ऑफिस स्पेस ख़रीदने के लिए उपयोगी वास्तु टिप्स… (Best Vastu tips For Buying Office Space)

हम सभी के लिए साल 2020 कई पहलुओं में अलग रहा. सभी कई उतार-चढ़ाव से गुज़रे. वर्क फ्रॉम होम का नया चलन शुरू हुआ. कई…

हम सभी के लिए साल 2020 कई पहलुओं में अलग रहा. सभी कई उतार-चढ़ाव से गुज़रे. वर्क फ्रॉम होम का नया चलन शुरू हुआ. कई विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि यह काफ़ी लंबे समय तक रह सकता है. वैसे बाज़ार के खुलने और त्योहारों के आगमन से कुछ कठिनाइयां कम हुईं. व्यवसाय धीरे-धीरे वापस सामान्य स्थिति की ओर बढ़ रहे हैं और ऑफिस फिर से शुरू हो रहे हैं. इसी के साथ ऑफिस स्पेस लेने को लेकर नए सिरे से दिलचस्पी भी पैदा हो रही है. ऐसे में वास्तु शास्त्र का प्राचीन इंडिक विज्ञान बहुत काम में आता है. वैसे भी मानव जीवन का हर पहलू वास्तु शास्त्र से प्रभावित रहा है. दरअसल, वास्तु एक स्थान पर और आसपास सकारात्मक ऊर्जाओं को समझने और संतुलित करने में मदद करता है. ऑफिस के लिए जगह ख़रीदते समय वास्तु के अनुसार किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, इसके बारे में वास्तु विशेषज्ञ डॉ. रविराज अहिरराव उपयोगी जानकारी दे रहे हैं.

  • ध्यान रहे, उत्तर में प्रवेश धन और अवसरों का एक उत्कृष्ट प्रवाह सुनिश्चित करता है, जबकि उत्तर-पूर्व आध्यात्मिकता के साथ धन सुनिश्चित करता है और पूर्व संपर्क सुनिश्चित करता है और समृद्धि से जोड़ता है.
  • अपने घर या व्यावसायिक परिसर के उत्तर-पूर्व के सामने कोई भी ऊंची इमारत, मंदिर ना हो, क्योंकि इससे धन की हानि होती है. यदि ऊंची-ऊंची इमारतें और मंदिर हैं, तो कम से कम यह सुनिश्चित करें कि उनकी छाया आपके परिसर पर न पड़े.
  • छत के दक्षिण-पश्चिम हिस्से को हमेशा उत्तर-पूर्व के हिस्से से ऊंचा रखें यानी भवन की छत को दक्षिण-पश्चिम से उत्तर-पूर्व तक ढलान देना चाहिए.
  • सुनिश्चित करें कि घर और सीमा की दक्षिण और पश्चिम की दीवारें उत्तर और पूर्व की ओर की दीवारों की तुलना में ऊंची और मोटी हों.
  • T जंक्शन या Y जंक्शन पर स्थित की गई व्यावसायिक संपत्ति न ख़रीदें.
  • एक बड़े पेड़, बिजली के ट्रांसफार्मर, फ्लाईओवर, भारी वस्तु या भारी सार्वजनिक आंदोलन के जगह में सम्पत्ति ना ख़रीदे.
  • ख़्याल रखें कि प्रत्येक स्थान वर्गाकार या आयताकार हो.


यह भी पढ़ें: वास्तु टिप्स: जल्दी अमीर बनने के लिए करें ये वास्तु उपाय (Vastu Tips For Money)

