थी हम दोनों में और धीरे-धीरे हमारी राहें भी जुदा होने लगीं. एक दिनसुबह उठी तो तुम्हारा एक छोटा-सा नोट सिरहाने रखा मिला, जिसमें लिखा था- जा रहा हूं, अलविदा!… और तुम वाक़ई जा चुके थे…  मन अतीत के गलियारों में भटक ही रहा था कि डोरबेल की आवाज़ से मैं वर्तमान में लौटी!  “निशा, ऑफ़िस नहीं चलना क्या? आज डिपार्टमेंट के नए हेड आनेवाले हैं…” “हां रेखा, बस मैं तैयार होकर अभी आई…” ऑफिस पहुंचे तो नए हेड के साथ मीटिंग शुरू हो चुकी थी… मैं देखकर स्तब्ध थी- जय माथुर! ये तुम थे. अब समझ मेंआया कि जब हमें बताया गया था कि मिस्टर जे माथुर नए हेड के तौर पर जॉइन होंगे, तो वो तुम ही थे. ज़रा भी नहीं बदले थे तुम, व्यक्तित्व और चेहरे पर वही ग़ुरूर!  दो-तीन दिन यूं ही नज़रें चुराते रहे हम दोनों एक-दूसरे से, फिर एक दिन तुम्हारे कैबिन में जब मैं अकेली थी तब एक हल्कीसे आवाज़ सुनाई पड़ी- “आई एम सॉरी निशा!” मैंने अनसुना करना चाहा पर तुमने आगे बढ़कर मेरा हाथ पकड़ लिया- “मैं जानता हूं, ज़िंदगी में तुम्हारा साथ छोड़कर मैंनेबहुत बड़ा अपराध किया. मैं अपनी सोच नहीं बदल सका, लेकिन जब तुमसे दूर जाकर दुनिया को देखा-परखा तो समझआया कि मैं कितना ग़लत था, लड़कियों को भी आगे बढ़ने का पूरा हक़ है, घर-गृहस्थी से अलग अपनी पहचान औरअस्तित्व बनाने की छूट है. प्लीज़, मुझे माफ़ कर दो और लौट आओ मेरी ज़िंदगी में!” “क्या कहा जय? लौट आओ? सात साल पहले एक दिन यूं ही अचानक छोटी-सी बात पर मुझे यूं अकेला छोड़ तुम चलेगए थे और अब मुझे कह रहे हो लौटने के लिए? जय मैं आज भी तुम्हारी चाहत की गिरफ़्त से खुद को पूरी तरह मुक्त तोनहीं कर पाई हूं, लेकिन एक बात ज़रूर कहना चाहूंगी कि तुमने मुझसे अलग रहकर जो भी परखा दुनिया को उसमें तुमने येभी तो जाना ही होगा कि बात जब स्वाभिमान की आती है तो एक औरत उसके लिए सब कुछ क़ुर्बान कर सकती है. तुमनेमेरे स्वाभिमान को ठेस पहुंचाई और अपनी सुविधा के हिसाब से मेरी ज़िंदगी से चले गए वो भी बिना कुछ कहे-सुने… औरआज भी तुम अपनी सुविधा के हिसाब से मुझे अपनी ज़िंदगी में चाहते हो!  मैं ज़्यादा कुछ तो नहीं कहूंगी, क्योंकि तुमने भी जाते वक़्त सिर्फ़ अलविदा कहा था… तो मैं भी इतना ही कहूंगी- सॉरीबॉस!”…

© Merisaheli