Shayeri

काव्य: सिर्फ़ तुम… (Poetry: Sirf Tum…)

सर्द मौसम में सुबह की गुनगुनी धूप जैसी तुम…  तपते रेगिस्तान में पानी की बूंद जैसी तुम… सुबह-सुबह नर्म गुलाब पर बिखरी ओस जैसी तुम… हर शाम आंगन में महकती रातरानी सी तुम… मैं अगर गुल हूं तो गुलमोहर जैसी तुम…  मैं मुसाफ़िर, मेरी मंज़िल सी तुम… ज़माने की दुशवारियों के बीच मेरे दर्द को पनाह देती तुम… मेरी नींदों में हसीन ख़्वाबों सी तुम…  मेरी जागती आंखों में ज़िंदगी की उम्मीदों सी तुम…  मैं ज़र्रा, मुझे तराशती सी तुम…  मैं भटकता राही, मुझे तलाशती सी तुम…  मैं इश्क़, मुझमें सिमटती सी तुम…  मैं टूटा-बिखरा अधूरा सा, मुझे मुकम्मल करती सी तुम…  मैं अब मैं कहां, मुझमें भी हो तुम… बस तुम… सिर्फ़ तुम! गीता शर्मा

कविता- आज हमारा दिन है… (Poetry- Aaj Hamara Din Hai…)

सुनो, तुम आज मना लेना ये दिवस.. कोई टोके अगर कि बस एक ही दिन? तो कह देना, हां एक…

ग़ज़ल- इक दुआ बनती गई मेरे लिए… (Gazal- Ek Dua Banti Gai Mere Liye…)

काग़जी फूलों की हैं यह बस्तियां ढूंढ़ते फिरते हैं बच्चे तितलियां और बढ़ती जा रही हैं लौ मेरी तेज़ जितनी…

काव्य: मुहब्बत के ज़माने… (Poetry: Mohabbat Ke Zamane)

खामोशी के साये में खोए हुए लफ़्ज़ हैं… रूमानियत की आग़ोश में जैसे एक रात है सोई सी…  सांसों की हरारत है, पिघलती सी धड़कनें… जागती आंखों ने ही कुछरूमानी से सपने बुने…  मेरे लिहाफ़ पर एक बोसा रख दिया था जब तुमने, उसके एहसास आज भी महक रहे हैं… मेरी पलकों पर जब तुमने पलकें झुकाई थीं, उसे याद कर आज भी कदम बहक रहे हैं… लबों ने लबों से कुछ कहा तो नहीं था, पर आंखों ने आंखों की बात पढ़ ली थी, वीरान से दिल के शहर में हमने अपनी इश्क़ की एक कहानी गढ़ ली थी…  आज भी वोमोड़ वहीं पड़े हैं, जहां तुमने मुझसे पहली बार नज़रें मिलाई थीं, वो गुलमोहर के पेड़ अब भी वहीं खड़े हैं जहां तुमने अपनेहोंठों से वो मीठी बात सुनाई थी…  आज फिर तुम्हारी आवाज़ सुनाई दी है, आज फिर प्यार के मौसम ने अंगड़ाई ली है, तुम्हारे सजदे में में सिर झुकाए आज भी बैठा हुआ हूं, तुम्हारी संदली ख़ुशबू से मैं आज भी महका हुआ हूं…  आ जाओ किमौसम अब सुहाने आ गए, हवा में रूमानियत और मेरी ज़िंदगी में मुहब्बत के ज़माने आ गए! गीता शर्मा डाउनलोड करें हमारा मोबाइल एप्लीकेशन https://merisaheli1.page.link/pb5Z…

कविता- ईर, बीर, फत्ते और हम (Kavita- Eer, Bir, Phatte Aur Hum)

एक रहेन ईर एक रहेन बीर एक रहेन फत्ते एक रहेन हमहू ईर कहे चलो हम न्यूज़ देखी बीर कहे…

हास्य कविता- एक थकी हुई हाउसवाइफ की वैलेंटाइनी अभिलाषा… (Hasya Kavita- Ek Thaki Hui Housewife Ki Valetaini Abhilasha…)

चाह नहीं, इस हफ़्ते तुमसे मैं 'गुलाब' कोई पाऊं चाह नहीं ‘आई लव यू’ कहो, और मैं सुनकर इतराऊं चाह…

वसंत पंचमी पर विशेष- सरस्वती वंदना (Happy Vasant Panchami- Saraswati Vandna)

हे विद्यादायिनी, हे हंसवाहिनी करो अपनी कृपा अपरंपार। हे ज्ञानदायिनी, हे वीणावादिनी बुद्धि दे, करो भवसागर से पार।। हे कमलवासिनी,…

कविता- अब तुम उस खिड़की पे दिखाई नहीं देती… (Kavita- Ab Tum Us Khidki Pe Dikhai Nahi Deti…)

याद आते हैं वो दिन कभी मेरे दिन की शुरुआत ही जहां से होती थीअब तुम उस खिड़की से दिखाई…

कविता- कहां नहीं हो तुम… (Poetry- Kahan Nahi Ho Tum…)

आलमारी खोलता हूं तो करीने से तहाए हुए कपड़ों के बीच तुम्हे पाता हूं आईने में देखता हूं तो बेदाग़…

कविता- हैलो न्यू ईयर… (Kavita- Hello New Year…)

हैलो न्यू ईयर तुम फिर आ गए बड़े अजीब शख़्स हो यार हर साल टपक पड़ते हो कुछ साल पहले…

कविता- तुम्हें छूने की इजाज़त… (Poetry- Tumhe Chhune Ki Ijazat…)

कई बार तुम्हें दिल के बेहद क़रीब पाता हूं लेकिन ख़्यालों में भी तुम्हें छूने से डर जाता हूं दिल…

कविता- आईने में ख़ुद को देखना मेरी नज़र से… (Poem- Aaina Mein Khud Ko Dekhna Meri Nazron Se…)

अब अपनी आंखें खोल देना और आईने में ख़ुद को देखना मेरी नज़र से जैसे तुम्हें आईना नहीं मैं देख…

© Merisaheli