  • उत्तर-पूर्व में आध्यात्मिकता कोना और वेटिंग लॉबी सुनिश्चित करें.
  • आपके द्वारा व्यवहार किए जानेवाले उत्पाद या सेवाओं की प्रकृति के आधार पर, इसका पांच तत्वों (जल, अग्नि, पृथ्वी, वायु और आकाश) और आठ दिशाओं के साथ संबंध है. प्रवेश के लिए विभिन्न विकल्प हैं. जैसे वित्तीय सेवाओं के लिए उत्तर अनुकूल है, फार्मास्यूटिकल्स और चिकित्सा सेवा के लिए उत्तर-पूर्व का उत्तर अत्यधिक फ़ायदेमंद है. एचआर पेशे और रचनात्मकता निर्माताओं के लिए उत्तर-पूर्व सबसे अच्छा विकल्प है. इसी तरह, हर व्यवसाय और पेशे में विभिन्न विकल्प होते हैं.
  • व्यवसाय के प्रभारी व्यक्ति को दक्षिण-पश्चिम में बैठने की स्थिति प्राप्त करनी चाहिए.
  • परिसर के चयन के दिशानिर्देशों का पालन करने के बाद, दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कार्य पूरे व्यापार परिसर का आंतरिक लेआउट डिज़ाइन करना है.
  • ऑफिस के अंदरूनी हिस्सों पर भी विचार करना चाहिए. दरवाज़े के आयाम न तो बहुत बड़े होने चाहिए और न ही बहुत छोटे होने चाहिए. वास्तु शास्त्र के अनुसार, बड़े दरवाज़ों का मतलब होता है धन का रिसाव, जबकि छोटे दरवाज़े व्यापार से धन के प्रवाह को रोकते हैं. बड़े दरवाज़ों को आपकी क़िस्मत और प्रगति में रुकावट माना जा सकता है.
  • परिसर के उत्तर-पूर्व क्षेत्र में भूमिगत पानी की टंकियों, अधिकतम खुले स्थान को प्राथमिकता देना चाहिए. दक्षिण-पश्चिम में सख़्ती से बचें.
  • भवन का प्रमुख निर्माण क्षेत्र दक्षिण-पश्चिम की तरफ़ होना चाहिए.
  • जेनरेटर और अन्य बिजली के प्रकार के उपकरण हमेशा दक्षिण-पूर्व कोने में रखे जाने चाहिए.
  • सीढ़ी दक्षिण-पश्चिम की ओर होनी चाहिए और ऊपर चढ़ते समय हमेशा दक्षिणावर्त होना चाहिए.
  • बोरवेल, भूमिगत टैंक पूर्वोत्तर में होना चाहिए.
  • ओवरहेड टैंक दक्षिण पश्चिम में बनाया जाना चाहिए.
  • बड़े पेड़ों को दक्षिण और पश्चिम में विकसित किया जाना चाहिए और टेंडर प्लांट के साथ लॉन और उत्तर या पूर्व की तरफ़ बहुत पानी लगाया जाना चाहिए.
  • पूर्वोत्तर कोने में एक छोटे से मंदिर का निर्माण किया जा सकता है.
  • शौचालय का निर्माण उत्तर-पश्चिम या पश्चिमी कोने में होना चाहिए और पूर्वोत्तर कोने में कभी नहीं होना चाहिए.
  • भूमि का ढलान उत्तर या पूर्व की ओर होना चाहिए.
  • दक्षिण और पश्चिम की दीवारों की तुलना में उत्तर और पूर्व की दीवारों पर बहुत सारी खिड़कियां होनी चाहिए.


यह भी पढ़ें: टॉप 25 वास्तु टिप्स: बिना तोड़-फोड़ के कैसे दूर करें वास्तु दोष? (Top 25 Vastu Tips: Vastu Correction without Demolition)

यहां पर ना ख़रीदे, तो बेहतर है…

  • कब्रिस्तान, अस्पताल, मंदिर आदि के पास संपत्ति.
  • दक्षिण, दक्षिण-पश्चिम या पश्चिम प्रवेश के साथ संपत्ति.
  • एस से डब्ल्यू क्षेत्र पर ढलान, कट, या वॉटरबॉडी के साथ संपत्ति.
  • व्यावसायिक परिसर के उत्तर-पूर्व क्षेत्र में सीढ़ी और शौचालय.

– ऊषा गुप्ता

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

© Merisaheli