Shayeri

ग़ज़ल (Gazal)

दर्दे जिगर मुझे चाशनी में डुबोना था मैं कल ख़्वाब में तेरे दामन से लिपटकर रोया नींद और बेहोशी के…

काव्य- मशहूर होने की ख़्वाहिश… (Kavya- Mashhur Hone Ki Khwahish…)

उस दिन मैंने मशहूर होने की ख़्वाहिश छोड़ दी जिस दिन मैंने ख़्वाब को धरती पे सिमटते देखा… उस दिन…

कविता- बरखा रानी (Kavita- Barkha Rani)

बरखा रानी लगता है तुम, युगों के बाद आई हो धरती की प्यास बुझाने, कितनी ठंडक लाई हो मीठी यादें,…

#विश्‍व पर्यावरण दिवस: कविता- वन संरक्षण (#WorldEnvironmentDay: Kavita- Van Sarakshan)

वृक्षों से ही वन बनते हैं, धरती हरी-भरी करते हैं। वर्षा के कारण हैं जंगल, जिससे होता सबका मंगल। वृक्षों…

काव्य- आईने के एहसास (Kavya- Aaine Ke Ehsaas)

मैं ख्वाब देखता थातुम ख्वाब हो गए उम्मीद के शहर में तुम प्यास हो गए उम्र मेरी एक दिन लौट…

काव्य- क़ैद (Kavya- Qaid)

लो बीत गया दिन एक और चाहे जैसा गुज़रा यह दिन अब बंद हो चुका है मेरी स्मृति की क़ैद…

मदर्स डे: खूबसूरत ग़ज़ल-शायरी से मां को दें Mother’s Day Wishes (Wish your Mother with these Beautiful Ghazal-Shayari)

इस मदर्स डे मां को कराएं स्पेशल फील. उन्हें मदर्स डे विश करें खास अंदाज में, इन शेरो शायरी या…

मशहूर अदाकारा मीना कुमारी की चुनिंदा शायरी (Best Shayari Of Bollywood Actress Meena Kumari)

बहुत कम लोग जानते हैं कि मशहूर अदाकारा मीना कुमारी को शायरी का भी शौक़ था. शायरी का ये शौक़…

काव्य- कैनवास के रंग (Kavay- Canvas Ke Rang)

चित्र में रंग भर, मंत्रमुग्ध-सादेख रहा था, कैनवास कोअंदर ही अंदर मेरा दंभमुझे शाबाशी दे रहा थाऔर जैसे पूछ रहा…

कविता- सीमा (Kavita- Seema)

मेरे प्रेम की सीमा कितनी है, क्या है तुम्हें क्या पता है? बहुत छोटी हैं वो मन की रेखाएं नाराज़…

ग़ज़ल- याद तुम आए बहुत (Gazal- Yaad Tum Aaye Bahut)

जब ज़िक्र फूलों का आया याद तुम आए बहुत चांद जब बदली से निकला, याद तुम आए बहुत कुछ न…

काव्य- तुम्हारी मैं… (Kavay- Tumhari Main…)

मैं तुम्हारी हर चीज़ से प्यार करती हूं न चाहते हुए भी जैसे तुम्हारे सिगार की महक बिस्तर पर फेंकी…

© Merisaheli