हैरान कर देंगे हल्दी के ये चमत्कारिक फ़ायदे… (13 Health Benefits Of Turmeric)

हल्दी ही एक ऐसी जड़ है, जिसे आप सौ मर्ज की एक दवा कह सकते हैं, इसलिए इसे हेल्दी हल्दी नाम दिया गया है. आइए,…

हल्दी ही एक ऐसी जड़ है, जिसे आप सौ मर्ज की एक दवा कह सकते हैं, इसलिए इसे हेल्दी हल्दी नाम दिया गया है. आइए, इसके गुणकारी फ़ायदों के बारे में जानते हैं.

हल्दी बढ़ाती है रोग प्रतिरोधक क्षमता
हल्दी एक ऐसी संजीवनी है, जो व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर उसे बीमारियों से दूर रखती है. इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो शरीर में से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करते हैं. यह खून को साफ़ करती है. बैक्टीरिया से लड़ती है. लिवर और किडनी की अच्छी देखभाल भी हल्दी के बहुत सारे कामों में से एक है. ये दोनों ही अंग खून को साफ़ करने का काम करते हैं.

ठीक करती है बुखार
अगर किसी को बार-बार बुखार आता है, तो उसे गुनगुने पानी में हल्दी डालकर उसका घूंट- घूंट सेवन करना चाहिए. हल्दी निमोनिया, टायफाइड आदि हर तरह के बुखार से लड़ने में मदद करती है. इसलिए डेंगू के मरीज़ों को भी हल्दी के सेवन की सलाह दी जाती है. डेंगू के अलावा मलेरिया, स्वाइन फ्लू में आनेवाले बुखार से भी हल्दी छुटकारा दिलाती है.

हल्दी के फ़ायदे डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए
हल्दी एक हाइपोग्लाइसेमिक एजेंट है यानी यह खून में शर्करा की मात्रा को कम करती है. इसलिए इसके सेवन से खून में शर्करा की मात्रा कम हो जाती है, जिसका फ़ायदा टाइप टू डायबिटीज़ के मरीज़ों को होता है.

पाचन शक्ति बढ़ाती है
यह पाचन तंत्र के सारे कामों को भली-भांति संचालित करती है और भोजन के पचने की प्रक्रिया में मदद करती है. इससे व्यक्ति कब्ज़ और पेट की दूसरी गड़बड़ियों से बचा रहता है.

कम करती है स्ट्रेस
गलाकाट प्रतिस्पर्धा के इस दौर में तनाव या स्ट्रेस एक बड़ी समस्या बन चुका है. हल्दी एडप्टोजन की तरह काम करती है और मानसिक तनाव और चिंता के स्तर को कम करती है. इसकी मदद से न केवल याददाश्त बेहतर होती है, बल्कि मस्तिष्क की कार्यप्रणाली भी दुरूस्त रहती है और एकाग्रता बढ़ती है.


यह भी पढ़ें: डायबिटीज़ और इन तकलीफ़ों में बेहद फ़ायदेमंद है जामुन (20 Amazing Benefits of Eating Black Plum (Jamun)

अस्थमा में भी फ़ायदेमंद
मौसम के परिवर्तन पर ख़ासकर सर्दियों में अस्थमा के मरीज़ों को काफ़ी परेशानी होती है. ऐसे में अस्थमा के मरीज़ों को नियमित रूप से गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीना चाहिए. इससे उन्हें काफ़ी आराम मिलेगा.

गठिया में मिलेगा आराम
गठिया यानी आर्थराइटिस में न केवल जोड़ों में दर्द होता है, बल्कि चलने-फिरने में भी परेशानी होती है. हल्दी पाउडर में एंटी आर्थराइटिक गुण होते हैं, जिसकी वजह से यह जोड़ों के दर्द सहित इसके कई लक्षणों में फ़ायदा पहुंचाती है

अगर हो गया हो एनीमिया, तो करिए हल्दी का सेवन
भारतीय महिलाएं अक्सर एनीमिया यानी खून की कमी से पीड़ित रहती हैं. इससे उन्हें हर वक़्त थकान और कमज़ोरी महसूस होती है. हल्दी के नियमित सेवन से शरीर में लाल रक्त कणिकाओं की संख्या बढ़ जाती है और एनीमिया से छुटकारा मिलता है.

कम होगी पेट की चर्बी
हल्दी शरीर के उपापचय (मेटाबॉलिज़्म) को ठीक करती है, सूजन कम करती है और पाचन शक्ति बढ़ाती है. ऐसा होने से पेट के आस-पास चर्बी जमा नहीं हो पाती और आपका वज़न कम होता है.

ख़ूबसूरती बढ़ाती है
हल्दी न केवल सेहत के लिए बहुत फ़ायदेमंद है, बल्कि यह त्वचा और बालों पर भी चमत्कारी रूप से असर करती है. हल्दी को उबटन की तरह इस्तेमाल करने से चेहरे पर ग्लो आता है.

जवां रखती है हल्दी
हल्दी में एंटी एजिंग गुण होते हैं, जिसकी मदद से चेहरे से काले धब्बे, मुंहासे, बारीक लकीरें और झुर्रियां दूर की जा सकती हैं. इसके सेवन से आप ऐसी निखरी और दमकती त्वचा पा सकते हैं, जिसकी कामना हर किसी को होती है. अगर आप इसे त्वचा पर लगाते हैं तो घाव बहुत जल्दी भरते हैं. त्वचा पर लगाने के लिए हल्दी का पेस्ट बनाएं. इस पेस्ट को लगाने से त्वचा में कसावट भी आती है.


यह भी पढ़ें: विटामिन्स-मिनरल्स का ख़ज़ाना एलोवेरा कई रोगों के लिए रामबाण दवा… (20 Amazing Benefits of Aloe Vera)

बालों की समस्या भी होगी दूर
अगर आप बालों में ड्रैंडफ, बाल झड़ने या सिर की त्वचा की अन्य समस्याओं से जूझ रहे हैं, तो हल्दी पानी के सेवन से आपकी ये समस्याएं भी दूर हो जाएंगी.

दांतों की मज़बूती
दो चुटकी हल्दी और नमक दांतों पर रगड़ने से मसूड़े स्वस्थ और दांत मज़बूत होते हैं. हल्दी एक प्राकृतिक रक्त शोधक है. इसके अनेक गुण हैं.

साइड इफेक्ट्स का रखें ध्यान
वैसे तो हल्दी को नियमित रूप से इस्तेमाल करने के कोई गंभीर दुष्परिणाम अभी तक सामने नहीं आए हैं, लेकिन चूंकि यह खून में शर्करा की मात्रा कम करती है. इसलिए इस बात पर नज़र रखें कि ब्लड शुगर ज़रूरत से ज़्यादा कम न हो जाए. दो साल से छोटे बच्चों को भी बिना डाॅक्टर की सलाह हल्दी दूध न दें. अपने घर में बड़े गमले या आंगन में जहां भी उचित स्थान हो हल्दी की जड़ अवश्य लगाएं. यह बहु उपयोगी वनस्पति ही नहीं, बल्कि आयुर्वेद का अमृत और ईश्वरीय वरदान है.

पूनम पांडे

Photo Courtesy: Freepik

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

बॉलीवुड सेलेब्स जिन्होंने अपने पिता के नाम पर रखा अपने बच्चों का नाम (Bollywood celebs who named their son after father’s name)

बॉलीवुड में कई सेलेब्स ऐसे हैं, जिन्होंने न सिर्फ अपने पापा-दादा को फॉलो करते हुए…

© Merisaheli