Tag: Hindit Story

कहानी- मुखौटे के भीतर (Short Story- Mukhote Ke Bheetar)

बाबूजी की वे कातर निगाहें एवं फैली हथेलियां क्या कभी भूली जा सकती हैं? “बेटा…

© Merisaheli