Others

क्यों कहते हैं ताइवान को ‘हार्ट ऑफ एशिया’? (Taiwan: why it is known as ‘Heart of Asia’?)

अपनी गगनचुंबी इमारतों के लिए विश्‍व प्रसिद्ध ताइवान अपनी प्राकृतिक छटा व सुंदरता से पर्यटकों को आत्ममुग्ध कर देता है. इस देश का समृद्ध इतिहास दुनियाभर के इतिहास प्रेमियों को अपनी ओर आकर्षित करता है. इस देश की इन्हीं विविधताओं के कारण इसे ‘हार्ट ऑफ एशिया’ कहा जाता है. आइए देखें, इस देश की कुछ ऐसी ही ऐतिहासिक व प्राकृतिक विविधताओं को.

सन मून लेक

सन मून लेक ताइवान की सबसे बड़ी और सबसे ख़ूबसूरत झील है. चारों ओर पहाड़ों से ढंकी व कोहरे के धुंध से घिरी इस झील के ऊपर से जब काले बादल तैरते हुए जाते हैं, तो लगता है, जैसे किसी चित्रकार की बेहतरीन चित्रकारी का नमूना सजीव हो उठा हो. हर साल लाखों की संख्या में लोग इस झील को देखने आते हैं. दरअसल, जब आप इस झील को पूरब की ओर से देखते हैं, तो यह सूरज के आकार की दिखाई देती है, जबकि पश्‍चिम की ओर से देखने पर इसका आकार अर्द्ध चंद्र जैसा दिखाई देता है, इसीलिए इस लेक का नाम सन मून लेक पड़ा है. दुनियाभर से नए शादीशुदा जोड़े इस झील पर अपनी नई ज़िंदगी की ख़ूबसूरत शुरुआत करने आते हैं, जिसके कारण यह ङ्गहनीमून लेकफ और ङ्गलवर्स लेकफ के नाम से भी जानी जाती है.

 

द नेशनल पैलेस म्यूज़ियम

तायपई शहर में स्थित इस म्यूज़ियम में 5000 साल पुरानी कई ऐतिहासिक धरोहर सहेजकर रखी गई हैं. इसमें हर तरह की पेंटिंग्स, दुर्लभ व मूल्यवान ऐतिहासिक दस्तावेज़, क़िताबें, मिट्टी से बनी चीज़ें, विविध कलाकृतियां, जेड और तांबे से बनी अनूठी कलाकृतियां देखने को मिलेंगी. म्यूज़ियम में रखी लगभग 6 लाख 20 हज़ार से अधिक धरोहर व नमूने दुनियाभर के पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहती हैं.

 

फो गुआंग शैन बुद्धा मेमोरियल सेंटर

आधुनिकता व प्राचीनता का संगम, पूर्व और पश्‍चिम की संस्कृति और सभ्यता की झलक लिए फो गुआंग शैन बुद्धा मेमोरियल सेंटर के मुख्य हॉल में चार स्तूप हैं, जो बोध गया के महाबोधी मंदिर की याद दिलाते हैं. भगवान बुद्ध की विशाल मूर्ति पर्यटकों को सम्मोहित कर देती है. इस सेंटर में भगवान बुद्ध की जीवनगाथा, बौद्ध धर्म को दर्शाती आर्ट गैलरीज़, फो गुआंग शैन का ऐतिहासिक म्यूज़ियम, बौद्ध धर्म से जुड़े त्योहारों आदि की मनोहर झलक देखने को मिलती है. चाइनीज़ पैलेस स्टाइल में बनी यहां की इमारतें पर्यटकों को काफ़ी लुभाती हैं. यहां मौजूद 8 पगौड़ा भगवान बुद्ध के पवित्र मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं.

तायपेई 101

दुनिया की सबसे ऊंची इमारत का ख़िताब सालों तक अपने नाम रखनेवाली तायपेई 101 ताइवान की मशहूर स्काई हाई है. 508 मीटर लंबा यह टावर ताइवान का फाइनेंशियल सेंटर है, जिसमें 101 फ्लोर हैं. हालांकि इसमें कुल 106 फ्लोर हैं, पर 5 फ्लोर अंडरग्राउंड हैं, इसलिए यह 101 के नाम से ही मशहूर है. 2003 में बना यह टावर 2004 से 2010 तक दुनिया का सबसे ऊंचा टावर रहा है. यह टावर कितना ऊंचा होगा, इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 30 किलोमीटर दूर पहाड़ियों से भी इस टावर को देखा जा सकता है. इस टावर में कुल 50 एलिवेटर्स हैं, जो 1010 मीटर/प्रति मिनट की स्पीड से चलते हैं. इस टावर में एंटी-अर्थक्वेक स्ट्रक्चर्स का इस्तेमाल किया गया है, ताकि किसी भी तरह के भूकंप के झटकों को यह आसानी से सह सके.

