Categories: ShayeriGeet / Gazal

कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष…गीत- फिर आओ लिए कर बाँसुरिया… (Geet- Phir Aao Liye Kar Bansuriya…)

1 वसुदेव चले शिशु शीश धरे, तट तीर-लता हरषाय रहीं। चम से चमके नभ दामिनियाँ, तम चीरत राह दिखाय रहीं। तट तोड़ चलीं 'सरिता' लहरें,…

1
वसुदेव चले शिशु शीश धरे, तट तीर-लता हरषाय रहीं।
चम से चमके नभ दामिनियाँ, तम चीरत राह दिखाय रहीं।
तट तोड़ चलीं ‘सरिता’ लहरें, हरि पाद पखारन आय रहीं।
अवलोकत देव खड़े नभ में, कलियाँ बिहँसीं मुसकाय रहीं।

2
वृषभानु लली सखि संग चली, निज शीश धरे दधि की मटकी l
मग बीच मिले जसुदा ललना, झट से झटकी दधि की मटकी ll
सुन कान्हा हमे नहि भावत है, बरजोरि अरे झटको मटकी l
तुम कोप करो नहि आज सखी, नहि फोर दऊँ तुमरी मटकी ll

3
तकते-तकते थकतीं अँखियाँ, अबहूँ नहि आवत साँवरिया l
गगरी सरपे रख गोरि चली, अब लागत नाहि गुलेल पिया ll
नहि गूँजत है जमुना तट पे, प्रिय गोपिन की हँसि ओ छलिया l
अब तो विनती सुन लो रसिया, फिर आओ लिए कर बाँसुरिया ll

– अखिलेश तिवारी ‘डाली’

यह भी पढ़े: Shayeri

Photo Courtesy: Freepik

Share
Published by
Usha Gupta
Tags: poetryGeet

Recent Posts

अरबाज खान की गर्लफ्रेंड ने बांधे मलाइका के तारीफों के पुल, बोली- उन्हें मैं सलाम करती हूं (Arbaaz Khan’s Girlfriend Praised Malaika, Said- I Salute Her)

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस और डांसर मलाइका अरोड़ा किसी न किसी वजह से चर्चा में…

कहानी- मैं द्रोणाचार्य नहीं हूं… (Short Story- Main Dronacharya Nahi Hun…)

संजीव जायसवाल ‘संजय’ मास्टार दीनानाथ ने काग़ज़ देखा, तो चौंक पड़े. कल उन्होंने बच्चों को…

रात को नहीं आती है अच्छी नींद, तो बदलें लाइफस्टाइल संबंधी ये आदतें (Change Your Lifestyle Habits For Better Sleep)

दिनभर घर-परिवार, ऑफिस और बाहर की ज़िम्मेदारियां निभाने के बाद भी अगर आपको रात में…

© Merisaheli