poetry

कविता- तेरे लिए… (Kavita- Tere Liye…)

* गुज़र जानी थी ये उम्र किसी बेनाम कहानी की तरह कि बियाबान में फैली ख़ुशबू और उसकी रवानी की…

काव्य- सब प्रतीक्षारत हैं… (Kavay- Sab Pratiksharat hain…)

लॉकडाउन पर विशेष... सब प्रतीक्षारत हैं बैठे हैं वक़्त की नब्ज़ थामे कि कब समय सामान्य हो और रुके हुए…

कविता- क्यों रखा उसको पराश्रित ही… (Kavita- Kyon Rakha Usko Parashrit Hi…)

सुनो कवि.. पहाड़ी के उस पार वो स्त्री.. रोप रही है नई-नई पौध सभ्यताओं की और उधर.. गंगा के किनारे…

कविता- शब्दों से परे प्यार… (Kavita- Shabdo Se Pare Pyar…)

इस से पहले कि मैं तुम्हें आई लव यू कहने का साहस जुटा सकूं डरता हूं कहीं ये तीन शब्द…

कविता- क्यों दर्ज होती हैं ढेरों आपत्तियां… (Kavita- Kyon Darj Hoti Hain Dheron Aapttiyan?..)

मैंने भर दिया ये आकाश सारा का सारा नन्हें-नन्हें तारों से अपनी चुनरी की परवाह किए बिना.. मैंने सूरज को…

ग़ज़ल- तस्तीक़ (Gazal- Tastik)

अब न कोई शक़-ओ-शुबा है, हर ढंग से तस्तीक़ हो गई निराशाओं से लड़ने की, मेरी बीमारी ठीक हो गई…

कविता- हर प्रलय में… (Kavita- Har Pralay Mein…)

आज के हालातों में हर कोई 'बचा' रहा है कुछ न कुछ पर, नहीं सोचा जा रहा है 'प्रेम' के…

काव्य- मेरी हस्ती निसार हो जाए… (Kavya- Meri Hasti Nisar Ho Jaye…)

सांस, ख़ुशबू गुलाब की हो धड़कन ख़्वाब हो जाए उम्र तो ठहरी रहे हसरत जवान हो जाए बहार उतरे तो…

कविताएं (Poetry)

तेरी तस्वीर… मैं जहां में कुछ अनोखी चीज़ ढूंढ़ने निकला और शहर में मुझे सिर्फ़ आईना मिला जो मेरी बेबसी…

काव्य- काश! एहसास के साथ… (Kavya- Kaash! Ehsaas Ke Sath…)

काश कि कभी तुमने अपने स्कूल के बस्ते को घर लौटते वक़्त मेरे कंधे पर रक्खा होता काश कि मैंने…

कविता- बरखा रानी (Kavita- Barkha Rani)

बरखा रानी लगता है तुम, युगों के बाद आई हो धरती की प्यास बुझाने, कितनी ठंडक लाई हो मीठी यादें,…

#विश्‍व पर्यावरण दिवस: कविता- वन संरक्षण (#WorldEnvironmentDay: Kavita- Van Sarakshan)

वृक्षों से ही वन बनते हैं, धरती हरी-भरी करते हैं। वर्षा के कारण हैं जंगल, जिससे होता सबका मंगल। वृक्षों…

© Merisaheli