फोर्ट प्रोविंशिया (चिहकन टावर्स)

ताइवान के ताइनान में स्थित फोर्ट प्रोविंशिया ताइवान की सबसे पुरानी व ऐतिहासिक इमारत है. यह चिहकन टावर्स के नाम से भी प्रसिद्ध है. 1653 में पुर्तगालियों द्वारा बनवाई गई यह इमारत ताइवान के उपनिवेशवाद के समय को दर्शाती है. सन 1945 में इसका नाम बदलकर चिहकन टावर्स रख दिया गया, जो पुर्तगालियों के यहां आने से पहले इस स्थान का नाम था.

चियांग कई शेक मेमोरियल हॉल

नेशनल चियांग कई शेक मेमोरियल हॉल रिपब्लिक ऑफ चाइना के पूर्व राष्ट्रपति चियांग कई शेक की याद में बनाया गया है. ताइपेई के
ज़ोंगज़िंग ज़िले में स्थित यह ताइवान की राष्ट्रीय धरोहर है. इसमें एक लाइबे्ररी और म्यूज़ियम है, जहां चियांग कई शेक की जीवन गाथा, चीन का इतिहास, ताइवान का इतिहास और उसके विकास को देखा जा सकता है. दर्शकों के लिए यह एक सुनहरा मौक़ा होता है, जब उन्हें ताइवान के साथ-साथ चीन के इतिहास की झलक भी देखने को मिलती है.

नेशनल म्यूज़ियम ऑफ मरीन बायोलॉजी एंड एक्वेरियम

यह ताइवान के पिंगटुंग काउंटी के शेशेंग टाउनशिप में स्थित है. ताइवान की धरती व समुद्र पर पाई जानेवाली अनेक प्रजातियों को देखने और समझने का यह म्यूज़ियम एक वर्च्युअल वर्ल्ड है. इस म्यूज़ियम में तीन एक्ज़िबिट्स हैं- वॉटर्स ऑफ ताइवान, कोरल किंगडम और वॉटर्स ऑफ द वर्ल्ड. इस म्यूज़ियम में 81 मीटर लंबा अंडरवॉटर टनल मूविंग ट्रैक है, जो एशिया का सबसे लंबा अंडरवॉटर टनल है.

वॉटर्स ऑफ ताइवान

1 मिलियन गैलन पानी से बना यह टैंक हर पर्यटक को समुद्री जीवन को क़रीब से देखने का मौक़ा देता है. इसमें टच पूल्स भी हैं, जहां लोग स्टारफिश, क्रैब्स, सी कुकुंबर आदि को छूकर देख सकते हैं.

कोरल किंगडम

यहां आप कई वेरायटी के कोरल रीफ देख सकते हैं, साथ ही इसमें अंडरवॉटर टनल और डुबा हुआ जहाज लोगों को आकर्षित करता है.

वॉटर्स ऑफ द वर्ल्ड

इस एक्ज़िबिट में पर्यटकों को थ्रीडी एनिमेशन के ज़रिए समुद्री जीवन से जुड़ी कई दिलचस्प जानकारियां देखने को मिलती हैं.

नाइट मार्केट्स की चहल-पहल 

पॉप्युलर डेस्टिनेशन्स के साथ-साथ ताइवान अपने नाइट मार्केट्स के लिए काफ़ी लोकप्रिय है. दुनियाभर से लोग यहां के नाइट मार्केट्स का लुत्फ़ उठाने आते हैं. नाइट मार्केट्स में ताइवानी फूड से लेकर फैशन व स्टाइल से जुड़ी कई चीज़ें आप ख़रीद सकते हैं. ताइवान में 100 से भी ज़्यादा नाइट मार्केट्स हैं.

– अनीता सिंह

Meri Saheli Team

Recent Posts

ज्येष्ठ संगीतकार प्यारेलाल शर्माजी यांना संगीतक्षेत्रातील अविरत सेवेसाठी पद्म भूषण पुरस्कार प्रदान (Musician Pyarelal Sharma conferred with Padma Bhushan Award)

ज्येष्ठ संगीतकार प्यारेलाल रामप्रसाद शर्मा यांना राष्ट्रपतींच्या वतीने राज्य शासनामार्फत पद्म भूषण पुरस्कार प्रदान करून…

June 12, 2024

बिग बॉस 16 फेम अर्चना गौतम स्वत:च्या घरात झाली शिफ्ट, मुंबईतील घराच्या गृहप्रवेशाची झलक पाहिली का?  (Bigg Boss 16 Fame Archana Gautam Finally Moves In To Her New House)

बिग बॉस 16 फेम बबली अर्चना गौतम सध्या खुप खुश आहे. अभिनेत्री-राजकारणी अर्चना गौतमने गेल्या…

June 12, 2024

लहान मुले आणि दमा (Children And Asthma)

पालकांपैकी एकाला जरी दम्याचा आजार असेल, तर मुलांना दमा होण्याची शक्यता अधिक प्रमाणात असते. पण…

June 12, 2024

कहानी- दहलीज़: अंदर बाहर (Short Story- Dahleez: Andar Bahar)

अपनी मां की तरह ही वह भी बहुत अकेली दिखाई देती. उसके चेहरे पर अजीब…

June 12, 2024
© Merisaheli